Home > ख़बरें > आप क्रिकेट मैच देखने में बिजी हैं, वहां सेना ने धरा विकराल रूप, अलगाववादियों की ईंट से ईंट बजा डाली

आप क्रिकेट मैच देखने में बिजी हैं, वहां सेना ने धरा विकराल रूप, अलगाववादियों की ईंट से ईंट बजा डाली

नई दिल्ली : जिस देश में रहते है, जिस देश का खाते हैं, उसी देश में आतंकवाद और देशद्रोह का बीज बोने वाले अलगाववादियों के अब बद्द से बदतर दिन आने वाले हैं. कुछ दिन पहले ही NIA को पाकिस्तान से फंडिंग के सबूत मिले थे, जिसके बाद से अलगाववादियों पर छापेमारी हुई थी जिसमें करोड़ों रुपयों की संपत्ति जब्त कर ली गयी थी. तब से गिलानी और अन्य नेताओं को नज़रबंद कर दिया, ना ही कही आने जाने दिया जा रहा है , ना ही कोई मीटिंग करने दी जाएगी और ना ही किसी से मिलने दिया जा रहा है.मोदी सरकार में सेना को खुली छूट देने के बाद 15 सालों में पहली बार ऐसी तेज़ी से कार्यवाही हो रही है.


मोदी सरकार ने जीना मुश्किल कर दिया है.

एक के बाद 14 ठिकानों पर छापेमारी अलग अलग शहरों में हुई, इस छापेमारी में एनआईए को लश्कर-ए-तैयबा और हिजबुल मुजाहिदीन के लेटरहेड मिले थे. इसके अलावा पेन ड्राइव्स और लैपटॉप भी जब्त कर लिए गए थे.जिसके बाद तकरीबन श्रीनगर से 1.25 करोड़ रूपए जब्त कर लिए गए थे. इसके बाद छटपटाये अलगाववादियों ने कश्मीर बंद बुलाया था, उसके बाद सेना ने वो ताबड़तोड़ कार्यवाही शुरू करी, जो कोई सोच भी नई सकता है.

अलगाववादी नेता यासिन मलिक गिरफ्तार, कई नजरबंद

जी हाँ ताज़ा खबर अभी अभी श्रीनगर से आ रही है हैं जहाँ अलगाववादियों के कश्मीर बंद बुलाने के बाद शुक्रवार को जम्मू एवं कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (जेकेएलएफ) के प्रमुख यासीन मलिक को हिंसक जुलूस और नौजवानों को भड़काने के आरोप में एक बार फिर गिरफ्तार कर लिया गया है. ख़बरों के मुताबिक यासीन जुलूस की अगुवाई करते हुए , पत्थरबाजों को प्रोत्साहन दे रहा था, और देशद्रोह भड़का रहा था. मलिक और उनके समर्थकों का हिंसक जुलूस शहर के लाल चौक की तरफ बढ़ रहा था, लेकिन पुलिस ने उन्हें सराय बाला इलाके में ही रोक लिया, और सड़क से ही उठा के पुलिस वैन में ले गए, और जेल में डाल दिया. फ़िलहाल शांति बनी हुई है.


पत्थरबाज सेना के एनकाउंटर में टांग अड़ाते वक़्त मारा गया

दरअसल इस सप्ताह के शुरू में ही भारतीय सेना आतंकवादियों के साथ एनकाउंटर कर रही थी तभी पत्थरबाजों का झुण्ड वहां आ पहुंचा और सुरक्षाबलों पर पत्थर बरसा दिए, हालत बिगड़ते देख सुरक्षाबलों को गोलीबारी करनी पड़ी, जिसमें प्रमुख पत्थरबाज आदिल फारुख मागरे मारा गया. बस इसी के चलते यासीन मालिक ने जुलूस निकालने का आह्वान कर दिया था.

यासीन मलिक की पुलिस को धमकी गुंडागर्दी बंद करो वरना …

मलिक ने पुलिस को धमकी देते हुए कहा कि गुंडागर्दी बंद करो वरना बहुत बुरा अंजाम भुगतना पड़ेगा. जुम्मे की नमाज के बाद गिरफ्तारी से पहले मलिक ने पत्रकारों को बताया कि पुलिस ने अब मस्जिदों में घुसना शुरु कर दिया है, हमारी जाँच बंद करवाओ वरना अच्छा नहीं होगा. आगे उसने कहा कि मोदी सरकार कश्मीर में आर.एस.एस. के एजेंडे को बढ़ावा दे रहे हैं. सुरक्षाबलों को वर्दी पहनना बंद करना चाहिए और आर.एस.एस. के कपड़े डाल लेने चाहिए.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments