Home > ख़बरें > सीएम योगी ने उतारा सरकारी कर्मचारियों का हैंगओवर, सुनाया ऐसा फरमान कि हलक में आ गयी जान !

सीएम योगी ने उतारा सरकारी कर्मचारियों का हैंगओवर, सुनाया ऐसा फरमान कि हलक में आ गयी जान !

yogi-adityanath-govt-employee

लखनऊ : यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का डंडा अब अनुशासनहीन और लापरवाह सरकारी कर्मचारियों पर चलना शुरू हो गया है. अभी कुछ दिन पहले उन्होंने सभी सरकारी कर्मचारियों और अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए थे कि वो प्रदेश के किसी भी सरकारी कार्यालय में काम के प्रति कोई भी लापरवाही नहीं बरतेंगे. सीएम योगी ने अपने इस फरमान पर अपने मंत्रियों को भी अमल करने के निर्देश दिए थे. लेकिन शायद कुछ सरकारी कर्मचारियों और बाबुओं को बात सीधे तरीके से समझ ही नहीं आयी.


कर्मचारियों की गैरहाजिरी से भड़के योगी के मंत्री, दफ्तर में लगवाया ताला !

सीएम योगी के निर्देश पर अमल करते हुए आज सुबह-सुबह दो मंत्रियों ने कुछ सरकारी दफ्तरों में अचानक पहुंचकर वहां का निरिक्षण किया. वो ये देख हैरान रह गए कि कई सरकारी कर्मचारी व् अधिकारी दफ्तर से गायब थे. ख़बरों के मुताबिक़ निरिक्षण के दौरान एक सरकारी दफ्तर में तो 25 से 30 फीसदी कर्मचारी ड्यूटी से नदारद थे. एक अन्य दफ्तर का भी कमोबेश कुछ यही हाल दिखा.

इतनी लापरवाही और अनुशासनहीनता देख योगी सरकार के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही गुस्से से भड़क उठे और उन्होंने कृषि भवन में ताला ही लगवा दिया. केवल इतना ही नहीं बल्कि उन्होंने दफ्तर से गायब कर्मचारियों व् अधिकारियों का एक दिन का वेतन काटने के आदेश भी दे दिए. इसके साथ ही उन्होंने फरमान सुनाया कि दफ्तर से गैरजाहिर रहने वाले अधिकारियों और कर्मचारियों के खिलाफ उचित कार्यवाही भी की जायेगी.

वक्फ बोर्ड को भंग करने की चेतावनी !

वहीँ योगी सरकार के अल्पसंख्यक मंत्री मोहसिन रजा ने भी शिया वक्फ बोर्ड के दफ्तर का अचानक से निरिक्षण किया और कई कर्मचारियों व् अधिकारियों को ड्यूटी से नदारद पाया. ये सब देख मोहसिन रजा भी भड़क गए और उन्होंने कर्मचारियों को फटकार लगाते हुए कहा कि यहां अधिकारी जनता के पैसों का दुरुपयोग करने के लिए बैठे हैं. सुबह का 11 बज चुका है लेकिन अबतक कर्मचारी दफ्तर नहीं पहुंचे हैं. इन सभी के खिलाफ कार्यवाही की जायेगी.


मोहसिन रजा ने कहा कि लगता है पिछली सरकार का हैंगओवर उतर नहीं रहा है किसी के भी दिमाग से. उन्होंने सख्त लहजे में कहा कि सीएम योगी जी के आदेश का पालन करिये, वरना आप सस्पेंड कर दिए जाएंगे. इसके बाद तो उनका गुस्सा और भी ज्यादा भड़क गया और उन्होंने कर्मचारियों को कड़ी फटकार लगाते हुए कहा कि वक्फ बोर्ड के अधिकारियों व् कर्मचारियों पर भ्रष्टाचार के आरोप हैं. मैं मुख्यमंत्री से बात करके वक्फ बोर्ड को भंग करने के लिए कहूंगा. ये सुन कर वक्फ बोर्ड के सभी कर्मचारियों व् अधिकारियों तक की सिट्टी-पिट्टी गुम हो गयी.

सरकारी बाबूगिरी अब नहीं चलेगी !

गौरतलब है कि 23 मार्च को भी मोहसिन रजा ने अपने दफ्तर में अपनी सीट के पीछे मुलायम सिंह यादव और आजम खान की फोटो लगी हुई देखकर अधिकारियों को कड़ी फटकार लगाई थी. उन्होंने अधिकारियों से पूछा था कि प्रदेश में किसकी सरकार है? अधिकारियों की और से जवाब ना मिलने पर उन्होंने मुलायम सिंह यादव और आजम खान की फोटो उतार कर पीएम मोदी और सीएम योगी आदित्यनाथ की फोटो लगाने के आदेश दिए थे.

यानि ये बात तो साफ़ है कि सीएम योगी की बातों को हलके में लेकर चलने वाले सरकारी अधिकारियों की अक्ल शायद अब तक ठिकाने आ गयी होगी. उन्हें समझ आ गया होगा कि सरकारी बाबूगिरी अब नहीं चलेगी और अब वक़्त पर दफ्तर आ कर सारे काम समय से पूरे करने ही होंगे, वरना उनकी छुट्टी हो जायेगी.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments