Home > ख़बरें > नक्सलियों के खिलाफ ऑपरेशन शुरू, सामने आयी सनसनीखेज सच्चाई जानकार दंग रह गए लोग !

नक्सलियों के खिलाफ ऑपरेशन शुरू, सामने आयी सनसनीखेज सच्चाई जानकार दंग रह गए लोग !

helicoptors-combing-mission

नई दिल्ली : सुकमा में हुए नक्सली हमले में 26 जवानों की जान जाने के बाद बड़े पैमाने पर कॉम्बिंग ऑपरेशन शुरू किया गया है. वहीँ हमले में घायल जवानों का अस्पताल में इलाज चल रहा है. इनमे से एक जवान शेर मोहम्मद की हालत में तेजी से सुधार आ रहा है. उनके बाजुओं और कमर में लगी गोलियों के छर्रे निकाल लिए गए हैं और अब वो अच्छे से बातचीत भी कर पा रहे हैं. हालांकि शेर मोहम्मद ने जो खुलासे किये हैं, उन्हें देखकर सभी हैरान रह गए हैं.

ग्रामीणों की दगाबाजी के कारण शहीद हुए जवान !

रायपुर के एक मल्टी स्पेशलिटी अस्पताल में भर्ती शेर मोहम्मद से गृहमंत्री राजनाथ सिंह, हंसराज अहीर और मुख्यमंत्री रमन सिंह मिलने पहुंचे. शेर मोहम्मद ने उन्हें बस्तर के जमीनी हालात के बारे में बताते हुए चौंकाने वाले खुलासे किये. शेर मोहम्मद के मुताबिक़ गाँव के लोगों के विश्वासघात के कारण आधुनिक हथियारों से लैस जवानों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा.

शेर मोहम्मद के मुताबिक़ सभी जवानों के पास अत्याधुनिक हथियार थे और नक्सलियों को मार गिराने के आदेश भी थे. ये बात नक्सली जानते थे इसलिए उन्होंने गाँव के लोगों को ढाल की तरह से इस्तमाल किया. गाँव के लोगों को सामने रखकर नक्सलियों ने सुरक्षाबलों पर हमला किया.

दरअसल गाँव के लोग भी नक्सलियों के साथ मिले हुए हैं, और उन्होंने नक्सलियों के लिए जवानों की मुखबिरी भी की. इतना ही नहीं बल्कि बिलकुल कश्मीरी पत्थरबाजों की तरह से गाँव के ये लोग नक्सलियों की हमले में मदद करने भी आ पहुंचे.


नक्सलियों को दिया मुंहतोड़ जवाब !

गाँव के लोगों को सामने खड़ा देख कर सीआरपीएफ के जवानों ने फायरिंग नहीं की वरना गाँव के लोग मारे जाते. गाँव के लोगों के पीछे छुपकर नक्सलियों ने जवानों पर चौतरफा फायरिंग और बम फेकने शुरू कर दिए. जिसके चलते 26 जवान शहीद हो गए. शेर मोहम्मद ने बताया कि मुठभेड़ में उन्होंने और उनके साथियों ने नक्सलियों को मुंहतोड़ जवाब दिया.

उन्होंने बताया कि तीन-चार नक्सलियों के सीने में तो खुद मैंने ही गोली मारी है. नक्सलियों को पूरी तरह से ख़त्म करने के लिए शेर मोहम्मद ने गृह मंत्री राजनाथ सिंह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से पुलिस और केंद्रीय सुरक्षा बलों को स्पेशल पावर देने की मांग की है.

कॉम्बिंग ऑपरेशन पूरी तेजी से चल रहा है, हेलीकॉप्टरों की सहायता भी ली जा रही है. नक्सलियों को ढूंढा जा रहा है. नक्सलियों की कमर पूरी तरह से तोड़ देने के लिए बड़े पैमाने पर अभियान की शुरुआत हो चुकी है. नक्सलियों को पूरी तरह से ख़त्म करने के लिए नक्सल प्रभावित इलाकों में सेना के कैंप लगाने के बारे में विचार किया जा रहा है.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।

सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments