Home > धर्म > रामायण और रामलीला के दीवाने इस मुस्लिम देश ने मोदी सरकार से लगायी गुहार!

रामायण और रामलीला के दीवाने इस मुस्लिम देश ने मोदी सरकार से लगायी गुहार!

indonesia-ramayan

नई दिल्ली : इंडोनेशिया में दुनिया के सबसे ज्यादा मुस्लिम रहते हैं। मगर इस देश के बारे में एक ऐसी ख़ास बात है जो लोगों को नहीं पता है। वो बात है कि इंडोनेशिया के लोग ‘रामायण’ के दीवाने हैं। यहां के लोग राम को एक महान इंसान के रूप में पूजते हैं।

आइये आपको बताते हैं इंडोनेशिया के बारे में कुछ रोचक तथ्य।

१. जिस तरह भारत में राम की नगरी अयोध्या है वैसे ही इंडोनेशिया में भी राम की एक नगरी है जिसे वहां के लोग योग्या नाम से जानते हैं।

२. जैसे हिंदुओं में रामायण के प्रति आस्था है ठीक वैसे ही सबसे ज्यादा मुस्लिम आबादी वाले इस देश में मुसलमान, राम को एक महान राजा और रामायण को एक महान ग्रन्थ मानते हैं।

३. इंडोनेशिया में रामायण का प्रभाव इतना गहरा है कि यहां की सारी संस्कृति ही रामायण की पारम्परिक आस्था से जुडी हुई है। आज भी देश के कई इलाकों में रामायण के अवशेष और रामकथा की नक्काशी वाले पत्थर यहां मिलते हैं।

४. इस देश की कुल आबादी लगभग 23 करोड़ है और यहां की कुल आबादी के तक़रीबन 90% लोग मुस्लिम हैं।


५. 1973 में इंडोनेशिया सरकार नें यहां एक अंतर्राष्ट्रीय रामायण सम्मलेन आयोजित करके पूरी दुनिया को चकित कर दिया था क्योंकि विश्व में पहली बार रामायण का एक अंतर्राष्ट्रीय सम्मलेन हो रहा था वो भी एक मुस्लिम देश के द्वारा।

६. भारत में जहां लोग आदिकवि ऋषि वाल्मिकी द्वारा लिखित रामायण को मानते हैं जो संस्कृत भाषा में लिखी गयी थी, वही इंडोनेशिया में कवि योगेश्वर द्वारा लिखित रामायण को माना जाता है जो कावी भाषा में लिखी गयी थी।

७. क्या आप जानते हैं कि इंडोनेशिया में नौसेना अध्यक्ष को ‘लक्ष्मण’ कहा जाता है? जबकि माँ सीता को ‘सिंता’ और भगवान् हनुमान को ‘अनोमान’ कहा जाता है। भगवान् हनुमान तो इंडोनेशिया में सबसे ज्यादा लोकप्रिय हैं। इस बात का अंदाज़ा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि इंडोनेशिया में हर वर्ष आजादी के उत्सव में, जो 27 दिसंबर को होता है, लोग बड़ी संख्या में देश की राजधानी जकार्ता में सड़कों पर हनुमान जी का रूप धर कर परेड में सम्मिलित होते हैं।

८. इंडोनेशिया सरकार नें हाल ही में मोदी सरकार से भारत की कई जगहों पर इंडोनेशिया की रामायण पर आधारित रामलीला आयोजिय करवाने की मांग की है।

अब आपकी बारी

जहां एक ओर भारत में कुछ नेता भगवान् राम के अस्तित्व को ही नकार देते हैं, जहां अयोध्या में राममंदिर के ऊपर ही नेता सियासत करते हैं। वहीँ दूसरी ओर विश्व के सबसे अधिक मुस्लिम आबादी वाले देश में रामायण और भगवान् राम को पूजा जाता है। इस बारे में आपके क्या विचार हैं। अपनी राय आप कमेंट द्वारा शेयर कर सकते हैं।


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments