Home > ख़बरें > नक्सली हमले से गुस्साए पीएम मोदी ने लिया सर्जिकल स्ट्राइक का फैसला? इतिहास बन जाएंगे नक्सली !

नक्सली हमले से गुस्साए पीएम मोदी ने लिया सर्जिकल स्ट्राइक का फैसला? इतिहास बन जाएंगे नक्सली !

modi-in-action

नई दिल्ली : सोमवार को छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले में हुए नक्सली हमले में सीआरपीएफ के 26 जवान शहीद हो गए. इस बेहद शर्मनाक घटना को देख देशभर के लोग गुस्से से भर गए हैं और कड़ी कार्रवाई की मांग कर रहे हैं. वहीँ अब इस मामले में एक ऎसी खबर सामने आ रही है, जिसने नक्सलियों की नींद उड़ा दीं है.

नक्सलियों पर सर्जिकल स्ट्राइक !

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ पीएम मोदी जवानों पर हुए इस हमले से बेहद दुखी हैं और नक्सलियों पर बड़ी सर्जिकल स्ट्राइक करने का मन बना लिया है. सूत्रों के मुताबिक़ इसके लिए बाकायदा आपातकाल बैठक बुला कर खुफिया एजेंसियों व् रक्षा विशेषज्ञों के साथ योजना पर काम शुरू किया जा चुका है.

गौरतलब है कि कश्मीर के उरी सेक्टर में सेना के कैंप पर हुए हमले के बाद भी सोच-समझ कर इसी तरह से सर्जिकल स्ट्राइक की योजना बनायी गयी थी. अब ये बात भी तय मानी जा रही है कि नक्सलियों के अड्डों की खुफिया जानकारिया जुटा लेने के बाद पहले की ही तरह एक सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दिया जाएगा.

नक्सलियों के खिलाफ करवाई क्यों नहीं की जाती ?

सीआरपीएफ के सूत्रों के मुताबिक़ नक्सलियों को जड़ से उखाड़ फेकना आतंकियों को मारने से भी ज्यादा मुश्किल है क्योंकि आसपास के गाँव के लोग व् आदिवासी भी नक्सलियों से मिले होते हैं. सुकमा हमले में घायल हालत में अस्पताल में भर्ती एक जवान ने आक्रोश से बताया कि ग्रामीण नक्सलियों की पूरी मदद करते हैं वो दिन में अपने हथियार छुपा देते हैं और रात को अपने हथियार निकाल कर नक्सलियों के साथ हो जाते हैं.

वहीँ एक जवान ने बताया कि राज्य की पुलिस भी सीआरपीएफ जवानों का सहयोग नहीं करती है इसकी वजह से वह लोकल इलाकों में फंस कर रहे जाते हैं. जवान का कहना था कि उन्हें स्‍थानीय इलाकों की जानकारी नहीं होती और बिना किसी स्‍थानीय मदद के उन्हें जंगलों में झोंक दिया जाता है.

आखिर क्यों बौखलाए हैं नक्सली ?

सूत्रों के मुताबिक पिछली निक्कमी सरकारों की काहिलियत व् इच्छाशक्ति की कमी के कारण इन गाँवों व् आदवासी इलाकों तक सरकारी योजनाओं के फायदे नहीं पहुचाये गए. जिसके चलते ये लोग नक्सलियों को ही अपना हमदर्द समझते हैं और उनकी सहायता करते हैं.

इसी को रोकने के लिए केंद्र की मोदी सरकार सीआरपीएफ की निगरानी में बड़े पैमाने पर इन इलाकों में सडकों का निर्माण करवा रही है, जिन-जिन इलाकों तक विकासकार्य पहुंचते जा रहे हैं, वहां-वहां नक्सलियों का प्रभाव कम होता जा रहा है. जिसे देख नक्सली बौखलाए हुए हैं और विकासकार्यों को किसी भी कीमत में रोकना चाहते हैं.

कल हुए हमले में भी नक्सलियों ने कुछ ग्रामीणों को भेजकर जवानों की सही लोकशन मालूम की और फिर योजनाबद्ध तरीके से 50-50 की टुकड़ी में 300 से ज्यादा नक्सलियों ने अचानक हमला बोल दिया. जवानों की संख्या करीब 150 थी, दोनों ओर से जोरदार गोलीबारी हुई. लेकिन नक्सली पूरी तैयारी करके आए थे और उन्होंने जवानों पर हमले के लिए रॉकेट लांचर का भी उपयोग किया, जिसमें काफी संख्या में जवान घायल हो गए. वहीँ कई नक्सली भी हमले में मारे गए.

बहरहाल अब पीएम मोदी नक्सलियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई का मन बना चुके हैं और जल्द ही पूरी तैयारी के साथ ऑपरेशन को अंजाम दिया जा सकता है.

इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments