Home > ख़बरें > योगी ने दिया अल्टीमेटम तो सिंघम बन गयी यूपी पुलिस, मथुरा से फिरोजाबाद तक अपराधियों का सफाया

योगी ने दिया अल्टीमेटम तो सिंघम बन गयी यूपी पुलिस, मथुरा से फिरोजाबाद तक अपराधियों का सफाया

yogi-police

लखनऊ : यूपी चुनाव प्रचार के दौरान पीएम मोदी ने सपा सरकार के राज में बिगड़ती क़ानून व्यवस्था का मुद्दा उठाया था. पीएम मोदी ने कहा था कि अखिलेश राज में सरकार अपराधी पुलिस थानों के अंदर से चलाते हैं. प्रदेश में अपराध बढ़ते जा रहे थे, लेकिन योगीराज में हालत बदलती हुई दिख रही है. सीएम योगी के अल्टीमेटम के बाद अब यूपी से बड़ी खबर सामने आ रही है.

पिछले सोमवार रात मथुरा शहर के होलीगेट पर अपराधियों ने 2 सर्राफा व्यापारियों के साथ लूट करके उनकी हत्या कर दी थी. इस घटना पर बड़ा बवाल खड़ा हुआ था. विपक्ष ने सीएम योगी पर भी उंगलियां उठायी थी, जिसके बाद सीएम योगी ने पुलिस को सख्त निर्देश दिए थे कि उन्हें हर हाल में अपराधियों को सलाखों के पीछे देखना है और वो भी जल्दी. पुलिस ने आनन्-फानन में मुख्य आरोपी रंगा और चीमा सहित 6 बदमाशों को तयशुदा समय में गिरफ्तार कर लिया हैं. पुलिस की तुड़ाई से बात उनके भेजे में डाली जा रही है कि प्रदेश में क़ानून का राज चलेगा.

अगवा कारोबारी को सिर्फ 6 घंटे में छुड़ाया

वहीँ फिरोजाबाद में नंगला भाऊ इंडस्ट्रियल इलाके में एफएम ग्लास इंडस्ट्री के मालिक संजय मित्तल जब अपनी फैक्ट्री जा रहे थे, उसी दौरान पुलिस की यूनिफॉर्म पहने दो मोटरसाइकिल सवारों ने मित्तल की इनोवा को रुकवाया और उन्हें उन्ही की कार में बंधक बनाकर अगवा कर ले गए थे. इतने बड़े कारोबारी का दिन-दहाड़े इस तरह से अपहरण हो जाने से प्रदेश की जनता भौचक्की रह गयी. यूपी की तुलना बिहार में लालू के जंगलराज से की जाने लगी लेकिन सीएम योगी ने तुरंत एक्शन लेते हुए ये दिखा दिया कि लालू से उनकी कभी तुलना हो ही नहीं सकती.

यूपी पुलिस ने तुरंत एक्शन लेते हुए अगवा कारोबारी संजय मित्तल को 6 घंटे के अंदर-अंदर छुड़वा लिया और दो में से एक आरोपी को भी धर लिया. थाने में अच्छी तरह धुलाई करके इस आरोपी से दुसरे आरोपी के बारे में जानकारी जुटाई जा रही है.


बता दें कि योगी ने पद की शपथ लेते ही अपना सारा फोकस प्रदेश की कानून व्यवस्था सुधारने में लगा दिया था. इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि कई बार सीएम योगी खुद अपराधियों को कड़ी चेतावनी देते हुए और ये कहते हुए नज़र आये हैं कि अपराधी या तो सुधर जाएँ या फिर यूपी छोड़कर भाग जाएँ वरना उनकी खैर नहीं.

सुलखान सिंह ने बदली पुलिस की छवि

तुष्टिकरण की राजनीति ना करने वाले सीएम योगी ने सरकार बनते ही जावेद अहमद की जगह सुलखान सिंह को पुलिस का डीजीपी नियुक्त किया था. सुलखान सिंह अपनी ईमानदारी और अपनी सख़्ती के लिए काफी मशहूर हैं. यूपी पुलिस की ये भी शिकायत रही है कि पिछली सरकारों के वक़्त में नेता उनके काम में काफी हस्तक्षेप करते थे, जिसकी वजह से पुलिस ठीक से काम नहीं कर पाती थी. लेकिन सीएम योगी की सरकार में पुलिस के कामों में राजनीतिक हस्तक्षेप बेहद कम हो गया है, जिसके कारण अपराधियों को आसानी से पकड़ा जा रहा है.

दरअसल समाजवादी पार्टी तो खुद ही गुंडों की पार्टी के नाम से मशहूर रही है, जब नेता ही गुंडे हों तो गुंडों को कौन पकडे. इसी के चलते अपराधी खुल्लम-खुल्ला अपराध को अंजाम देते थे और बच निकलते थे. योगीराज में बदमाशों की अक्ल अभी ठिकाने नहीं आयी है, लेकिन जिस तरह से पुलिस पकड़-पकड़ कर थानों में धुलाई कार्यक्रम चला रही है, उससे लगता है कि जल्द ही अपराधियों को समझ आ जाएगा कि अब प्रदेश में भोगी का नहीं बल्कि योगी का शासन चल रहा है.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments