Home > ख़बरें > भारत-चीन तनाव के बीच पुतिन ने लिया ऐसा जबरदस्त फैसला, मोदी मुस्कुराये, जिनपिंग बौखलाए

भारत-चीन तनाव के बीच पुतिन ने लिया ऐसा जबरदस्त फैसला, मोदी मुस्कुराये, जिनपिंग बौखलाए

russia-with-india-doklam

नई दिल्ली : डोकलाम में घुसपैठ की कोशिशों में लगे चीन को एक और बड़ा झटका लगा है. पहले ही अमेरिका, जापान व् कई अन्य देश चीन के खिलाफ मोर्चा खोलें हुए हैं, ऊपर से अब दुनिया का दूसरा सबसे ताकतवर देश रूस भी भारत के पक्ष में खड़ा हो गया है. जिसे देख चीन के बड़बोले और धमकीबाज मीडिया की बोलती बंद हो गयी है.

रूस के वो दो कदम, जिनसे परेशान है चीन

1. रूस का भारत के रुख समर्थन

डोकलाम के मुद्दे पर युद्ध की धमकियां देने वाले चीन को रूस ने सलाह दी है कि भारत का स्टैंड इस बारे में सही है और चीन को भारत की बात मानते हुए शान्ति से मसले का हल निकालना चाहिए. रूस के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मारिया जखारोवा ने कहा है कि रूस को नई दिल्ली और बीजिंग पर पूरा भरोसा है. दोनों ही दुनिया के जिम्मेदार देश हैं. उन्होंने कहा कि रूस चाहता है कि भारत और चीन इस मामले का ऐसा हल निकालें जो दोनों देशों को कबूल हो.

2. भारत की तीनों सेनाओं के साथ युद्धाभ्यास

रूस की सेना अक्टूबर में भारत की तीनों सेनाओं के साथ सैन्याभ्यास करने जा रही है. इस ज्वॉइंट मिलिट्री ड्रिल के जरिये मकसद है अपनी सेना के शौर्य को परखना और साथ ही दुश्मनों को दिखाना कि यदि रूस और भारत की सेना मिलकर किसी के खिलाफ लड़ती हैं तो कितनी खतरनाक हो सकती हैं.


देखिये न्यूज़ 24 का ट्वीट

tweet

चीन ने भारत और रूस के बीच अक्टूबर में होने वाली ज्वॉइंट मिलिट्री ड्रिल को लेकर चिंता जताई है. चीनी मीडिया के मुताबिक़ भारत और रूस के सैन्य रिश्ते इस ड्रिल से नई ऊंचाइयों पर पहुंचेंगे और इससे चीन को खतरा हो सकता है. हालांकि रूस ने चीन को इस ज्वॉइंट मिलिट्री ड्रिल से ना डरने की सलाह दी है.

बता दें कि इससे पहले अमेरिका व् जापान भी चीन के खिलाफ भारत की सैन्य शक्ति को बढ़ाने का फैसला ले चुके हैं. साथ ही अमेरिका ने भारत को 6 नए अपाची जंगी हेलीकॉप्टर बेचने का फैसला भी ले लिया है. भारत की लगातार बढ़ रही सैन्य ताकत और अर्थव्यवस्था से चीन बुरी तरह बौखलाया हुआ है. ऊपर से अब रूस के भारत को समर्थन से चीन के सामने घुटने टेकने के अलावा कोई चारा ही नहीं बचा है.

चीन को लगा था कि रूस डोकलाम मामले में चीन का पक्ष लेगा और भारत के साथ होने वाला सैन्याभ्यास टाल देगा, लेकिन रूस ने ऐसा नहीं किया. जिसके बाद चीन को सही मायनों में पीएम मोदी की ताकत और उनकी जबरदस्त विदेश नीति का अहसास हुआ है.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।

सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments