Home > ख़बरें > इस वामपंथी लेखक ने लिया सेना प्रमुख से पंगा,की ऐसी नीच हरकत, गुस्से से भड़क उठा सेना का हर जवान

इस वामपंथी लेखक ने लिया सेना प्रमुख से पंगा,की ऐसी नीच हरकत, गुस्से से भड़क उठा सेना का हर जवान


नई दिल्ली : कश्मीर में उपचुनाव के दौरान कश्मीरी शख्स फारुक अहमद डार को जीप के आगे बाँध कर “मानव ढाल” की तरह प्रयोग किये गए शांत हो चुके मुद्दे को एक बार फिर कुछ तथाकथित मानवाधिकारों और लेखकों ने चिंगारी देकर आग लगाने की कोशिश करी है. जहाँ एक तरफ मेजर गोगोई के कश्मीरी युवक के जीप पर बांधने से 15 से 20 लोगों की जान बचाने पर भारतीय सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने सम्मान दिएजाने का समर्थन करने और सूझबूझ और साहस की तारीफ करी है, वही अब इस लेखक ने जनरल बिपिन रावत पर इतनी बेहद शर्मनाक बात कह दी है जिससे सेना के जवानों का खून खौला दिया है.

इतिहासकार पार्था चटर्जी ने लांघी अपनी मर्यादा, भारतीय सेना प्रमुख का हुआ घोर अपमान

ताज़ा खबर के मुताबिक लेखव एवम एक इतिहासकार पार्था चटर्जी ने आर्मी चीफ मेजर जनरल बिपिन रावत की तुलना एक हत्यारे ब्रिटिश जनरल डायर से करने के मामले में विवाद खड़ा कर दिया है. जिसके बाद पूरे देश भर में और सोशल मीडिया में लोगों का गुस्सा फूट पड़ा है. इस तथाकथित इतिहासकार ने कश्मीर में मेजर गोगोई के कई लोगों की जान बचाने के मकसद से एक शख्स को मानव ढाल की तरह प्रयोग करने वाली घटना को लेकर जनरल रावत की तुलना हत्यारे ब्रिटिश जनरल डायर से कर दी है. सेना के पूर्व अफसरों और जवानों का इस बात से गुस्सा भड़क उठा है उन्होंने जल्द से जल्द कानूनी कार्यवाही की मांग करी है.

जिस थाली में खाते हैं उसी में छेद करते हैं

पूर्व सेना अफसरों ने पार्था चटर्जी के लेख पर अपना गुस्सा प्रकट किया है, पूर्व आर्मी चीफ जनरल वीपी मलिक ने इस तुलना को बेहद शर्मनाक बताया है और लेख के पब्लिश करने के लिए मीडिया हाउस की आलोचना करते हुए कहा है “ये लोग जिस थाली में खाते हैं उसी में छेद करते हैं”

अगर भारत में ऐसे लोग हैं तो हमें पाकिस्तान की जरूरत ही नहीं

ब्रिगेडियर बीडी मिश्रा और कर्नल वीएन थापर ने इस लेख के पीछे एक साज़िश के होने की बात कही है और उन्होंने चटर्जी के खिलाफ जल्द कानूनी कार्यवाही करने कि मांग करते हुए कहा है कि “अगर हमारे पास भारत में ऐसे लोग हैं तो हमें पाकिस्तान की जरूरत ही नहीं है”.

द वायर के लेख में किस तरह देशद्रोह वाली बात कही गयी है देखें

ब्रिटिश जनरल डायर जलियांवाला बाग गोलीकांड के लिए कुख्यात है, जिसमें उसने निरीह और निहत्ते भारतियों पर खुलेआम गोलियां की बौछार कर दी थी. जहाँ भीड़ में महिलाएं, मासूम बच्चों की हत्या हुई जिसमें हज़ारों लोगों की मृत्यु हुई और इतने ही घायल भी हुए. पार्था चटर्जी ने वायर में एक लेख लिखा है जिसमें लिखा गया है कि “कश्मीर में आज कल जनरल डायर का दौर चल रहा है”. आगे उन्होंने लिखा कि 1919 में जलियांवाला बाग के हत्याकांड के पीछे ब्रिटिश सेना और आज भारतीय सेना का शख्स को मानव ढाल कि तरह इस्तेमाल करना एक सामान है.


आगे चटर्जी ने लिखा है कि जिस तरह ब्रिटिश जनरल डायर ने जलियांवाला बाग हत्याकांड के पक्ष में बयां दिया था कि ये मेरी ड्यूटी थी. ठीक उसी तरह आज कश्मीर में “डर्टी वॉर” का ज़िक्र कर जनरल बिपिन रावत ने भी मेजर गोगोई की तारीफ कर सम्मान दिए जाने का समर्थन किया है.

इससे पहले मानवाधिकार संगठन वाले भी रो चुके हैं अपना दुखड़ा

ख़बरों के मुताबिक जब भी सेना आतंकियों का एनकाउंटर कर रही होती है, तभी वहां पत्थरबाज पहुंच जाते हैं. बुरहान वानी के आतंकी साथी सबज़ार भट्ट के एनकाउंटर के वक़्त वाहट्सएप्प पर ये मैसेज भी भेजा गया था कि “सबज़ार भाई खतरे में हैं और घिर गए हैं सभी भाई लोग जल्द पहुंचे”.

वहीँ इन जैसे लोगों के बचाव के लिए मानवधिकार संगठन आगे आया है, ये संगठन तब नहीं दिखते जब सेना के जवानों पर पेट्रोल बम और पत्थर बाज़ी, थप्पड़ मारना, उनके हेलमेट में लात मारी जा रही होती है. मानवाधिकार संगठन ने कहा है कि “कश्मीर में मानव ढाल के रूप में एक नागरिक का इस्तेमाल करना और बाद में मेजर गोगोई को सम्मान दिया जाने से सेना का कद घटेगा और इसकी तीखी आलोचना और निंदा करते हैं”

अभिनेता अनुपम खेर का मानवाधिकार संगठन को जोरदार तमाचा

अनुपम खेर ने कहा मेरा एक सीधा सा सवाल है कि ये मानवाधिकार और पत्रकार, बुद्धिजीवी लेखक तब अपना मुँह क्यों नहीं दिखते या अपने अवार्ड वापस नहीं करते जब कश्मीर से लाखों कश्मीरी पंडितों को पलायन करने पर मज़बूर होना पड़ता है. जब उन्हें सरे आम आतंकी धमकी देते हैं कि या तो इस्लाम कबूल लो या कश्मीर छोड़ दो. जब कश्मीरी पंडितों के बहु बेटियों और बच्चियों के साथ रेप और अपहरण करके हत्या जैसे संगीन अत्याचारों से गुज़ारना पड़ता है.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments