Home > ख़बरें > कबाब के बाद अब शराब पर योगी सरकार का बड़ा फैसला, 21 से नीचे हैं तो…..

कबाब के बाद अब शराब पर योगी सरकार का बड़ा फैसला, 21 से नीचे हैं तो…..

yogi-govt-no-liquor-below-21-years

लखनऊ : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ प्रदेश के हित में ताबड़तोड़ फैसले लेते चले जा रहे हैं. पद संभालने के बाद एक भी दिन ऐसा नहीं रहा होगा जब उन्होंने कोई बड़ा निर्णय ना लिया हो. अवैध कत्लखानों को बंद करना, एंटी-रोमियो स्क्वाड का गठन करना, सरकारी दफ्तरों में पान,गुटखा बैन करना, इस तरह के कई फैसलों से योगी ने जनता को चौंकाया है. लेकिन अब जो खबर सामने आ रही है वो और भी ज्यादा चौंकाने वाली है.

21 से नीचे हैं तो नहीं मिलेगी शराब !

दरअसल अवैध कत्लखानों के बंद होते ही प्रदेश में बिहार की तर्ज पर शराबबंदी की मांग तेजी से उठने लगी है. अब खबर आ रही है कि उत्तर प्रदेश में योगी सरकार शराबबंदी पर विचार कर रही है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ किशोरों व अपरिपक्व युवाओं में शराब पीने के बढ़ते चलन से चिंतित यूपी की योगी सरकार अब शराब को कुछ बंदिशों के साथ बेचने की तैयारी कर रही है.

मॉडल बार में या शराब की दुकान से शराब खरीदने से पहले अपनी उम्र का प्रमाण पत्र दिखाना होगा. बार मालिक या दुकानदार को उम्र का प्रमाणपत्र दिखाए बिना शराब या बीयर नहीं मिलेगी. आबकारी विभाग के जानकारों के मुताबिक़ लखनऊ, मेरठ, वाराणसी, गोरखपुर, इलाहाबाद, कानपुर, आगरा, नोएडा, गाजियाबाद जैसे बड़े शहरों में ही नहीं बल्कि प्रदेश के छोटे शहरों में भी छोटी-छोटी उम्र के किशोर शराब खरीदते हुए पाए जाते हैं.

सड़क दुर्घटनाएं व् अपराध !

जानकारों के मुताबिक़ ये किशोर पीने के बाद कानून-व्यवस्था की स्थिति बिगाड़ने के कारक तो होते ही हैं, साथ ही पीने के बाद ड्राइविंग करने से सड़कों पर दुघर्टनाओं का शिकार भी होते हैं. इससे उनका स्वास्थ्य खराब होता है सो अलग. आंकड़ों पर नज़र डालें तो यूपी में प्रतिवर्ष 16000 लोगों को सड़क दुघर्टनाओं के चलते अपनी जान से हाथ धोना पड़ता है और इसमें से 50 फ़ीसदी तक सड़क दुर्घटनाएं शराब पीकर वाहन चलाने से होती हैं.


आबकारी विभाग के जानकारों के मुताबिक़ शराब पीकर ऐसे अराजक युवक राज्य में युवतियों के साथ छेड़खानी से लेकर बलात्कार करने पर भी आमादा हो जाते हैं. ऐसे कम उम्र के किशोरों को शराब पीने से रोकने के लिए योगी सरकार आबकारी अधिनयिम का सहारा लेने जा रही है.

पहले से बने कानूनों का सख्ती से पालन !

इस बारे में कोई नया क़ानून नहीं बनाया जा रहा है, बल्कि आबकारी अधिनियम में पहले से स्पष्ट निर्देश है कि 21 वर्ष से कम उम्र का किशोर न तो शराब खरीदे और न ही दुकानदार उसे शराब बेचे. 21 वर्ष से कम उम्र के किशोर यदि शराब खरीदते पकड़े जाते हैं, तो खरीदने वाले युवक के साथ-साथ शराब बेचने वाले दुकानदार के खिलाफ भी कड़ी कार्यवाही की जाएगी.

वहीँ सड़क दुर्घटनाओं को कम करने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने भी ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए राष्ट्रीय व राज्य मार्गों पर और मार्गो से आधे किलोमीटर के दायरे में मौजूद सभी शराब और बियर की दुकाने बंद करने के आदेश दे दिए हैं. यानी शराबंदी की ओर योगी सरकार ने भी कदम बढ़ाने शुरू कर दिए हैं.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हमारे साथ सीखिए ब्लॉग लिखना और घर बैठे कमाइए पैसे. तीन दिन का कोर्स ज्वाइन करने के लिए 9990166776 पर Whatsapp करें.

सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments