Home > ख़बरें > यूपी से आयी इस जबरदस्त खबर से राज्य की राजनीति में आया भूचाल, मायावती के उड़े होश !

यूपी से आयी इस जबरदस्त खबर से राज्य की राजनीति में आया भूचाल, मायावती के उड़े होश !

yogi-mayawati

लखनऊ : योगी आदित्यनाथ के सीएम बनने पर विरोधियों ने ये कहकर उनपर हमले किये थे कि उन्हें तो कोई प्रशासनिक अनुभव है ही नहीं तो वो काम कैसे करेंगे. लेकिन सबको धता बताते हुए यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ तो मानों पूरी ताकत से प्रदेश के विकास में जुट गए हैं. अभी-अभी उनके एक ऐसे फैसले की खबर आ रही है जिसे देखकर बसपा सुप्रीमो मायावती के होश फाख्ता हो गए हैं.

पूर्व बसपा मंत्री और पूर्व सांसद की मीट फैक्ट्रियों पर छापेमारी !

अभी कल ही खबर आयी थी कि योगी आदित्यनाथ ने यूपी पुलिस को प्रदेश में धड़ल्ले से चल रहे अवैध बूचड़खाने बंद कराने के लिए कार्ययोजना बनाने के निर्देश दिए हैं. अब खबर आ रही है कि उन्होंने प्रदेश में गो तस्करी को पूरी तरह से ख़त्म करने का संकल्प ले लिया है और पुलिस से इस पर पूरी तरह से रोक लगाने को भी कह दिया है.

राज्य में गो तस्करी की घटनाओं को रोकने के लिए पुलिस को निर्देश दिए गए हैं कि वो अपनी गश्त को और बढ़ा दें. इसके साथ ही पुलिस अधिकारियों से गो तस्करी रोकने के लिए जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाने के लिए भी कहा गया है. यानी गो तस्करों को किसी भी हाल में बक्शा ना जाए.

सीएम योगी से सख्त निर्देश मिलते ही पुलिस फ़ोर्स फ़ौरन एक्शन में भी आ गयी है और ताबड़तोड़ कार्यवाही होनी शुरू हो गयी है. राज्य में अवैध मीट व्यापार को बंद करने के लिए राज्य की कई जगहों पर छापेमारी की जा रही है. चाहे कोई आम इंसान हो या कोई मंत्री या कोई अधिकारी किसी भी अवैध काम करने वाले को बक्शा नहीं जा रहा है. इसी के चलते यूपी पुलिस ने मेरठ में पूर्व बीएसपी मंत्री हाजी याकूब कुरैशी और पूर्व सांसद शाहिद अखलाक की मीट फैक्ट्रियों पर भी छापेमारी कर दी.

बिजली की तेजी में योगी !

गौरतलब है कि यूपी चुनाव में बीजेपी ने अपने चुनावी घोषणापत्र में लोगों से वाद किया था कि उनकी सरकार बनते ही वो राज्य में चल रहे सभी गैरकानूनी कत्लखाने बंद कर देंगे और यांत्रिक कत्लखानों जहां पर मशीनों के जरिये बड़े पैमाने पर पशु वध होता है, उन पर भी प्रतिबंध लगा देंगे.

देखने में लग रहा है मानों योगी एक हफ्ते में ही अपने सारे वादें पूरे करने के लिए तत्पर हैं. पुलिस के ताबड़तोड़ कार्यवाही करने के कारण पशु तस्करों में हड़कंप मच गया है. पशु तस्करों में खौफ का आलम इसी बात से स्पष्ट हो जाता है कि वाराणसी के बड़ागांव और चंदौली के अलीनगर में पशु तस्कर पश्चिम बंगाल ले जाए जा रहे पशुओं से लदे अपने वाहनों को बीच सड़क में छोड़कर भाग गए.

वाराणसी में बड़ी कार्यवाही !

वहीं वाराणसी के जैतपुरा पुलिस थाना क्षेत्र के कमलगदाहा इलाके में चल रहे एक अवैध कत्लखाने को जिला प्रशासन ने सील कर दिया. अधिकारियों के मुताबिक़ 2012 में भी इस कत्लखाने को बंद किया गया था लेकिन नेताओं के साथ सांठ-गाँठ के चलते वहां गुप्त रूप से पशुओं का वध किया जाता रहा.

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड और नगर निगम के अफसरों की एक संयुक्त टीम ने प्रशासनिक और पुलिस अधिकारियों के साथ मिलकर इस कत्लखाने पर छापेमारी की और वहां पांच दर्जन से अधिक मवेशी बरामद किए. जिसके बाद कत्लखाने के प्रबंधक से मवेशियों से जुड़ा वैध दस्तावेज माँगा गया लेकिन वो ना दिखा पाने के कारण अधिकारियों ने कत्लखाने को सील कर दिया.

ये कहीं कोई सपना तो नहीं ?

कुल मिलाकर योगी के सख्त आदेश के बाद से राज्य में पशु तस्करों के बवाल मचा हुआ है. सब के सब अवैध काम धंधे बंद करके अंडरग्राउंड होने की तैयारी में लग गए हैं. पुलिस तेजी से धरपकड़ में लग गयी है. वहीँ इतनी तेजी से एक्शन होते देख राज्य के कई लोगों को अपनी आँखों पर यकीन ही नहीं आ रहा है. सोशल मीडिया में कई लोगों ने ट्वीट करके लिखा कि उन्हें लग रहा है कि मानो वो कोई सपना देख रहे हैं.

इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments