Home > ख़बरें > ब्रेकिंग : चुनावों से पहले कांग्रेस, वामपंथियों को सबसे बड़ा झटका, ये बड़ी पार्टी आयी बीजेपी के साथ !

ब्रेकिंग : चुनावों से पहले कांग्रेस, वामपंथियों को सबसे बड़ा झटका, ये बड़ी पार्टी आयी बीजेपी के साथ !

modi-tripura-sonia-gandhi

त्रिपुरा : पीएम मोदी देश के विकास के लिए क्या कुछ नहीं कर रहे हैं. मोदी सरकार के काम को केवल भारत ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में सराहा जा रहा है. भारत में लोग अब कांग्रेस व् वामपंथ का साथ छोड़कर विकास पुरुष नरेंद्र मोदी के साथ जुड़ने लगे हैं. ताजा खबर त्रिपुरा से आ रही है, जहाँ बीजेपी को अच्छी खबर मिली है और कांग्रेस, ममता बनर्जी व् वामपंथी पार्टियों के लिए बुरी खबर है.

त्रिपुरा की इंडिजनस नेशनलिस्ट पार्टी ऑफ त्रिपुरा एनडीए में शामिल !

त्रिपुरा की इंडिजनस नेशनलिस्ट पार्टी ऑफ त्रिपुरा (आईएनपीटी) ने 2018 के विधानसभा चुनाव में सीपीएम के खिलाफ लड़ाई के लिए बीजेपी के साथ चुनावी गठबंधन का फैसला किया है. बता दें कि इससे पहले भी त्रिपुरा में ममता बनर्जी की पार्टी टीएमसी के 6 नेता एक साथ पार्टी छोड़ बीजेपी के साथ आए थे और उसके बाद अब ये एक और बड़ी जीत बीजेपी को मिली है.

आपकी जानकारी के लिए हम बता दें कि देश में इस साल के अंत से लेकर अगले साल तक कई छोटे-बड़े राज्‍यों में विधानसभा चुनाव होने हैं. ऐसे में सभी पार्टियाँ अभी से ही चुनावी तैयारियों में लग गयी हैं. बीजेपी ने भी अपनी पूरी ताकत इन चुनावों में झोक दी है और अमित शाह पूरी मेहनत से इन राज्यों में बीजेपी की जीत के लिए लग गए हैं. त्रिपुरा में अगले साल यानी 2018 में विधानसभा चुनाव होने हैं.


अगले साल विधानसभा चुनाव के मद्देनज़र इस वक़्त त्रिपुरा में राजनितिक उथल-पुथल मची हुई है और बीजेपी पूरी ताकत से त्रिपुरा में सरकार बनाने के लिए कोशिशें कर रही है. अब तक तुष्टिकरण करने वाली पार्टियां यहाँ चुनाव जीतती आयी हैं, ऐसे में यदि बीजेपी यहाँ जीत हासिल कर लेती है तो वोटबैंक की राजनीति करने वालों के लिए तमाचा होगा.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ आईएनपीटी की टीम ने पिछले महीने बीजेपी महासचिव राम माधव और केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह से नई दिल्ली में मुलाकात की थी, जिसके बाद उन्होंने एनडीए में शामिल होने का ये बड़ा फैसला लिया था. त्रिपुरा में बीजेपी के प्रदेशाध्यक्ष बिप्लब देव और आईएनपीटी के चीफ बीके एच के बीच टेलीफोन पर हुई वार्ता के बाद आईएनपीटी ने त्रिपुरा में लेफ्ट फ्रंट को सत्ता से उखाड़ फेंकने के लिए संयुक्त रूप से लडऩे का फैसला किया है.

वोटबैंक की राजनीति करने वाले वामपंथियों और कांग्रेस के मुँह पर ये एक करारा तमाचा है और साबित करता है कि देश के सभी राज्यों के लोग विकास चाहते हैं और पीएम मोदी में उन्हें विकास पुरुष नज़र आते हैं. उन्हें पीएम मोदी पर भरोसा है और वो भी दिल्ली तथा अन्य राज्यों की तरह आगे बढ़ना चाहते हैं.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।

सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments