Home > ख़बरें > पाक आईएसआई से मिलने विदेश गए राहुल गांधी? पाकिस्तानी पत्रकार के कोड वर्ड से गंभीर उठे सवाल

पाक आईएसआई से मिलने विदेश गए राहुल गांधी? पाकिस्तानी पत्रकार के कोड वर्ड से गंभीर उठे सवाल

rahul-isi-meeting

नई दिल्ली : डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम के जेल जाने के बाद जहाँ एक ओर देश के कई शहर हिंसा की आग में जल रहे थे, वहीँ देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी गुपचुप रूप से देश से बाहर खिसक लिए हैं. गुपचुप रूप से उनके विदेश यात्रा पर जाने के बाद अब कई हैरान करने वाले दावे सामने आ रहे हैं, जिन्हे देखकर आपभी भौचक्के रह जाएंगे.

राहुल गांधी के विदेश जाने की सूचना देश को नहीं दी गयी, यहाँ तक कि किसी मीडिया ने भी इस खबर को नहीं दिखाया. लेकिन राहुल की बेहद गुप्त यात्रा के तार पाकिस्तान से जुड़े होने का दावा किया जा रहा है. बताया जा रहा है कि किसी गुप्त मकसद से राहुल नॉर्वे के ओस्लो गए हैं.

इसी बीच पाकिस्तानी पत्रकार मेहर तरार, जिसके कांग्रेस के बड़े नेता शशि थरूर के साथ भी रिश्ते रहे हैं, का एक हैरान करने वाला ट्वीट सामने आया है. मेहर तरार ने 12 अगस्त को एक ट्वीट किया था, जिसमे उसने लिखा था “13 डेज” यानि 13 दिन. डाटा साइंटिस्ट गौरव प्रधान ने भारत के गृह मंत्रालय को उस वक़्त आगाह भी किया था कि जरूर 25 अगस्त को कुछ न कुछ होगा, जो किसी प्रकार के हमले, दंगे या हिंसा से सम्बंधित हो सकता है.

देखिये मैहर का वो ट्वीट !

tweet52

अब डॉक्टर गौरव प्रधान ने दावा किया है कि मेहर तरार ने “13 दिन” ट्वीट किया था, जो शायद एक “कोड वर्ड” था, जो सभी आईएसआई सेल्स को बताने के लिए किया गया था कि 13 दिन बाद का राहुल का कार्यक्रम कन्फर्म हो चुका है और 12 अगस्त के ठीक 13 दिन बाद यानी 25 अगस्त को राहुल गुप्त विदेश यात्रा पर निकल भी गए.


tweet53

ये दावे कितने सच हैं, ये तो हम नहीं जानते लेकिन इनकी जांच होने जरूर चाहिए क्योंकि ये बेहद गंभीर खबर है. दावा ये भी किया जा रहा है कि यदि फ़ोन पर या ईमेल के द्वारा बातचीत होती तो पकड़ में आ सकती थी. यदि भारत में ही गुप्त मीटिंग होती तो उसके स्टिंग होने का भी ख़तरा हो सकता था. इसलिए युवराज ने अपनी गुप्त मीटिंग नॉर्वे में रखी ताकि किसी को कुछ पता ही नहीं चल सके. पूर्व केंद्रीय मंत्री शशि थरूर की पत्नी ने अपनी मौत से पहले ये खुलासा किया था कि उनके पति शशि थरूर के `आईएसआई एजेंट` के साथ अफेयर है.

खुफिया एजेंसिया इस तरह कोड वर्ड में बात करती हैं, मीटिंग करती है, कार्यक्रम बनाती हैं. तो क्या आने वाले वक़्त में भारत में कुछ गंभीर होने वाला है? ये सवाल उठाये जा रहे हैं. अब देखना होगा कि गृहमंत्रालय इस दिशा में क्या जांच करता है.

देखिये ये वीडियो


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments