Home > ख़बरें > कर्ज माफ़ी तो ट्रेलर था, योगी ने अब लिया ऐसा जबरदस्त फैसला, पूरे देश की जनता रह गयी भौचक्की

कर्ज माफ़ी तो ट्रेलर था, योगी ने अब लिया ऐसा जबरदस्त फैसला, पूरे देश की जनता रह गयी भौचक्की

yogi-govt-24x7

लखनऊ : सरकार बनते ही सीएम योगी आदित्यनाथ तेजी से जनता से किये अपने वादों को पूरा करने में जुट गए. मुख्यमंत्री पद की शपथ लेते ही उन्होंने अपने सभी मंत्रियों को बीजेपी का संकल्प पत्र देते हुए स्पष्ट किया था कि सभी मंत्री इसे अच्छे से पढ़ लें और इन वादों को जल्द से जल्द पूरा करने के लिए कमर कस लें. उसके बाद से तो मानों वो प्रतिदिन अपने मंत्रियों को शासन के मूल मंत्र देते आ रहे हैं. अब जो खबर सामने आ रही है, उसे देखकर तो देशभर के सभी राज्यों के नेता और जनता भौचक्के रह गए हैं.

शनिवार और रविवार को भी करें काम !

सभी जानते हैं कि पीएम मोदी दिन में 18 घंटे तक काम करते हैं और साथ ही वो हफ्ते में सातों दिन भी काम करते हैं और एक दिन की भी छुट्टी नहीं लेते. अब यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ भी पीएम मोदी के नक़्शे-कदम पर चलना शुरू हो गए हैं.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ सीएम योगी आदित्यनाथ ने अपने सहयोगियों को साफ़ शब्दों में समझा दिया है कि यूपी सरकार को पार्टी के सिद्धांत “पार्टी विथ ए डिफरेंस” यानी “अलग तरफ की पार्टी” होने के सिद्धान्त पर खरा उतरना है और बाकी सरकारों से अलग एक विशिष्ट सरकार बनानी है.

इसके साथ-साथ सीएम योगी ने अपने मंत्रियों को शनिवार और रविवार की छुट्टियों को भूल कर लगातार बिना रुके काम करने की भी नसीहत दी है. उन्होंने सभी को पूरी मेहनत, बेहद सादगी और ईमानदारी से अपना काम करने की नसीहत भी दी. इसी के साथ उन्होंने अपने मंत्रियों से कहा कि मंत्रिमंडल की सभी बैठकों में सभी मंत्रियों की उपस्थिति अनिवार्य हो, फिर चाहे वो समीक्षा बैठक हो और उनके विभाग से ना जुड़ी हो.

सीएम योगी के सातों दिन काम करने की नसीहत केवल मंत्रियों ही नहीं बल्कि सरकारी अधिकारियों पर भी अपने आप लागू होगी क्योंकि यदि मंत्री शनिवार और रविवार को काम करेंगे तो उनसे संबधित अधिकारियों व् कर्मचारियों को भी तो काम पर आना ही पड़ेगा.

केवल विभाग नहीं बल्कि मंत्रियों की भी समीक्षा !

हर काम सही तरह से संपन्न हो और सभी मंत्री सही तरीके से अपने दायित्वों को निभाएं इसके लिए सीएम योगी ने मंत्रियों से कहा कि हर 6 महीने पर विभाग के साथ-साथ उनके मंत्रियों की कार्य क्षमता की भी समीक्षा की जायेगी. यदि मंत्री समीक्षा में खरे नहीं उतरते हैं, तो उनसे विभाग छोड़ने के लिए कहा जाएगा ताकि दूसरों को काम करने का मौका मिल सके.

सुख भोगने के लिए नहीं मिली सत्ता !

सीएम योगी को पद संभालते हुए अभी एक महीना भी नहीं हुआ है, लेकिन योगी अपने काम और अपनी छवि को लेकर बेहद सजग हैं. इसी कारण से उन्होंने अपने मंत्रियों को भी स्पष्ट तरीके से समझा दिया है कि जनता ने उन्हें जनादेश सत्ता का सुख भोगने के लिए नहीं दिया है बल्कि काम करने के लिए दिया है. सीएम योगी के मुताबिक़ जब जनता ने इतना विश्वास करके प्रचंड जनादेश दिया है, तो जिम्मेदारी भी बड़ी है और सरकार को जनता की सभी उम्मीदों पर खरा उतरना होगा.

मंत्री ना करें फिजूलखर्ची !

कैबिनेट की पहली बैठक में कई मंत्रियों के मोबाइल फोन की घंटी बार-बार बजते हुए देख सीएम योगी ने सभी मंत्रियों को नसीहत दी है कि वो बैठक में फ़ोन लेकर ना आएं. इसके अलावा उन्होंने अपने मंत्रियों को सरकारी पैसों की फिजूल-खर्ची भी ना करने की सलहा दी है. सीएम योगी ने मंत्रियों को हिदायत देते हुए कहा कि वो अपने नए सरकारी आवास में शिफ्ट होने से पहले उसकी साज-सज्जा में सरकारी पैसे खर्च ना करें, सरकारी आवास की केवल मरम्मत और पुताई करा कर शिफ्ट हो जाएं.

इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments