Home > ख़बरें > बीजेपी व् मोदी के खिलाफ विरोधियों की साजिश का पर्दाफ़ाश, ऐसी मक्कारी देख चुनाव आयोग भी हैरान

बीजेपी व् मोदी के खिलाफ विरोधियों की साजिश का पर्दाफ़ाश, ऐसी मक्कारी देख चुनाव आयोग भी हैरान

evm-fraud-bjp-modi

नई दिल्ली : यूपी विधानसभा चुनाव की ही तरह यूपी निकाय चुनाव में बीजेपी की प्रचंड जीत हुई है. ये जनता की विरोधियों को चेतावनी है कि उन्हें जातिवाद व् तुष्टिकरण पर आधारित राजनीति नहीं बल्कि विकास व् सुशासन चाहिए. मगर विरोधी पार्टियां सबक सीखने को तैयार ही नहीं, इसीलिए बीजेपी के भारी संख्या में सीटें जीतते ही कांग्रेस समेत सपा व् अन्य पार्टियों ने ईवीएम पर अपनी हार का दोष मढ़ना शुरू कर दिया. मगर अब ईवीएम पर दोष मढ़कर बीजेपी की बदनाम करने की बड़ी साजिश का पर्दाफ़ाश हो गया है.


पकड़ा गया बीजेपी को बदनाम करने के लिए झूठ

यूपी निकाय चुनाव के परिणाम आने के बाद ईवीएम पर सवाल उठाने वाली सहारनपुर से पार्षद प्रत्याशी शबाना के झूठ की पोल खुल गई है. शबाना ने बीजेपी को बदनाम करने के लिए आरोप लगाया था कि उसे एक भी वोट नहीं मिला है. उसने कहा कि आखिर उसका और उसके परिवार का वोट कहां गया?

शबाना और उसके पति इकराम तुरंत मीडिया में जा पहुंचे और ईवीएम पर सवाल उठाने लगे. मीडिया को भी मसाले की तलाश थी, तो उसने भी बिना कुछ जाने-समझे इस न्यूज़ को प्रमुखता से चलाना शुरू कर दिया. इसके बाद मोदी विरोधियों ने ये बयान सोशल मीडिया पर भी वायरल कर दिया.

केजरीवाल भी साजिश में शामिल?

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी इस झूठ को फैलाने में जुट गए और इस बयान को अपने ट्विटर हैंडल से रिट्वीट कर दिया. हालांकि अब पर्दाफ़ाश हो गया है और साफ़ हो गया है कि शबाना झूठ बोल रही थी. सच तो यह है कि सहारनपुर जिले से वार्ड नंबर-54 पर पार्षद के पद पर चुनाव लड़ रही शबाना को जीरो वोट नहीं, बल्कि 87 वोट मिले हैं. उत्तर प्रदेश इलेक्शन कमिशन की वेबसाइट में यह पूरा आंकड़ा दर्ज है.


नगर निकाय चुनाव के नतीजे आने पर शबाना ने ईवीएम पर सवाल उठाते हुए कहा था, ”ये कैसे संभव है कि मेरा वोट भी मुझे नहीं मिला. कम से कम मेरा और मेरे परिवार को वोट तो मुझे मिलना चाहिए था.” बीएसपी की मायावती ने भी अपनी बुरी हार का ठीकरा ईवीएम पर ही फोड़ा.

अपनी हार को हजम नहीं कर पा रहे विरोधी

शबाना ने खुद को जीरो वोट मिलने का झूठ बोलते हुए ईवीएम की विश्वसनीयता पर सवाल उठाए. उनका कहना था कि कम से कम उनको अपना और अपने परिवार का तो वोट मिला ही है. शबाना ने कहा कि आखिर ऐसा कैसे हो सकता है कि उनका अपना ही वोट उनको न मिला हो? उन्होंने कहा कि हमें उम्मीद थी कि कम से कम 900 वोट मिलेंगे, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा था कि ईवीएम में गड़बड़ी हुई है तभी उनको बूथ पर एक भी वोट नहीं मिले.

दरअसल मोदी व् योगी के कार्यों को देखने की जगह विरोधी अपनी हार का ठीकरा अब ईवीएम पर ही फोड़ने लगे हैं. आरोप लगाने लगे हैं कि ईवीएम में किसी भी पार्टी का बटन दबाने पर वोट बीजेपी को ही जा रहा है. मगर जहाँ बीएसपी या फिर कोई अन्य जीत रहा है, वहां की ईवीएम पर कोई सवाल उठाया नहीं जा रहा. साफ़ है कि लगातार अपनी हार देख विरोधी बौखला गए हैं और सच्चाई को कबूल करने की जगह मनगढंत आरोपों के जरिये बीजेपी को नीचा दिखाने की साजिश कर रहे हैं.


पीएम नरेंद्र मोदी से जुडी सभी खबरें व्हाट्सएप पर पाने के लिए 783 818 6121 पर Start लिख कर भेजें.

यदि आप भी जनता को जागरूक करने में अपना योगदान देना चाहते हैं तो इसे फेसबुक पर शेयर जरूर करें. जितना ज्यादा शेयर होगी, जनता उतनी ही ज्यादा जागरूक होगी. आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं.


सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें

फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments