Home > ख़बरें > पाकिस्तान से आयी बेहद सनसनीखेज और अविश्वसनीय खबर, पढ़कर होश उड़ जाएंगे आपके

पाकिस्तान से आयी बेहद सनसनीखेज और अविश्वसनीय खबर, पढ़कर होश उड़ जाएंगे आपके

nawaj-selling-stock-exchange-china

नई दिल्ली : अभी-अभी पाकिस्तान से आयी बेहद हैरान करने वाली इस खबर पर विशवास करना ज़रा मुश्किल है. इस खबर के मुताबिक़ चीन ने कराची स्टॉक एक्सचेंज में 40 फ़ीसदी हिस्सा 85 मिलियन डॉलर में ख़रीदने के एक समझोते पर हस्ताक्षर कर दिए हैं. ये एक बेहद गंभीर बात है क्योंकि इसका मतलब है कि चीन ने पाकिस्तान की कैपिटल मार्केट के एक बड़े हिस्से पर क़ब्ज़ा कर लिया है.


चीन का उपनिवेश बनने की ओर पहला कदम

एक तो पहले ही चीन सीपेक के जरिये से पाकिस्तान पर क़ब्ज़े करने के मंसूबे बनाए बैठा है और अब चीन की ये चाल तो पाकिस्तान पर बेहद भारी पड़ने जा रही है. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि किसी भी देश का दूसरे देश के उपनिवेश बनने का रास्ता यही से शुरू होता है. एक ओर तो सीपेक के जरिये से चीन धीरे-धीरे पाकिस्तान की ज़मीन पर अपना क़ब्ज़ा जमा रहा है और दूसरी ओर अब उनकी कैपिटल मार्केट का एक बड़ा हिस्सा भी चीन के पास होगा.

देश में “अंधेर नगरी चौपट राजा”

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ पाकिस्तान को अपने कैपिटल मार्केट का ये हिस्सा चीन को इसलिए बेचना पड़ रहा है क्योंकि उनकी आर्थिक हालात खस्ता हो चुके हैं, आतंकी गतिविधियों के कारण दुनिया के कई देश पाकिस्तान में निवेश नहीं करना चाहते. देश में “अंधेर नगरी चौपट राजा” के चलते उनके उद्योग-धंधे भी बंद होने की कगार पर है जिससे उनका निर्यात भी काफी कम हो चुका है.

पाकिस्तान के वित्त मंत्री के सामने कराची में सेल और परचेस का अग्रीमेंट (SPA) भी साइन हो चुका है. सीपेक के लिए 46 बिलियन डॉलर का फ़ंड जुटाने के लिए अब पाकिस्तानी स्टॉक एक्सचेंज “इंफ़्रा बांड” लाने पर भी विचार कर रही है. गौरतलब है कि सीपेक पाक अधिकृत कश्मीर में से होकर गुज़रता है।


मोदी की बात ना मानने का खामियाजा

भारत ने आजतक कभी भी पाकिस्तान पर पहले आक्रमण नहीं किया, कभी पाकिस्तान पर कब्जा करने के बारे में नहीं सोचा. यहां तक कि तीन बड़े युद्ध जीतने के बावजूद कभी पाकिस्तान की धरती पर कब्जा नहीं किया और उनके सैनिक भी लौटा दिए. लेकिन पाकिस्तान को भारत की मित्रता कभी समझ ही नहीं आयी.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी मित्रता की कोशिश के चलते पाकिस्तानी पीएम नवाज शरीफ को अपने शपथ ग्रहण समाहरोह में बुलाया, पाकिस्तान मिलने भी गए लेकिन पाकिस्तान की गिद्ध दृष्टि तो केवल भारत के कश्मीर की ओर ही रही.

खुद के ही पैर में मारी कुल्हाड़ी

ये कितनी मूर्खता की बात है कि केवल कश्मीर को हथियाने के लिए पाकिस्तान ने चीन के साथ ऐसे-ऐसे करार कर लिए जिससे उनके देश की अस्मिता और अखंडता पर ही ख़तरा मंडराने लगा है. बजाये इसके कि अपने देश का विकास करके एक समृद्ध देश बने, पाकिस्तान ने भारत में आतंक फैलाना ज्यादा जरुरी समझा और इसके चलते अपनी खुद की ही अर्थव्यवस्था को दांव पर लगा लिया.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।

सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments