Home > ख़बरें > आज के दिन थर्राया था राजस्थान का रेगिस्तान, वाजपेयी और कलाम के कमाल से हिल गया था पूरा विश्व

आज के दिन थर्राया था राजस्थान का रेगिस्तान, वाजपेयी और कलाम के कमाल से हिल गया था पूरा विश्व

nuclear-explosion-vajpayee-kalam

नई दिल्ली : आज देश के लिए बेहद गौरव का दिन है. आज के दिन ही मखमली धोरों में बसे पोखरण के खेतोलाई गांव की धरती पर भारत ने सफल परमाणु परीक्षण करके दुनिया को अपनी ताकत का अहसास कराया था. पोखरण के खेतोलाई गांव के पास आर्मी फील्ड फायरिंग रेंज में भारत ने 11 मई 1998 को दूसरी बार परमाणु परीक्षण किया था.

अमेरिका जैसे देश की जासूसी को मात देते हुए तत्कालीन प्रधानमंत्री भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी ने 11 मई 1998 को दोपहर 4 बजे एलान किया था कि, “भारत में बुद्ध मुस्कराएं हैं”. भारत के सफल परमाणु परिक्षण से अमेरिका समेत कई देशों को मिर्ची लग गयी थी और भारत पर तरह-तरह के प्रतिबंध लगा दिए गए थे.

प्रतिबंधों की परवाह ना करते हुए भारत ने 13 मई 1998 को एक बार फिर खेतोलाई गांव के पास परमाणु परिक्षण कर डाला था. पोखरण में किये गए परीक्षण के बाद भारत की सैन्य ताकत कई गुना बढ़ गयी, जिसके पास आज परमाणु शक्ति है.

स्वर्गीय पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम ने परीक्षण करने से पहले कई दिनों तक यहाँ की भीषण गर्मी में सेना की वर्दी में रहकर कई मुश्किलों का सामना किया, मगर अपने हौंसलों से नहीं डिगे. खेतोलाई गांव के लोगों ने बताया कि फौजी वर्दी में लम्बे-लम्बे बालों वाले एक वैज्ञानिक दिनभर गांव में रहते थे. कलाम जब राष्ट्रपति बने तब एक अग्रेजी अखबार को दिए अपने इन्टरव्यू में उन्होंने कहा, ‘आई लव खेतोलाई’. तब जाकर गाँव के लोगों को पता चला की फौजी वर्दी में घूमने वाले वो लम्बे-लम्बे बालों वाले वैज्ञानिक कलाम साहब ही थे.

इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments