Home > ख़बरें > योगी सरकार ने लिया सबसे बड़ा ऐतिहासिक फैसला, ओवैसी भी रह गया हक्का बक्का, आज तक नहीं हुआ था ऐसा

योगी सरकार ने लिया सबसे बड़ा ऐतिहासिक फैसला, ओवैसी भी रह गया हक्का बक्का, आज तक नहीं हुआ था ऐसा

लखनऊ : आखिरकार वो वक़्त आ ही गया कि देश अब गुलामी की मानसिकता से आज़ाद हो रहा है और धीरे-धीरे ही सही राम राज्य की ओर बढ़ रहा है. पिछली सरकारें इन मुद्दों पर आखें बंद कर बैठी रहीं लेकिन योगी सरकार ने अपने बेबाक फैसलों से प्रदेश को एक नए दिशा की ओर बढ़ा दिया है. अब बच्चे अपनी किताबों में मुग़लों के इतिहास के बजाय हिन्दू योद्धाओं ओर साहसी राजाओं के बारे में पढ़ रहे हैं. जिन्हे कभी इतिहास में दफ़न कर दिया गया था. ऐसा ही कुछ ज़बरदस्त फैसला योगी सरकार ने फिर लिया है, जिसे देख गर्व से आपका भी सीना चौड़ा हो जाएगा.


योगी सरकार का ताबड़तोड़ फैसला

अभी मिल रही ताज़ा खबर के मुताबिक भगवान राम की जन्मभूमि अयोध्या के निकट मौजूद सुल्तानपुर नगरी को एक बार फिर रामायण के सुनहरे अतीत से जोड़ने की कोशिश की जा रही है. आपको जानकार ख़ुशी होगी जल्द ही सुल्तानपुर नगरी का नाम भगवान राम के पुत्र कुश के नाम पर कुशभवनपुर कर दिया जाएगा.

राम राज्य की ओर बढ़ चला प्रदेश

उत्तर प्रदेश में मुगलसराय रेलवे स्टेशन का नाम बदलने के बाद अब यहां सुल्तानपुर जिले का नाम बदलने की क्रिया तेज हो गई है. यहां की नगरपालिका चेयरमैन ने सुल्तानपुर का नाम बदलने के अपने वादे को अमली जामा पहनाते हुए बोर्ड में जिले का नाम बदलकर कुशभवनपुर करने का एजेंडा पास करा लिया है. चेयरमैन बबिता जायसवाल ने अपने शान के प्रतीक कुशभवनपुर का एजेंडा नपा बोर्ड की प्रथम बैठक में पास कराकर सुलतानपुर का नाम कुशभवनपुर करने की तरफ एक कदम मजबूती के साथ बढ़ाया है.

चेयरमैन बबिता जायसवाल ने चुनाव प्रचार के दौरान सुलतानपुर का नाम बदलने की बात कही थी. उन्होंने कहा था कि कुशभवनपुर हमारे लिए सिर्फ चुनावी जुमला नहीं है, बल्कि यह हमारे लिए शान-सम्मान व स्वाभिमान का प्रतीक है.


गौरतलब है कि सुल्तानपुर को भगवान श्रीराम और माता सीता के पुत्र कुश ने बसाया था. वनवास के समय सीता माता यहीं ठहरी थी. यही वजह है कि उनकी याद में यहां आज भी सीताकुंड घाट है, तब इस स्थान को कुशभवनपुर के नाम से ही जाना जाता था. सुल्तानपुर के गजेटियर (अंग्रेजों के जमाने के दस्तावेज) में भी कुशभवनपुर का उल्लेख मिलता है. अब सोचने वाली बात है कि बाद में ऐसा क्या हुआ कि बाद में कुशभवनपुर जिले का नाम बदलकर सुल्तानपुर रख दिया गया.

इससे पहले भी आपको बता दें यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने ताबड़तोड़ कई पुराने नामों को बदलकर नए नाम रख दिए. मुगलसराय रेलवे स्टेशन का नाम बदलकर पंडित दीनदयाल उपाध्याय रख दिया. साथ ही बरेली एयरपोर्ट नाम नाथ एयरपोर्ट, गोरखपुर सिविल एयरपोर्ट को योगी गोरखनाथ एयरपोर्ट, आगरा एयरपोर्ट को दीनदयाल उपाध्याय एयरपोर्ट और कानपुर के चकेरी एयरपोर्ट को पत्रकार व स्वतंत्रता सेनानी गणेश शंकर विद्यार्थी के नाम पर बदल दिया गया.

यही नहीं उन्होंने गोरखपुर के पांच मोहल्लों का हिंदी नामकरण किया था. ऊर्दू बाजार को हिंदी बाजार, हुमायुंपुर को हनुमान नगर, मीना बाजार को माया बाजार और अलीनगर को आर्यनगर किया है. हालाँकि नगर निगम ने अभी इन नए नामों पर मुहर नहीं लगाई है, लेकिन फिर भी इन स्थानों को नए नामों से पुकारा जाने लगा है.


पीएम नरेंद्र मोदी से जुडी सभी खबरें व्हाट्सएप पर पाने के लिए 783 818 6121 पर Start लिख कर भेजें.

यदि आप भी जनता को जागरूक करने में अपना योगदान देना चाहते हैं तो इसे फेसबुक पर शेयर जरूर करें. जितना ज्यादा शेयर होगी, जनता उतनी ही ज्यादा जागरूक होगी. आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं.


सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें

फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments