Home > ख़बरें > प्रदेश में हिंसा देख रौंद्र रूप में आये सीएम योगी ने दिए हाहाकारी आदेश, हिल गया शासन-प्रशासन !

प्रदेश में हिंसा देख रौंद्र रूप में आये सीएम योगी ने दिए हाहाकारी आदेश, हिल गया शासन-प्रशासन !

yogi-saharanpur-violence

सहारनपुर : यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पहले ही दिन प्रदेश की क़ानून व्यवस्था सुधारने के लिए कड़े निर्देश दिए थे. साथ ही साम्प्रदायिक हिंसा फैलाने वालों पर बिलकुल भी नरमी ना बरतने के आदेश भी दिए थे. सीएम योगी ने बदमाशों को चेतावनी भी दी थी कि या तो वो सुधर जाएँ या फिर यूपी छोड़कर चलें जाएँ अन्यथा उनके साथ जो होगा उसके जिम्मेदार वो खुद ही होंगे. लेकिन सीएम योगी की बात कुछ लोगों के समझ में नहीं आयी, लिहाजा अब योगी ने कठोर रूप धारण करके ऐसे लोगों को मजा चखाने का काम शुरू कर दिया है.

सीएम योगी ने धरा उग्र रूप

पिछले एक महीने से भी ज्यादा वक़्त से यूपी का सहारनपुर हिंसा की आग में जल रहा है. पहले अंबेडकर जयंती के वक़्त मुस्लिमों की पत्थरबाजी के बाद हुई हिंसा और दलित और ठाकुरों के बीच जातीय हिंसा में आम आदमी पिस रहा है. सबसे अहम् बात जो सामने आयी है, वो ये है कि दलितों के वोट जाते देख मायावती के गुंडों द्वारा ही दलितों पर हमले करवा कर उन्हें ऊँची जातियों का डर दिखाया जा रहा है ताकि दलितों को बीजेपी को वोट देने का पछतावा हो और वो सदा मायावती के ही वोटबैंक बने रह जाएँ.

लेकिन सीएम योगी के संज्ञान में ये बात आते ही, वो एक्शन में आ गए हैं. सहारनपुर में हुई हिंसा में वहां के उच्च अधिकारियों के हाथ होने की बात भी सामने आयी है. बताया जा रहा है कि पुलिस के बड़े अधिकारियों ने सब कुछ जानते-बूझते हुए भी सही कदम नहीं उठाये. जिसके बाद योगी सरकार ने सहारनपुर के एसएसपी सुभाष चंद्र दुबे और डीएम को सस्पेंड कर दिया है.

इसी के साथ एसडीएम और सीओ पर भी गाज गिरी है. सीएम योगी ने इस मामले में डीजीपी को भी कड़ी फटकार लगाई है. बता दें कि सहारनपुर में एक महीने के अंदर-अंदर ही दो अधिकारियों को बदल दिया गया है. 2005 बैच के सुभाष चंद्र दुबे अभी तक 12 जिलों में एसपी और एसएसपी रह चुके हैं. सहारनपुर में सुभाष चंद्र दुबे की ये 13वीं पोस्टिंग थी.

दंगाइयों के खिलाफ सख्त आदेश

वैसे तो आईपीएस सुभाष चंद्र दुबे को एक दबंग और ईमानदार अफसर के रूप में जाना जाता है. इसके साथ ही इनकी पहचान सख्त रवैये व निपष्क्ष कार्यशैली वाले अफसर के रूप में भी है लेकिन फिर भी सहारनपुर मामले में वो ठीक काम नहीं कर सके. अब मुजफ्फरनगर के एसएसपी बबलू कुमार सहारनपुर के नए एसएसपी बनाए गए हैं.

प्रमोद पांडे जिले के नए डीएम होंगे. इस मामले को लेकर योगी सरकार ने गंभीर रुख इख्तियार किया हुआ है. सीएम योगी के निर्देश के बाद गृह सचिव मणिप्रसाद मिश्रा, एडीजी (कानून-व्यवस्था) आदित्य मिश्रा, आईजी (एसटीएफ) अमिताभ यश, डीआईजी विजय भूषण सहित आलाधिकारी सहारनपुर में डेरा जमाए हुए हैं. इसी के साथ शब्बीरपुर समेत प्रभावित इलाकों में पुलिस के साथ-साथ RAF भी तैनात कर दी गई है.

बता दें कि पूरा का पूरा मामला ही राजनीति से प्रेरित है और योगी सरकार को बदनाम करने के लिए किया जा रहा है. ये मामला एक नमूना है कि देश के कुछ नेता गद्दी के लिए मासूमों की खून की होली खेलने से भी नहीं हिचकते. ठाकुरों व् दलितों के बीच की हिंसा बीएसपी सुप्रीमो मायावती के दौरे के बाद एक बार फिर भड़क गई, जिसके बाद अब 24 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. करीब 10 लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है. साथ ही इलाके में नेताओं के आने-जाने पर भी रोक लगा दी गयी है.

इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments