Home > ख़बरें > योगी राज में पुलिस की अक्ल आयी ठिकाने, नप गए मुलायम सिंह यादव, समाजवादी पार्टी में हाहाकार !

योगी राज में पुलिस की अक्ल आयी ठिकाने, नप गए मुलायम सिंह यादव, समाजवादी पार्टी में हाहाकार !

mulayam-singh-yadav-yogi

लखनऊ : उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी की जबरदस्त हार के बाद योगी सरकार के आते ही प्रदेश में क़ानून व्यवस्था सुचारु ढंग से काम करने लगी है. बिना किसी भेदभाव के सभी को सामान दृष्टि से देखते हुए क़ानून अपना काम करने लगा है. पुलिस पर कोई राजनीतिक दबाव ना होने के कारण अब सपा संयोजक और पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव के खिलाफ बड़ी कार्यवाही होने जा रही है.

मुलायम के खिलाफ कार्यवाही !

दरअसल आईपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर ने मुलायम सिंह पर उन्हें फ़ोन पर धमकी देने के आरोप लगाते हुए 10 जुलाई 2015 को हजरतगंज में मुकदमा दर्ज कराया था. बताया जाता है कि उस वक़्त प्रदेश में सपा सरकार होने के कारण हजरतगंज पुलिस ने इस मामले पर आनन-फानन में विवेचना करते हुए अक्टूबर 2015 में अंतिम रिपोर्ट लगा भी दी थी और किसी के भी खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं की गयी थी.

लेकिन अब योगी सरकार में पुराने दबे हुए मामले खुलने लगे हैं, रुकी हुई फाइलें तेजी से आगे बढ़ने लगी हैं. इसी के चलते मुलायम सिंह यादव के खिलाफ भी इस मामले में आगे की कार्यवाही होने जा रही है. आईपीएस अमिताभ ठाकुर को धमकी देने के मामले में पुलिस जांच के लिए जल्द ही मुलायम सिंह की आवाज का नमूना लेगी.


कोर्ट में पुलिस के बहाने !

इस मामले के विवेचक सीओ कृष्णानगर दिनेश कुमार सिंह ने अपनी बात में इस बात का जिक्र किया है कि पुलिस जल्द ही जांच के लिए अमिताभ और मुलायम सिंह की आवाज़ का नमूना लेगी और उचित कार्यवाही करेगी. ये रिपोर्ट सीजेएम लखनऊ संध्या श्रीवास्तव के सामने पेश की गयी है.

खबरों के मुताबिक़ यदि आवाज के नमूने लेने के बाद जांच में ये सिद्ध हो जाता है कि मुलायम सिंह यादव ने अमिताभ ठाकुर को धमकी दी थी तो उनके खिलाफ उचित कार्यवाही की जायेगी. सीजेएम कोर्ट ने पिछले साल 20 अगस्त को ही विवेचक को मुलायम सिंह और अमिताभ की आवाज़ के नमूने लेकर विधि विज्ञान प्रयोगशाला से उसका परीक्षण करने के आदेश दिए थे लेकिन कोर्ट के आदेश को ताक पर रखते हुए पुलिस ने अब तक उस पर कोई कार्यवाही नहीं की थी.

नयी सरकार के बनने के बाद इस मामले में विवेचक दिनेश सिंह ने 30 मार्च 2017 की अपनी रिपोर्ट में कोर्ट को बताया कि चुनाव ड्यूटी और अन्य मामलों की तफ्तीश में व्यस्त होने के चलते वो इस मामले पर कोई कार्यवाही नहीं कर पाए थे. अब जल्द ही दोनों की आवाज के नमूने ले कर जांच आगे बधाई जायेगी. वहीँ सीओ की रिपोर्ट को संज्ञान में लेते हुए कोर्ट ने इस मामले की अगली सुनवाई की तारीख 24 अप्रैल तय की है.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।

सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments