Home > ख़बरें > विदेश मंत्रालय ने जमाया रंग,खुशियों का पैगाम लेकर आया सुषमा का ये फैसला,खुश होकर बोले मोदी- शाबाश

विदेश मंत्रालय ने जमाया रंग,खुशियों का पैगाम लेकर आया सुषमा का ये फैसला,खुश होकर बोले मोदी- शाबाश

नई दिल्ली : मोदी सरकार में आज मंत्रालय बिलकुल ही अलग अंदाज़ में काम कर रहे हैं. विदेश मंत्रालय ट्विटर पर ही विदेश में फंसे लोगों को बचाने में मदद कर रहा है. मोदी सरकार में मंत्री और आम जनता में संवाद बहुत आसान हो गया है. सिर्फ एक ट्वीट भर की देरी है और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज मदद के लिए हाज़िर हो जाती हैं. ऐसा ही कुछ रेलवे मंत्रालय भी करता आ रहा है. सिर्फ एक ट्वीट और आपकी ट्रेन और कोच, बर्थ नंबर दीजिये, मदद आपके पास पहुँच जाती है. ऐसा ही एक खबर अब विदेश मंत्रालय से आ रही है जिससे, ईरान में फंसे भारतीय मछुआरों की ज़िन्दगी बदल गयी है.


ईरान में फॅसे भारतीय मछुआरों को करा लिया आज़ाद

इससे पहले भी विदेश मंत्रालय ने एक बार 4000 से ज़्यादा भारतीय जो की यमन में फंस गए थे, उन्हें सुरक्षित वहां से निकाल लिया था. सुरक्षित निकलने के बाद वहां के लोगों मोदी सरकार की जमकर तारीफ करी थी और वन्दे मातरम और जय हिन्द के नारे लगाए थे. वही अब एक बार फिर भारतीय विदेश मंत्रालय ने अपनी कार्यकुशलता का नमूना पेश करते हुए बड़ी सफलता हासिल करी है. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने खुद इस बात की जानकारी देते हुए बताया कि मार्च में ईरान द्वारा हिरासत में लिए गए 25 भारतीय मछुआरों को रिहा करा लिया गया है.


मीडिया ख़बरों के अनुसार आठ मार्च को निकली 12 नावों को जिनमें भारतीय मछुआरे थे,  ईरान ने हिरासत में ले लिया था. इन सभी 25 भारतीय मछुआरों को ईरान के किश द्वीप में बंदरगाह के अधिकारियों की सख्त निगरानी में हिरासत में रखा गया था. जिसके बाद उन्होंने सुषमा स्वराज से बचाने की गुहार लगायी. खबर मिलते ही सुषमा स्वराज ने तुरंत एक्शन लिया और फिर उन्होंने गुरुवार देर रात ट्वीट के जरिए इसकी जानकारी देते हुए कहा ““मुझे इस बात को बताते हुए बहुत ख़ुशी हो रही है कि इस साल मार्च में ईरान के तटरक्षकों द्वारा हिरासत में लिए गए तमिलनाडु के रहने वाले 25 मछुआरों को रिहा कर दिया गया है. इनकी बहरीन की पांच नौकाओं को भी अब लौटा दिया गया है और वापस बहरीन भेज दिया गया है.”

इसके साथ सुषमा ने तेहरान स्थित भारतीय दूतावास को भी बधाई दी और उनकी मदद का शुक्रिया अदा किया है.संकट की घडी में मछुआरों की रिहाई को मुमकिन बनाने के लिए दूतावास के अथक प्रयासों की उन्होंने तारीफ करी है. उन्होंने कहा, “मैं मछुआरों की रिहाई के लिए तेहरान स्थित भारतीय दूतावास के अथक प्रयासों की तारीफ करती हूं”


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।

सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments