Home > ख़बरें > नक्सलियों के खिलाफ मोदी सरकार ने जारी किया सबसे खतरनाक फरमान, हिला दिया पूरे देश को !

नक्सलियों के खिलाफ मोदी सरकार ने जारी किया सबसे खतरनाक फरमान, हिला दिया पूरे देश को !

modi-crpf

रायपुर : पिछले सोमवार को छत्तीसगढ़ के सुकमा में हुए नक्सली हमले में 25 सीआरपीएफ जवान शहीद हो गए थे. जिसके बाद खबर आयी थी कि पीएम मोदी ने सीआरपीएफ को खुली छूट दी और सीआरपीएफ ने पहले ही दिन 10 नक्सलियों को मार गिराया. अब इसी कड़ी में एक और बड़ी खबर सामने आ रही है, जिसे देख नक्सलियों की हवा टाइट हो गयी है.


नक्सलियों के खात्मे के लिए रुकेगा विकास !

खबर आयी है कि नक्सलियों के खिलाफ चलाये जा रहे ऑपरेशन को और भी ज्यादा तेज करने के लिए अब बस्तर में सुरक्षाबलों को सड़क बनवाने के काम से हटा कर सभी को नक्सलियों के खिलाफ चलाये जा रहे ऑपरेशन में लगा दिया गया है. यानी विकास होता रहेगा बाद में पहले, पहले नक्सलियों का सफाया किया जाएगा और उसके लिए एक-दो टीमें नहीं बल्कि बस्तर में पोस्टेड सभी जवानों को ऑपरेशन में लगाने का फैसला लिया गया है.

जानकारी के मुताबिक़ अगले कम से कम दो हफ्तों तक सुरक्षाबलों को सड़क बनवाने के काम में नहीं लगाया जाएगा. नक्सली हमले में जवानों के मारे जाने के बाद इस इलाके में ऑल रोड ओपनिंग पार्टी का काम फिलहाल रोक देने का फैसला किया गया है. अभी हाल ही में नक्सलियों ने ऑडियो जारी करके अपनी सफाई पेश की थी और खुद को मासूम दिखाने की कोशिश की थी, साथ ही सुरक्षाबलों पर ऐसे ही और हमलों की धमकी भी दी थी. माना जा रहा है कि इसके बाद ही इतना बड़ा कदम उठाया जा रहा है. मोदी सरकार इस बार आर या पार के मूड में आ गयी है. खबर ये भी है कि अभी अन्य राज्यों से सुरक्षाबल भी सुकमा में भेजा जा सकता है.

पीएम मोदी ने दिए हैं सख्त निर्देश !

मोदी सरकार कि पहली प्राथिमकता थी कि इलाके का विकास किया जाए और नक्सलियों को मुख्य धारा में जुड़ने का मौक़ा दिया जाए लेकिन सुरक्षाबलों पर लगातार किये जा रहे उनके हमलों से ये बात साफ़ हो चुकी है कि नक्सली सुधारना चाहते ही नहीं हैं, ऐसे में उनका एक ही इलाज है, चारों ओर से घेर कर सीधे ठोक दिया जाए.


नक्सल ऑपरेशन्स के स्पेशल डायरेक्टर जनरल ऑफ पुलिस डीएम अवस्थी ने बताया है कि इलाके में सड़क बनवाने के काम में जवानों की जो ड्यूटी लगाई जाती थी, उसे अगले दो हफ्तों के लिए निलंबित कर दिया गया है. सभी जवान फिलहाल नक्सलियों के खिलाफ चल रहे ऑपरेशन में शामिल होंगे और मिशन को अंजाम देंगे.

सैकड़ों नहीं हज़ारों जवान ऑपरेशन में शामिल !

जानकारी के मुताबिक, बस्तर में लगभग 30 हज़ार जवान तैनात हैं, जिनमे से 5 हज़ार से 7 हज़ार जवान सड़क बनवाने के कम में जुटे रहते हैं. सुकमा में नक्सलियों ने निर्माणाधीन सड़क और पुल की सुरक्षा में तैनात जवानों पर ही हमला किया था. इसलिए अब सड़क बनेगी बाद में, पहले होगी ठुकाई.

वहीँ बताया जा रहा है की भले ही ऊपर से गृहमंत्री राजनाथ सिंह शांत दिख रहे हों, लेकिन सीआरपीएफ के जवानों के शहीद होने को लेकर उन्होंने बेहद सख्त रुख अपनाया हुआ है. पीएम मोदी ने भी सख्त कार्रवाई करने के कड़े आदेश दिए हुए हैं. गृहमंत्री राजनाथ किसी भी हालत में नक्सलियों को बक्शने को तैयार नहीं हैं.

नक्सल प्रभावित सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक करके सभी राज्यों में एक साथ ऑपरेशन चलाये जाने पर भी विचार किया जा रहा है. ये तय माना जा रहा है कि कश्मीर की समस्या का समाधान जब निकलेगा तब निकलेगा, लेकिन नक्सलियों की समस्या का समाधान तो इस बार हर हालत में निकलेगा ही निकलेगा.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments