Home > ख़बरें > मोदी मैजिक- कश्मीर से आ गयी वो खुशखबरी, जिसका हर भारतीय को था बरसों से इंतज़ार

मोदी मैजिक- कश्मीर से आ गयी वो खुशखबरी, जिसका हर भारतीय को था बरसों से इंतज़ार

syed-ali-shah-geelani-arrested

कश्मीर : कांग्रेस के राज में देश के पैसों पर अय्याशी करने और देश को तोड़ने की बातें करने वाले अलगाववादियों की अक्ल पीएम मोदी ने ठिकाने लगा दी है. पीएम मोदी के निर्देश पर राष्ट्रीय जांच एजेंसियां इन अलगाववादियों की फंडिंग रोकने में जुट गयीं है. अभी-अभी आयी ताज़ा खबर के अनुसार एनआईऐ ने घाटी में पाँच ऐसे बैंक खातों की जाँच शुरू कर दी है जिनपर संदेह है कि इन्ही बैंक खातों का इस्तेमाल कश्मीर में आतंक की फ़ंडिंग के लिए किया जा रहा था.


जाँच एजेंसी के एक्स्पर्ट्स अब इन बैंक खातों को खंगालने में लग गए हैं. खुलासा ये भी हो रहा है कि इन पांच में से दो बैंक खाते कश्मीरी अलगाववादी सैयद अली शाह गिलानी के हैं और अन्य तीन खाते उससे जुड़े अन्य व्यक्तियों के हैं. इसके बाद से ही घाटी में अलगाववादियों के बीच हड़कंप मच गया है.

यदि आरोप सिद्ध हो जाते हैं तो गिलानी साहब का बुढापा अब जेल में ही कटेगा. आपको बता दें कि ये वही गिलानी है जो कांग्रेस सरकार के वक़्त कश्मीर की सड़कों पर खुलेआम “हम पाकिस्तानी है, पाकिस्तान हमारा है” के नारे लगवाया करता था, लेकिन मोदी सरकार में छुप के बैठा अपनी गिरफ्तारी का इंतज़ार कर रहा है.


शुरूवाती जाँच में ये बात भी सामने आयी है कि इन बैंक खातों के 2014 -2015 में किए गए कुछ लेन-देन संदेह के दायरे में आ गए हैं. ख़बरों के मुताबिक़ इन खातों में रकम जमा करवाते वक़्त जमा करवाने वाले का नाम जानबूझकर छुपाया गया.

एनआईए के सूत्र के मुताबिक़ इन खातों में जिस तरीक़े से पैसा जमा किया गया और निकाला गया, दोनो ही संदेह के दायरे में हैं. प्रारंभिक जाँच के लिए एनआईए ने केस भी रजिस्टर कर लिया है. पाकिस्तान से हवाला के जरिये से आये पैसे से कैसे कश्मीर की शान्ति भांग करके वहां हिंसा फैलाई जा रही थी, इसका भांडा फूट चुका है और अलगाववादियों के दिन भी अब लद चुके हैं.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments