Home > ख़बरें > जब इस मौलवी पर पड़ा छापा तो देखिये यूपी पुलिस को क्या मिला, बहुत बड़ी अनहोनी होने से बचा लिया

जब इस मौलवी पर पड़ा छापा तो देखिये यूपी पुलिस को क्या मिला, बहुत बड़ी अनहोनी होने से बचा लिया

गाजियाबाद : प्रदेश में जबसे सत्ता परिवर्तन हुआ है योगी सरकार ने एक से बढ़ कर एक फैसले लिए हैं, जैसे सचिवालय का औचक निरिक्षण, अवैध बूचड़खानों पर पाबन्दी, गुटखा खाने पर पाबन्दी, यही नहीं पुलिस चौकी में थानेदार ही सफाई करने पर मज़बूर हो गए हैं. अब पुलिस पैदल सड़कों पर कई किलोमीटर तक गश्त लगाती है. पुलिस की इसी चाक चौबंद होने के कारण यूपी पुलिस और एसटीएफ के हाथ बड़ी कामयाबी लगी है जिससे एक अनहोनी घटना होने से बच गयी.


आतंकवादियों को सप्लाई करने जा रहा था घातक हथियार.

उत्तरप्रदेश पुलिस ने एक इमाम को भारी मात्रा में विस्फोटक एवं बड़ी मात्रा में हथियारों के ज़खीरे साथ धर दबोचा है. विजय नगर थानाक्षेत्र स्थित अंबेडकर चौकी प्रभारी अंजनी कुमार ने मिडिया से बताया कि मुल्ला ताहिर पुत्र जफरुद्दीन है, जो कि शेरपुर मुजफ्फरनगर का रहने वाला है और एक मस्जिद का इमाम है और वहां रोज़ाना नमाज़ भी पढ़ाने जाता है. यूपी पुलिस को इस इमाम की काफी दिनों से तलाश थी. इमाम हथियारों की बड़ी खेप को नॉएडा में सप्लाई करने जा रहा था जहाँ से आगे इसने बताया कि 26/11 जैसी एक बड़ी आतंकवादी साजिश को अंजाम देने की कोशिश हो रही थी.


आपको बताते चलें कि ये आरोपी इमाम इससे पहले भी कई बार जेल की हवा खा चूका है. यूपी पुलिस ने बड़ी समझदारी से इसे खुद हथियारों का खरीददार बनकर बुलाया, ये भी वहां वेश बदलकर हथियार बेचने उधर आया था. पुलिस ने इसे तुरंत ही अपने शिकंजे में ले लिया. अब पुलिस इससे पूछताछ कर रही है कि इसके किस किस आतंकियों से ताल्लुकात हैं और ये किसको घातक हथियार बेचने वाला था. कहा जा रहा है कि इसका काम शामली, मुजफ्फरनगर, मेरठ, नोएडा और गाजियाबाद में हथियार सप्लाई करने का था.

जब पुलिस ने और सख्ती से पूछा तो पता चला कि ये नॉएडा में एक कुख्यात आतंकवादियों के गैंग के सदस्यों को सप्लाई करने जा रहा था. यही नहीं एसपी ने बताया कि ताहिर जानसठ स्थित एक मस्जिद में रोज़ नमाज भी पढ़ाने जाता है, ताकि उसपर किसी को शक न हो. मौलाना ताहिर ने एक बड़ा चौकाने वाला खुलासा करते हुए कहा कि, उसे स्कूटी चलानी नहीं आती है और उस पर किसी को शक न हो इसीलिए वो बस, कार या अन्य पब्लिक ट्रांसपोर्ट को हथियारों की सप्लाई के लिए इस्तेमाल करता था. क्योंकि जिस वाहन में सैकड़ों यात्री यात्रा करते हैं पुलिस उसकी अक्सर चेकिंग नहीं करती थी.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments