Home > ख़बरें > यूपी के मुख्यमंत्री बनने के बाद योगी ने लिया अब तक का सबसे बड़ा फैसला, हिल गए लोग !

यूपी के मुख्यमंत्री बनने के बाद योगी ने लिया अब तक का सबसे बड़ा फैसला, हिल गए लोग !

govt-employee-office-yogi

नई दिल्ली : यूपी के सीएम पद का भार संभालते ही योगी आदित्यनाथ तेजी के साथ कड़े दे कड़े फैसले लेते जा रहे हैं. ऐसा लग रहा है कि वो आने वाले पांच वर्षों में यूपी को देश का नंबर एक राज्य बना कर ही दम लेंगे. इसी के चलते सीएम योगी लखनऊ सचिवालय करने पहुच गए और वहां मौजूद अव्यवस्था और गंदगी देखकर योगी भड़क उठे.


बिखरी फाइलें, उलझे तार देख भड़के योगी !

योगी अपने उप-मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के साथ लखनऊ सचिवालय का निरिक्षण करने पहुचे थे. लेकिन सचिवालय में निरिक्षण के दौरान जगह-जगह बिखरी फाइलों और बुरी तरह से उलझे तारों को देखकर योगी भड़क उठे. वहीँ जगह-जगह पर दीवारों, फर्श और कोनों में पान की पीक देख कर तो योगी का गुस्सा सातवे आसमान पर जा पहुचा.

उन्होंने सरकारी अधिकारियों को जोरदार फटकार लगाते हुए कहा कि ये आप लोगों की कर्म भूमि है, कम से कम इसे तो साफ़ रखें. बुरी तरह से उलझे और इधर-उधर बिखरे तारों को देख योगी बोले कि तुरंत इन सबको ठीक करवाया जाए. तकरीबन आधे घंटे तक योगी सचिवालय में रहे और निरिक्षण करते रहे.


सही वक़्त से दफ्तर आएं कर्मचारी !

योगी ने देखा कि कुछ कर्मचारी तो अपनी सीटों से ही नदारद थे. ये देख कर तो योगी और भी ज्यादा नाराज हो गए और फटकार लगाते हुए पूछा कि ये सब क्या हो रहा है भाई, लोगों का काम में मन नहीं लगता है क्या? योगी ने सख्त निर्देश दिए कि सभी कर्मचारी आज से सही समय पर ऑफिस आएंगे और समय से पहले कोई भी घर नहीं जाएगा.

जगह-जगह पान की पीक के धब्बे देख गुस्साए योगी ने सरकारी दफ्तरों में पान, पान मसाला और गुटखा खाने पर रोक लगा दी. इसके साथ ही उन्होंने सरकारी दफ्तरों में पॉलीथीन के इस्तेमाल पर भी रोक लगा दी. इसके अलावा उन्होंने अफसरों को निर्देश दिए कि सही समय पर ऑफिस आया करें और फॉर्मल कपड़े पहन कर ही आएं.

हर हफ्ते दो घंटे श्रम दान !

सीएम योगी ने निर्देश दिए कि ऐसी व्यवस्था सुनिश्चित की जाए, जिससे गन्दगी ना फैले और कर्मचारी साफ़ और स्वच्छ वातावरण में काम करें. गौरतलब है कि अभी हाल ही में लोकभवन के ऑडिटोरियम में भी वरिष्ठ अफसरों के साथ बैठक के दौरान योगी ने उन्हें स्वच्छता रखने की शपथ दिलाई थी. इसके साथ ही कहा था कि हर अधिकारी 100 अन्य लोगों को भी स्वच्छता की शपथ दिलाये ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग इस मुहिम से जुड़ सकें और सरकारी दफ्तरों में स्वच्छता बनी रहे. इसके अलावा उन्होंने सभी सरकारी अफसरों से हर हफ्ते दो घंटे सफाई के लिए श्रम दान करने को भी कहा था.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments