Home > ख़बरें > जाकिर नायक को लेकर हुए सबसे बड़े खुलासे से दहला पूरा देश, मुस्लिम समुदाय भी रह गया हक्का-बक्का

जाकिर नायक को लेकर हुए सबसे बड़े खुलासे से दहला पूरा देश, मुस्लिम समुदाय भी रह गया हक्का-बक्का

नई दिल्ली : विवादित इस्लामिक उपदेशक जाकिर नाइक पिछले साल सुर्ख़ियों में तब आया था, जब बांग्लादेश की राजधानी ढाका में बड़ा आतंकवादी हमला हुआ था. उस हमले में 22 लोगों की जान गयी थी. जाँच अधिकारीयों ने बताया कि आतंकवादी जाकिर नाइक से बहुत प्रभावित थे और उसकी वीडियो देखा करते थे. अभी अभी गृहमंत्रालय की रिपोर्ट आयी है जिसमें ज़ाकिर नाइक को लेकर बड़े ही चौकाने वाले खुलासे सामने आये हैं.

जाकिर ISIS के लिए काम करता था

गृह मंत्रालय की जाँच रिपोर्ट में सामने आया है कि धर्म कट्टरता की प्रचार की आड़ में ज़ाकिर नाइक बगदादी ब्रिगेड को हिंदुस्तान से आतंकी सप्लाई करने वाला मैनेजर बन गया था. ज़ाकिर नाइक के खिलाफ पिछले एक साल से अनेकों जांच एजेंसियां पड़ताल कर रही हैं. जिसमें टेरर फंडिंग से लेकर मनी लॉन्ड्रिंग तक के मामले शामिल हैं. इस जांच के घेरे में ज़ाकिर नाइक और उसकी संस्था है. गृह मंत्रालय ने एक साल की जांच के बाद पूरी रिपोर्ट तैयार की है. जिसमें ज़ाकिर नाइक के आतंकी कनेक्शन बगदादी ब्रिगेड के साथ जुड़ते दिख रहे हैं.

अभी अभी NIA, इनफोर्समेंट डायरेक्टरेट और दूसरी तमाम बड़ी एजेंसियों और पुलिस की जांच को मिलाकर एक साल में केंद्रीय गृहमंत्रालय ने ज़ाकिर नाइक के खिलाफ 115 पन्नों की रिपोर्ट तैयार की है. जिसे पिछले महीने 11 मई को आधिकारिक पर दाखिल किया गया. ये 115 पेज की रिपोर्ट के अनुसार पहली बार आधिकारिक तौर पर ये माना गया है कि ज़ाकिर नाइक के कनेक्शन आईएसआईएस से जुड़े दिख रहे हैं.

ISIS के लिए ज़ाकिर नाइक भेजता था युवा

गृह मंत्रालय की इस रिपोर्ट के मुताबिक ज़ाकिर नाइक और उसकी आर्गेनाईजेशन ने केरल में युवाओं का जबरन धर्म परिवर्तन कराया, उनमें 24 युवा आईएसआईएस के आतंकवादी बनाए गए हैं. इन 24 युवाओं का ज़ाकिर नाइक की संस्था से जुड़े लोगों ने धर्म परिवर्तन करवाया था, फिर ये आईएसआईएस ज्वाइन करने के लिए केरल से अफगानिस्तान गए. अफगानिस्तान में आईएसआईएस के लिए लड़ने के लिए ये आतंकवादी मुंबई में ज़ाकिर नाइक की संस्था इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन के दफ्तर में लगातार आना जाना लगा रहता था.धर्म के नाम पर और धर्म प्रचारक के सफेदपोश चेहरे के पीछे कट्टरपंथ और आतंकवाद का खूनी खेल खेला जा रहा था. जिसका मास्टर माइंड कोई और नहीं बल्कि ज़ाकिर नाइक था. बेस्टिन विंसेंट फ्रांसिस नाम के युवा का 12 सितंबर 2014 को धर्म परिवर्तन करवाया गया. बेस्टिन को याहिया नाम दिया गया, अगले कुछ महीनों ने बेस्टिन के तीन और साथियों का धर्म परिवर्तन करवाया गया. जिसमें बेस्टिन की गर्लफ्रेंड निमिशा भी शामिल थी, जिसे धर्म परिवर्तन के बाद फातिमा नाम दिया गया

मोदी सरकार ने जाकिर की संस्था पर लगाया था 5 साल का प्रतिबंध

आतंकवादी घटनाओं और गतिविधियों की जांच करने वाली भारतीय जाँच एजेंसी नेशनल इंवेस्टिगेशन एजेंसी एनआईए ने ज़ाकिर नाइक और उसकी संस्था इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन (IRF) के खिलाफ पिछले साल नवंबर में एफआईआर दर्ज की गयी थी. इस एफआईआर में ज़ाकिर नाइक और उसकी संस्था पर गैरकानूनी और अवैध गतिविधियों में शामिल होने और धार्मिक समुदायों के बीच नफरत पैदा करने और कट्टर धार्मिकता का लोगों के मन में ज़हर घोलने के गंभीर आरोप लगाए गए हैं. गैरकानूनी गतिविधियों में शामिल रहने के आरोपों पर पुख्ता सबूतों के बीच मोदी सरकार ने ज़ाकिर नाइक की संस्था इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन पर पांच साल का प्रतिबंध भी लगा दिया था. यही नहीं देश में आर्थिक अपराधों की जांच करने वाली एजेंसी ED ज़ाकिर नाइक की संस्था पर मनी लॉन्ड्रिंग के आरोपों की जांच कर रही है, इसी के साथ मुंबई में नाइक की संस्था के दफ्तरों को बंद करवा दिया गया है.

इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments