Home > ख़बरें > राहुल गांधी ने रैली में खोल दी अखिलेश की पोल… टीपू बोले… ये कहीं का नहीं छोड़ेगा !

राहुल गांधी ने रैली में खोल दी अखिलेश की पोल… टीपू बोले… ये कहीं का नहीं छोड़ेगा !

rahul-akhilesh-behraich

नई दिल्ली : उत्तर प्रदेश में चुनाव प्रचार अपने चरम पर है. सभी पार्टियां चुनाव प्रचार में अपनी सारी ताकत झोंके दे रही हैं. बीजेपी को सत्ता से दूर रखने के लिए यूपी में सपा और कांग्रेस ने गठबंधन करके बीजेपी के खिलाफ चुनावी बिगुल फूँका हुआ है. अखिलेश और राहुल गांधी दोनों ही प्रचार में जी-जान से लगे हुए हैं. लेकिन दोनों ही अपने ऊल-जलूल बयानों के कारण जनता के उपहास का कारण बनने लगे हैं.


अभी हाल ही में अखिलेश यादव ने अपने गधे वाले बयान को लेकर अपनी और समाजवादी पार्टी की खूब खिल्ली उड़वाई थी और अब राहुल गांधी ने उनसे भी दो कदम आगे चलकर अपनी रैली में कुछ ऐसा कह दिया कि समाजवादी पार्टी को भी लगने लगा होगा कि राहुल को प्रचार करने ही क्यों दिया. पीएम मोदी पर हमला करने के चक्कर में राहुल ने गलती से अखिलेश यादव की ही पोल खोल दी.

बहराइच की रैली में प्रचार करने की धुन में राहुल ने सब कुछ भूल कर उत्तर प्रदेश में बेरोजगारी का मुद्दा उठा लिया. पीएम मोदी पर हमला करने की कोशिशों में लगे राहुल ने अपनी रैली में कहा कि उत्तर प्रदेश में किसी भी युवा से पूछिए कि क्या करते हो तो उसका जवाब होता है कुछ नहीं. उत्तर प्रदेश में बेरोजगारी एक बहुत बड़ी समस्या है. हालांकि राहुल भूल गए कि यूपी में मोदी की नहीं बल्कि समाजवादी पार्टी की सरकार है, इसलिए यूपी में बेरोजगारी के लिए यदि कोई जिम्मेदार है तो वो खुद अखिलेश यादव ही हैं.


शायद राहुल गांधी भूल गए कि उन्होंने समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन किया हुआ है और यूपी में बेरोजगारी का मुद्दा उठा कर असल में वो अखिलेश सरकार की ही पोल खोले दे रहे हैं. सबसे ज्यादा मजे की बात तो ये है कि ऐसा पहली बार नहीं हुआ जब उन्होंने सेल्फ गोल किया है. उत्तर प्रदेश में बेरोजगारी समस्या है ऐसा कहकर उन्होंने अखिलेश यादव पर ही निशाना साधा है. शायद वो अभी भी 27 साल यूपी बेहाल की राह पकडे हुए हैं.

दरअसल उत्तर प्रदेश में पहले कांग्रेस अकेले ही चुनाव लड़ना चाहती थी. यूपी में मुख्यमंत्री उम्मीदवार के तौर पर दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के नाम का चयन भी हो गया था. लेकिन प्रचार के दौरान अपनी सियासी हैसियत का अंदाजा होने पर कांग्रेस ने सपा के साथ गठबंधन करने में ही अपनी भलाई समझी.

अभी कुछ ही वक़्त पहले शीला दीक्षित ने अपने एक बयान में कहा था कि राहुल गांधी पूरी तरह से मेच्योर नहीं हुए हैं. चुनाव प्रचार में यूपी में बेरोजगारी के बयान के बाद से सपा कार्यकर्ता भी हैरान हैं, उन्हें भी लगने लगा है कि शीला दीक्षित ठीक ही कह रही थीं. वहीँ लोगों ने सोशल मीडिया में उनका जम के मजाक उड़ाना शुरू कर दिया है. लोगों का कहना है कि यदि 46 साल की आयु में भी वो पूरी तरह से परिपक्व और जिम्मेदार नहीं हो पाएं हैं तो उन्हें राजनीति से संन्यास ले लेना चाहिए.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।

सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments