Home > ख़बरें > अभी अभी -गुजरात में पीएम मोदी ने बनाया ऐतिहासिक विश्व रिकॉर्ड, एक फैसले से रच दिया इतिहास !

अभी अभी -गुजरात में पीएम मोदी ने बनाया ऐतिहासिक विश्व रिकॉर्ड, एक फैसले से रच दिया इतिहास !

modi-world-record

राजकोट : पूरे विश्व में सबसे लोकप्रिय और चहेते प्रधानमंत्री की बात हो या सबसे ज़्यादा जनता से जुड़े रहने की बात हो इन मामंलों में दूर दूर तक पीएम मोदी के आगे कोई नहीं टिक सकता. गुरुवार को दो दिवसीय के गुजरात दौरे पर पीएम मोदी पहुंचे यहाँ उन्होंने साबरमती आश्रम में एक कार्यक्रम में भाग लिया मोडासा में दो वाटर प्रोजेक्ट का उद्घाटन किया. लेकिन इससे भी ज़्यादा खास बात यह रही जब पीएम मोदी विश्व रिकॉर्ड बनाते चले गए जिससे जनता का उनके दिलों में प्यार और बढ़ता चला गया.

प्रधानमंत्री मोदी ने बनाया यह विश्‍व रिकॉर्ड

ताज़ा ख़बरों के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी गुरुवार को दो दिन के गुजरात दौरे पर पहुंचे थे. यहाँ पीएम मोदी ने जो अपने नाम सबसे पहला विश्व रिकॉर्ड किया वो था जब 18,500 से ज्यादा दिव्यांग लोगों को एक साथ एक शिविर में उनके जीवन में उनका सहारा बन सकें ऐसे उपकरण उन्हें दिए. एक साथ इतनी बड़ी संख्‍या में दिव्यांगों को उपयोगी उपकरण का यह एक विश्व रिकॉर्ड है.

जैसे कोई चल नहीं सकता पूरा दिन बिस्तर पर रहता है उसे व्हील चेयर देना, जो देख नहीं सकता उसे आधुनिक छड़ी देना, जो काम सुनता है, उसे सुनने की मशीन देना. ये आप सब के लिए आम बात हो सकती है लेकिन एक दिव्यांग नज़र से देखिये तो ये उनके जीवन के लिए एक वरदान के बराबर है. इसी शिविर में पीएम मोदी ने एक बेहद चौकाने वाली जो बात कही उसे सुन वहां के लोगों के पैरों तले ज़मीन ही खिसक गयी.


18,500 दिव्यांगों को एक साथ दिया उनके जीवन जीने का आधार

पीएम मोदी ने इस कार्यक्रम में बेहद चौंकाने वाला खुलासा करते हुए बताया कि पिछले तीन साल में दिव्यांगों की मदद के लिए मोदी सरकार में कुल 5,500 शिविर लगाए गए. लेकिन पिछली सरकारों के कार्यकालों में बेहद दुःख प्रकट करते कहना पड़ रहा है कि 1992 से 2013 तक दिव्यांगों के लिए इस तरह के केवल 55 शिविर का ही आयोजन किया गया. प्रधानमंत्री ने कार्यक्रम में मौजूद लोगों से कहा कि “अब आप ज़रा 55 की तुलना 5,500 से करिये. यह साफ तौर पर दिखाता है कि हमारी सरकार किस करुणा और संवेदनशीलता के साथ काम कर रही है.”.प्रधानमंत्री ने कहा कि हम नए विश्व रिकॉर्ड कायम कर रहे हैं. मैं गुजरात सरकार और राजकोट जिला प्रशासन को इसके लिए बधाई देता हूं.

40 साल बाद कोई पीएम राजकोट आया

आपको बता दें करीब 40 साल बाद राजकोट में किसी प्रधानमंत्री के आने का अवसर बना, इससे पहले सिर्फ मोरारजी देसाई आए थे. यहाँ पीएम मोदी ने कहा कि मेरे जीवन में राजकोट का विशेष महत्व है, अगर राजकोट ने मुझे चुन कर गांधीनगर नहीं भेजा होता है तो देश ने मुझे आज दिल्ली न भेजा होता.

राष्ट्रगान का विश्व रिकॉर्ड बनाया

जो दूसरा विश्व रिकॉर्ड यहाँ बना वो था प्रधानमंत्री मोदी की मौजूदगी में 1442 मूक-बधिर बालक-बालिकाओं ने संकेत में राष्ट्रगान गाकर एक विश्व रिकॉर्ड कायम किया. प्रधानमंत्री ने कहा-दिव्यांग बच्चे न सिर्फ उस परिवार की जिम्मेदारी हैं, जहां उनका जन्म हुआ है. बल्कि ये बच्चे समाज के साथ देश की भी जिम्मेदारी हैं.

गुजरात सीएम विजय रुपानी ने पूरा किया मोदी का अधूरा सपना

इससे पहले आजी डैम में नर्मदा के जल की पूजा करने के बाद जनसभा में पीएम मोदी ने कहा कि कभी रेल टैंकर से राजकोट में पानी लाया जाता था. उस समय ये खबरें अखबारों में हेडलाइन बनती थीं हैंडपंप लगना बड़ा अवसर बन गया था. गढ्डे खोदकर नल से पानी भरा जाता था. सौनी योजना की घोषणा के वक्त विपक्ष और मीडिया ने कहा था कि ये संभव ही नहीं है लेकिन, बीजेपी सरकार ने 470 किमी दूर नर्मदा बांध से पानी लाकर उसे 65 मंजिल ऊंचा चढ़ाकर सौराष्ट्र और कच्छ की सूखी धरती तक पहुंचा दिया.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments