Home > ख़बरें > ट्रंप ने खोला चीन के खिलाफ मोर्चा, अमेरिकी बमवर्षक विमानों ने भरी उड़ान, सन्न रह गए जिनपिंग

ट्रंप ने खोला चीन के खिलाफ मोर्चा, अमेरिकी बमवर्षक विमानों ने भरी उड़ान, सन्न रह गए जिनपिंग

b2-bomber-us-china

नई दिल्ली : चाहे सिक्किम हो या दक्षिण चीन सागर, चीन की घुसपैठ के इरादे जग जाहिर हैं. भारत से पहले अमेरिका ने ही चीन के खिलाफ सख्त रुख अपना लिया है. आपको बता दें कि चीन के डोकलाम में सेना तैनात करने और बार-बार युद्ध की धमकी देने के बावजूद अभी तक पीएम नरेंद्र मोदी ने पलट कर चीन के साथ जुबानी जंग नहीं की है. लेकिन अमेरिका के राष्ट्रपति ने इसका शुभारम्भ कर दिया है.

अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रम्प ने खुद ट्वीट करके चीन को खूब खरी-खोटी सुनाई है. ट्रम्प ने चीन को जमकर फटकार लगाते हुए अपने इरादे साफ़ कर दिए हैं कि वो चीन के दोगले बर्ताव को बर्दाश्त नहीं करने वाले. यहाँ तक कि ट्रम्प ने तो चीन की सहायता करने वाले अपने देश के पूर्व नेताओं तक को जमकर खरी-खोटी सुनाई है.

अभी हाल ही में उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन ने एक बार फिर इंटरकॉन्टिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल को दागा है. मिसाइल परीक्षण सफल भी रहा. जिसके बाद अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि वो बीजिंग से बेहद निराश हैं, क्योंकि चीन उत्तर कोरिया के मसले पर कुछ नहीं कर रहा है. ट्रंप ने ये भी कहा कि वो अब उत्तर कोरिया को उसका ऐसा लड़ाकू रवैय्या जारी नहीं रखने देंगे.

ट्रंप ने ट्वीट कर अपने देश के पूर्व नेताओं को भी खूब खरी-खोटी सुनाई. ट्रम्प ने लिखा कि पूर्व के हमारे मूर्ख नेताओं ने व्यापार द्वारा चीन को हर साल सैंकड़ों अरब डॉलर कमाने दिए. इसके बावजूद चीन, उत्तर कोरिया के मसले पर अमेरिका के साथ केवल बातें ही बना रहा है. जमीन स्तर पर चीन ने कोई एक्शन नहीं लिया.


गौरतलब है कि शुक्रवार को उत्तर कोरिया ने एक नई इंटरकॉन्टिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल दागी थी. इस सफल परीक्षण के बाद उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन ने कहा था कि उनके इस सफल परीक्षण से ये साफ़ है कि उत्तर कोरिया अमेरिका में किसी भी टारगेट पर हमला करने की क्षमता रखता है.

उत्तर कोरिया द्वारा इंटरकॉन्टिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल को दागे जाने के बाद अमेरिकी सेना कहाँ पीछे रहने वाली थी. लिहाजा अमेरिका के बमवर्षकों ने कोरियाई प्रायद्वीप के ऊपर उड़ान भरी और किम जोंग उन को अपनी ताकत का परिचय करवाया. साउथ कोरियाई और जापानी वायु सेनाओं के लड़ाकू विमानों के साथ अमेरिकी बी-1बी बमवर्षक विमानों ने 10 घंटे के द्विपक्षीय मिशन में हिस्सा लेते हुए अभ्यास किया.

जिस तरह से चीन अपनी विस्तारवादी नीति के तहत दूसरों के इलाकों में घुसपैठ कर रहा है और साथ ही उत्तर कोरिया का गुपचुप तरीके से साथ दे रहा है. जानकारों के मुताबिक़ किसी भी वक़्त युद्ध शुरू हो सकता है. एकबार युद्ध शुरू हुआ तो भारत, अमेरिका और जापान तीनो की सेनाएं मिलकर चीन से युद्ध लड़ेंगी. ये युद्ध परमाणु युद्ध में भी तब्दील हो सकता है.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।

सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments