Home > ख़बरें > कश्मीर में अलगाववादी नेता ने किया बेहद सनसनीखेज़ खुलासा,मोदी के आदेश पर एक्शन में एजेंसियां

कश्मीर में अलगाववादी नेता ने किया बेहद सनसनीखेज़ खुलासा,मोदी के आदेश पर एक्शन में एजेंसियां

नई दिल्ली : कश्मीर को काफी लम्बे वक़्त से इन अलगाववादियों ने सवर्ग से नरक बना के रख दिया था. कितनी सरकारें आयी गयी और गयीं लेकिन मोदी सरकार में जो कमाल हुआ है वो आज तक नहीं हुआ था. अभी बड़ी खबर के मुताबिक अब अलगाववादी नेता की सही मायने में कमर तोड़ी है.


एक झटके में अलगावादी नेताओं की तोड़ डाली कमर

एक तरफ भारतीय सेना को मोदी सरकार ने खुली छूट दी हुई है. जिससे सेना ने ऑपरेशन आल आउट और ऑपरेशन कासो से लश्कर हिज़्बुल आतंकियों की ईंट से ईंट बजा दी है. लेकिन इन आतंकियों की प्रमुख जड़ हैं ये हुर्रियत नेता जो इनको बेशुमार पैसा जिहाद फ़ैलाने के लिए देते हैं. लेकिन इस बार गिरफ्त में आये हुए शब्बीर शाह ऐसे कानून के शिकंजे में अटका है जिससे वो अब कभी नहीं छूट सकता.

जी हाँ अभी मिल रही बड़ी खबर के मुताबिक हुर्रियत नेता शब्बीर शाह ने (प्रवर्तन निदेशालय) ईडी से पूछताछ में बड़ा कबूलनामा किया है कि उसका पाकिस्तान में बैठे आतंकी हाफिज सईद से रिश्ता है. वह उसे करोड़ों रुपया आतंकवाद फ़ैलाने के लिए भेजता है और कश्मीर की सारी जानकारी फोन पर देता और लेता रहता है. आपको बता दें ये ईडी की अपने आप में बहुत बड़ी कामयाबी है. इसके पीछे की वजह जानकार आप भी हैरान रह जायेंगे.

बेशुमार संपत्ति का मालिक है शब्बीर, आय के ज़रिये का अता पता नहीं

हुर्रियत नेताओं में सबसे ज़्यादा अमीर यही शब्बीर शाह है. इसके नाम करोड़ों की बेनामी संपत्ति है. सन्नत नगर से लेकर बड़गाम, जम्मू, पहलगाम, कादीपोरा, अनंतनाग, श्रीनगर, नारबल और लारपोरा में इसके बंगले, फ्लैट और अनेक दुकानें हैं या फिर जमीन भी है. इसी सम्पति को ये पथरबाज़ और आतंकवादियों में बांटता है और सेना पर बीएसफ या उरी जैसे जिहादी हमले करवाता है. शब्बीर शाह के पास आय का कोई जरिया नहीं है. वह कोई आय़कर रिटर्न भी नहीं फाइल करता है. पार्टी के लिए चंदा केवल नगद में लिया जाता है और कोई रसीद भी नहीं दी जाती है. इसकी पार्टी का असली मुख्यालय भी पाकिस्तान के पेशावर में है. शाह का ये कबूलनामा अब इसको उम्र कैद या फांसी के तख्ते तक पहुंचाने के लिए काफी है.

आपको बता दें हुर्रियत नेता शब्बीर शाह को ईडी ने 25 जुलाई को गिरफ्तार कर लिया था. शाह की गिरफ़्तारी के पीछे वजह बना कथित हवाला डीलर मोहम्मद असलम वानी की गिरफ्तारी. इसके पास से ईडी ने 63 लाख रुपए जब्त किये थे.जिनमें से 52 लाख कथित तौर पर शब्बीर को दिए गए थे. वानी ने ही खुलासा किया था कि वो शब्बीर शाह को पाकिस्तान से आए करोड़ों रुपये देता था. अभी ये दोनों दिल्ली की तिहाड़ जेल की हवा खा रहे हैं.


                                    ये सभी को मौत के घाट उतार चुकी है सेना

पत्नी भी है जिहाद फ़ैलाने में शामिल

कश्मीर के अलगाववादी नेता शब्बीर शाह के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने जो चार्जशीट दाखिल करी है चार्जशीट में कहा गया है कि शब्बीर शाह पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठनों से पैसा लेकर जम्मू-कश्मीर समेत भारत के दूसरे हिस्सों में आतंकवाद फैलाता है. यही नहीं शाह की पत्नी डॉ बिल्किस भी टेरर फंडिंग के लिए हवाले के रास्ते पैसा जुटाने में शामिल थी.

अब लगेगा बाकियों का नंबर

आखिरकार वो वक़्त आ ही गया जब केंद्र में कोई मज़बूत सरकार आयी है और उसने जांच एजेंसियों के हाथ खोल दिए हैं. अब वो वक़्त दूर नहीं जब एक-एक करके सभी अलगाववादी नेता तिहाड़ में ठूस दिए जायेंगे .ये हुर्रियत नेता ही पत्थरबाज और आतंकवादियों के एटीएम हैं. ये बंद तो आतंकवादी और पत्थरबाज़ी अपने आप बंद हो जायेगी और कश्मीर एक बार फिर स्वर्ग बन सकेगा और कश्मीरी पंडित भी वापस अपनी ज़िन्दगी शुरू कर सकेंगे क्यूंकि मोदी सरकार आर्टिकल 35(A) को ख़त्म करने के लिए ज़ोर शोर से काम कर रही है.

कांग्रेस करती थी चाय-नाश्ता

वही ये कांग्रेस पार्टी जिसके कई नेता (मणिशंकर अय्यर)तो इन्ही अलगावादियों के साथ मिलकर चाय नाश्ता आज भी करते हैं और मिलबैठ कर कश्मीर का मुद्दा हल करने की बात करते हैं. अभी भी मनमोहन सिंह के साथ कई बड़े नेता कश्मीर दौरे पर आये थे और कश्मीर के हालात का जायज़ा ले कर गए हैं.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।

सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments