Home > ख़बरें > यूपी में मदरसों पर सीएम योगी की हाहाकारी कार्रवाई, हामिद अंसारी समेत मुस्लिम संगठनों के उड़े होश

यूपी में मदरसों पर सीएम योगी की हाहाकारी कार्रवाई, हामिद अंसारी समेत मुस्लिम संगठनों के उड़े होश

लखनऊ : मुख्यमंत्री योगी का जब सीएम पद के लिए चुना गया था तब से ही प्रदेश में भारी हलचल मच गयी थी. सीएम योगी अपने एक के बाद एक बेबाक फैसलों के लिए जाने जाते हैं. अभी 15 अगस्त को ही सीएम योगी ने हर मदरसे में राष्ट्रगान और तिरंगा फहराने के आदेश दिए तो वहीँ अब मदरसों को ऑनलाइन किया जायेगा जिससे पारदर्शिता आ सके. तो वहीँ एक बार फिर सीएम योगी ने मदरसे को दिए जाने वाले पैसों को लेकर बड़ा फैसला सुना दिया है.


इन मदरसों का बंद हुआ हुक्का पानी

अभी-अभी बहुत बड़ी खबर आ रही है प्रदेश में योगी सरकार ने मदरसों को 440 वोल्ट का तगड़ा झटका दिया है. योगी सरकार ने प्रदेश के 46 मदरसों को दी जाने वाली अनुदान राशि पर रोक लगा दी है. डीआईओएस( डिस्ट्रिक इंस्पेक्टर ऑफ़ स्कूल) कीमदरसों पर रिपोर्ट से अब्दे सनसनीखेज खुलासे सामने आये हैं. इस रिपोर्ट्स से पता चला है कि काफी मदरसे कैसे सरकार की आँखों में कई सालों से धूल झोंक रहे थे.

DIOS की रिपोर्ट में मदरसों पर बड़ा खुलासा

पिछली अखिलेश सरकार अपनी तुष्टिकरण वाली राजनीति के चलते कभी इस ओर ध्यान नहीं दे पायी लेकिन अब वक़्त ओर सरकार दोनों बदल गए हैं. दरअसल डीआईओएस की रिपोर्ट के बाद ये पता चला है कि प्रदेश में 560 मदरसों को शिक्षकों की सैलरी और रख रखाव के लिए खर्च दिया जाता है. लेकिन ये 46 मदरसे शिक्षकों को कम तनख्वा पर रखते हैं ओर कागज़ पर बढ़ा चढ़ा कर तनख्वाह दिखाते थे. मतलब मदरसा प्रबंधक गबन कर रहा था. इतना ही नहीं इससे आगे कई हैरान करने वाली बात पता चली हैं जिसे सुन आप भी भौचक्के रह जायँगे.

सिर्फ यही नहीं, इन 46 मदरसों में पढाई लिखाई होती ही नहीं थी और इनका इस्तमाल कुछ अज्ञात लोगों द्वारा बैठकों और समारोहों के लिए किया जा रहा है. होती भी कहाँ से ना शिक्षक हैं ना छात्र है. लेकिन कागज़ों में फ़र्ज़ी शिक्षक फ़र्ज़ी छात्र दिखया गया है. पढाई लिखाई के बजाय शिक्षक की तनख्वाह और रखरखाव के नाम पर मोटा पैसा सरकार से खींचा जा रहा था.


                                              अखिलेश सरकार ने करोड़ों लुटाये ऐसे

अखिलेश सरकार में धड़ल्ले से उड़ाया गया पैसा

दरअसल इससे पिछली सरकारों ने कभी ध्यान देने की ज़रूरत ही नहीं समझी. बस चुपचाप वोटबैंक के लालच में करोड़ों रुपया भेजते रहे कभी चेकिंग नहीं हुई कि पैसा जा कहाँ रहा है. ये पैसा उन आम जनता का है जो ईमानदारी से अपना टैक्स भरते हैं. इससे ये साबित होता है कि किस तरह जनता के पैसों की बेतहाशा बर्बादी की गयी है.

नए सख्त आदेश का करना होगा पालन

इसके साथ-साथ मदरसों को अब नए सिरे से सख्त आदेश दिए गए हैं. अब मदरसों को हिंदी में मदरसे का नाम, खुलने बंद होने का वक़्त व अन्य जानकारियां लिखनी होंगी. योगी सरकार के मंत्री बलदेव सिंह ओलख ने कहा है इससे ज्यादा से ज्यादा लोग जान सकेंगे कि आखिरकार इस मदरसे का नाम क्या है? जिससे लोगों को पता चल सके कि क्या पढाई हो रही है.

आपको बता दें योगी सरकार ने बड़ा ही ऐतिहासिक फैसला अभी सुनाया था. जिसके मुताबिक मदरसों में धांधली रोकने के लिए सभी को एक ऑनलाइन पोर्टल से जोड़ने का आदेश दिया था. इस पोर्टल की मदद से शिक्षा व्यवस्था, वेतन भुगतान, रखरखाव सब ऑनलाइन देखा जायेगा. पोर्टल पर मदरसों की फोटो भी अपलोड की जाएंगीं. इसके अलावा वेबसाइट पर शिक्षकों के स्वीकृत पद, तैनात कर्मचारी और रिक्त पदों का ब्योरा भी होगा. जिससे मदरसों और सरकार के बीच पारदर्शिता आ सकेगी.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।

सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments