Home > ख़बरें > क़तर के बाद आया पाकिस्तान का नंबर, सऊदी अरब के इस हाहाकारी फैसले से भूखों मरेगा कंगाल ना’पाक

क़तर के बाद आया पाकिस्तान का नंबर, सऊदी अरब के इस हाहाकारी फैसले से भूखों मरेगा कंगाल ना’पाक

Salman_bin_Abdull_nawaj

नई दिल्ली : अमेरिका, चीन व् कुछ अन्य इस्लामिक देशों की सहायता पर पल रहे पाकिस्तान को भारत की और से तो हर रोज जवाब दिया ही जा रहा है.लेकिन अब एक ऐसी खबर सामने आ रही है, जिसे देख पाकिस्तान बुरी तरह से बौखला गया है. पाक मीडिया में भी इसकी चर्चा की जानी शुरू हो गयी है.

सऊदी अरब की नाफरमानी का अंजाम, अब पाक झेलेगा भुखमरी

दरअसल सऊदी अरब ने आतंकवाद को लेकर इस्लामिक देश क़तर से अपने सभी सम्बन्ध तोड़ लिए हैं, साथ ही अन्य इस्लामिक मुल्कों से भी ऐसा ही करने के लिए कहा था. लेकिन 39 इस्लामी देशों के सैन्य गठबंधन का अहम हिस्सा होने के बानजूद पाकिस्तान ने कतर से अपने संबंध तोड़ने से इंकार कर दिया है.

बताया जा रहा है कि पाकिस्तान को इस गुस्ताखी की बड़ी कीमत चुकानी पड़ सकती है. कतर से संबंध तोड़ने की मुहिम सऊदी अरब ने थी और अन्य इस्लामी देशों से भी ऐसा करने की अपील थी. पाकिस्तान को सऊदी अरब से प्रतिवर्ष अरबों डॉलर की सालाना जकात मिलती है. लेकिन अब पाकिस्तान की इस गुस्ताखी के बाद सऊदी अरब पाकिस्तान के खिलाफ एक्शन लेते हुए इस जकात को रोकने के फैसले पर विचार कर रहा है. सऊदी अरब के इस एक कदम से कंगाल पाकिस्तान में भुखमरी के हालात पैदा हो जायेंगे.

modi-saudid


…तो टूट जाएगा पकिस्तान !

ऐसे में पाक मीडिया में पाक सरकार के इस कदम की जमकर आलोचना की जानी शुरू हो गयी है. पाक मीडिया को डर सता रहा है कि यदि सऊदी अरब से आने वाला जकात का अरबों डॉलर आना बंद हो गया, तो पाकिस्तान का क्या होगा? पाक जानकारों के मुताबिक़ बिना पैसे के पाकिस्तानी अर्थव्यवस्था पूरी तरह से टूट जायेगी. देश में भुखमरी फ़ैल जायेगी और अन्य देश इस बात का फायदा उठाते हुए पाकिस्तान को नुक्सान भी पहुंचा सकते हैं.

बता दें कि पिछले कुछ वक़्त से अमेरिका भी पाकिस्तान को दी जाने वाली आर्थिक सहायता में कटौती का विचार कर रहा है. अभी हाल ही में अमेरिकी थिंक टैंक ने पाकिस्तान को दी जानी वाली आर्थिक मदद बंद करने का प्रस्ताव अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को दिया था, उनके मुताबिक़ पाकिस्तान आतंकवाद से लड़ने के नाम पर हमसे मदद लेता है, लेकिन उस पैसे का इस्तमाल वो भारत के खिलाफ कश्मीर में हिंसा भड़काने के लिए करता है.

वहीँ सऊदी अरब से जकाँ यदि मिलनी बंद हो गयी तो अमेरिका भी ऐसा सख्त कदम आसानी से उठा सकता है. जिसके बाद पाकिस्तान का खुद को संभाले रखना लगभग नामुमकिन हो जाएगा.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments