Home > ख़बरें > आतंकियों को ठोकने से ठीक पहले सेना ने किया ऐसा काम, जिसे देख हर भारतीय करेगा सलाम !

आतंकियों को ठोकने से ठीक पहले सेना ने किया ऐसा काम, जिसे देख हर भारतीय करेगा सलाम !

army-indian

नई दिल्ली : जैसा कि सभी जानते हैं कि देश को ज्यादा ख़तरा दूसरे देशों से नहीं बल्कि अपने ही देश में बैठे गद्दारों से होता है. ऐसे लोग जो या तो आतंकियों की हिमायत करते हैं या फिर किसी अन्य दुश्मन देश के बरगलाने से खुद ही आतंकी बन अपने ही देशवासियों का खून बहाने के लिए तैयार हो जाते हैं. लेकिन बुधवार को पुलवामा में जो घटना घटी और उसके बाद सुरक्षाबलों ने जो किया वो उन लोगों के मुह पर करारा तमाचा है जो आतंकियों के एनकाउंटर से पहले उनसे आत्म समर्पण क्यों नहीं करवाया इसके भी सबूत मांगते हैं.


जम्मू-कश्मीर में पुलवामा जिले के पडगमपोरा में बुधवार की रात सेना की जवानों की आतंकवादियों के साथ जबरदस्त मुठभेड़ चली, जिसमे सेना ने 2 आतंकियों का एनकाउंटर कर दिया. एनकाउंटर करने से पहले सेना ने इन आतंकियों को जिंदा पकड़ने और सरेंडर करवाने की भी पूरी कोशिश की. दरअसल ये पता चलने पर कि आतंकी वहां के स्थानीय ही हैं आतंकी शफी शेरगुजारी की पत्नी दिलशादा को मौके पर बुलवाया गया.

सेना ने दिलशादा को भरोसा दिलाया कि यदि उसका पति आत्म-समर्पण कर देता है तो उसको कुछ नहीं होगा. जिसके बाद दिलशादा ने लाउडस्पीकर पर अपने पति से भावुक अपील भी की कि वो आत्म-समर्पण कर दे लेकिन फिर भी आतंकी शफी बाहर नहीं आया. लगभग दो घंटे तक दिलशादा ने उसे समझाने की कोशिश की, फिर भी उस पर कोई असर नहीं पड़ा.


बाहर आने की जगह शफी और उसका साथ सेना पर गोलियां बरसाते रहे. जिसके बाद सेना ने उस घर को चारों ओर से घेर लिया जिसमे शफी छुपा हुआ था. इसके बाद सेना की ओर से जवाबी फायरिंग शुरू की गयी और अपने साथी के साथ शफी भी मारा गया. शफी के साथी की पहचान लश्कर-ए-तैयबा के जहांगीर अहमद गनी के तौर पर हुई है.

दोनों आतंकियों के मारे जाने की खबर सामने आने के बाद इलाके के कुछ लोग काफी संख्या में बाहर आ गए और हंगामा करना शुरू कर दिया. इनकी तरफ से सुरक्षाबलों पर पत्थरबाजी भी की गयी जिसके बाद बेकाबू भीड़ को काबू में करने के लिए हवाई फायरिंग के साथ-साथ लाठी चार्ज और आंसू गैस का भी इस्तमाल करना पड़ा. जिसके कारण एक पत्थरबाज की गोली लगने से मौके पर ही मौत हो गयी जबकि पांच अन्‍य घायल हो गए.

जिसके बाद हालात सामान्‍य होने तक स्थानीय प्रशासन ने श्रीनगर-बारामुला रेलमार्ग पर ट्रेनों के आने-जाने पर रोक लगा दी और पूरे इलाके में भारी संख्या में पुलिस व अर्धसैनिकबलों की तैनाती कर दी है.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।

सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments