Home > ख़बरें > राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने थामा पीएम मोदी का हाथ तो अपने बिछाये जाल में खुद ही फंस गया विपक्ष !

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने थामा पीएम मोदी का हाथ तो अपने बिछाये जाल में खुद ही फंस गया विपक्ष !

modi-pranab-mukharjee-sonia

नई दिल्ली : नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद से ही विपक्ष उनके पीछे हाथ धो के पड़ा हुआ है. मोदी सरकार में किसी तरह के कोई घोटाले या कोई अन्य भ्रष्टाचार का मामला ना होने के कारण तिलमिलाया हुआ विपक्ष गोरक्षक और कश्मीर के मुद्दे पर ही झूठी-सच्ची ख़बरें चला कर पीएम मोदी के विरोध में लगा हुआ है. लेकिन विपक्ष की इस मुहिम को मोदी सरकार के तीन साल पूरे होने पर बड़ा झटका लगा है.

दरअसल मोदी सरकार के तीन वर्ष पूरे होने पर कांग्रेस समेत अन्य विपक्षी पार्टियों की कश्मीर व् पाकिस्तान के मुद्दों पर मोदी सरकार को घेरने की मंशा थी. लेकिन कश्मीरी अलगाववादियों के खिलाफ एनआईए की जांच और पाकिस्तान को सेना द्वारा मुहतोड़ जवाब देने के कारण विपक्ष की योजनाओं पर पानी फिर गया है. रही बची कसर राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने पीएम मोदी की तारीफ़ करके पूरी कर दी.

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने पीएम नरेंद्र मोदी की तारीफों के पुल बांधते हुए उन्हें सबसे बेहतरीन कम्युनिकेटर बताया है. इसके साथ ही राष्ट्रपति ने पीएम मोदी को देश का सच्चा मार्गदर्शक भी बताया है. मोदी सरकार के तीन वर्ष पूरे होने के मौके पर एक प्रोग्राम में हिस्सा लेते हुए राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने ये भी कहा कि पीएम मोदी ने देश की अर्थव्यवस्था को एक नया रास्ता दिखाया है. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कई फैसले तो इतने बेमिसाल है कि उनसे एक नए युग की शुरुआत हो गयी है.

शुक्रवार को राष्ट्रपति भवन में एक प्रोग्राम के दौरान लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को पीएम मोदी के रेडियो प्रोग्राम ‘मन की बात: ए सोशल रिवोल्यूशन ऑन रेडियो’ और ‘मार्चिंग विद ए बिलियन- एनालाइजिंग नरेंद्र मोदी गवर्नमेंट एक मिडटर्म’ नाम की दो किताबें तोहफे में दी. इस प्रोग्राम में अरुण जेटली ने भी शिरकत की. इसी प्रोग्राम के बाद राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने पीएम मोदी की तारीफ की.

राष्ट्रपति ने कहा, “इसमें कोई शक नहीं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस दौर के सबसे बेहतरीन कम्युनिकेटर्स में से एक हैं. इस मामले में पीएम मोदी की तुलना पंडित जवाहर लाल नेहरू और इंदिरा गांधी से की जा सकती है. ये वो लोग हैं जो अपने सिद्धांतों, सरकार और सेक्युलर कॉन्स्टीट्यूशन के बारे में असरदार बात करते हैं.”

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने कहा कि एक असरदार वक्ता हुए बिना आप लाखों लोगों का नेतृत्व नहीं कर सकते. मोदी सरकार की तारीफ करते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि विकास के लिए कई सेक्टर्स में बड़े प्रोग्राम शुरू किए गए हैं. ऐसा इसलिए मुमकिन हो सका क्योंकि हमारी अर्थव्यवस्था की बुनियाद बेहद मजबूत है, हमने यूरो जोन जैसे इंटरनेशनल क्राइसिस में भी हार नहीं मानी.

बहरहाल राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की तारीफों के बाद कांग्रेस को समझ ही नहीं आ रहा है कि पीएम मोदी का विरोध अब किस बात के लिए करें. गौरतलब है कि पीएम मोदी के नोटबंदी के फैसले का कांग्रेस का विरोध किया था और जनता ने चुनावों में कांग्रेस के कई उम्मीदवारों की जमानत तक जब्त करवाकर खूब मजा चखाया था. ऐसे में कोंग्रेसी नेता अब फूंक-फूंक के कदम रख रहे हैं.

इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments