Home > ख़बरें > एक फैसले से प्रभु ने दुनियाभर में बजाया भारत का डंका, अमेरिका, रूस और जापान तक में नहीं हुआ कभी ऐसा

एक फैसले से प्रभु ने दुनियाभर में बजाया भारत का डंका, अमेरिका, रूस और जापान तक में नहीं हुआ कभी ऐसा

suresh-prabhu-railway-development

नई दिल्ली : पीएम मोदी ने 2014 लोकसभा चुनाव से पहले देश की जनता से सबका साथ, सबका विकास का वायदा किया था. इसके लिए वो लगातार तेजी से काम करते जा रहे हैं. उन्होंने अपने मंत्री भी ऐसे चुने जो फाइलों को लटकाएं नहीं और तेजी से विकास के फैसले ले सकें. पीएम मोदी के रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने तो तेजी से काम करने का मानो रिकॉर्ड ही बना लिया है.


केवल 3 मिनट में रेल लाइन प्रस्ताव को दी मंजूरी !

दरअसल ओडि़शा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने ट्विटर पर एक नई रेल लाइन का प्रस्ताव दिया, जिसे रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने केवल तीन मिनट के अंदर ही स्वीकार कर लिया. तीन मिनट यानी केवल 180 सेकण्ड्स, इतनी तेजी से फैसला तो शायद ही आज तक किसी ने लिया होगा.

रेलमंत्री के इस फैसले की चर्चा केवल देश में ही नहीं बल्कि विदेशों तक में की जानी शुरू हो गयी है. जिसे इसका पता चल रहा है, वो ही हैरान है. दरअसल ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने शुक्रवार रात 10:05 बजे ट्विटर पर पुरी और कोणार्क के बीच नई रेल लाइन का प्रस्ताव दिया और परियोजना की आधी लागत साझा करने की पेशकश भी की, जिसे रेलमंत्री प्रभु ने रात 10:08 बजे सकारात्मक जवाब देते हुए स्वीकार कर लिया.

पर्यटन को बढ़ाने के लिए नई रेल लाइन !

ओडि़शा के मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से बताया गया कि पुरी से कोणार्क के बीच पर्यटन को बढ़ाने के लिए मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने नई रेल लाइन बनाने और उसमे आये आधे खर्च को साझा करने का प्रस्ताव ट्विटर के जरिये रखा.


सीएम पटनायक ने रेलमंत्री सुरेश प्रभु से इस परियोजना को जल्द से जल्द मंजूरी देने और समय पर पूरा करने के लिए एमओयू पर हस्ताक्षर करने की अपील भी की. बिना किसी लेट-लतीफी के रात को ही प्रभु ने पटनायक के ट्वीट के जवाब में एक ट्वीट करते हुए जवाब दिया कि हम किसी भी दिन इस एमओयू पर हस्ताक्षर करने के लिए तैयार हैं.

पूरी दुनिया “प्रभु” की कायल !

प्रभु ने लिखा कि हम आपके एमओयू का इंतजार कर रहे हैं. रेल मंत्रालय ने तो पहले ही राज्यों के साथ संयुक्त उपक्रम पर साझेदारी की बात रखी थी. बहरहाल प्रभु का बुलेट ट्रेन की स्पीड से लिया गया ये फैसला एक मिसाल बन गया, जिसकी दुनियाभर में तारीफ़ की जानी शुरू हो गयी है.

विदेशी मीडिया प्रभु का कायल हो गया है और अपने-अपने देशों के मंत्रियों को सीखने की सलाह दे रहा है. विदेशी मीडिया के मुताबिक़ इस तरह से तेजी के साथ बड़े-बड़े फैसले लेने से ना केवल भारत की विकास की दर तेज होती जायेगी बल्कि इससे विदेशी सैलानी व् पर्यटक भी भारत की ओर आकर्षित होंगे.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments