Home > ख़बरें > अभी – अभी – भारत-चीन सीमा से लापता सुखोई विमान के रहस्य से वायुसेना ने उठाया पर्दा

अभी – अभी – भारत-चीन सीमा से लापता सुखोई विमान के रहस्य से वायुसेना ने उठाया पर्दा


गुवाहाटी : वायुसेना का लड़ाकू विमान सुखोई-30 एमकेआई ने असम के तेज़पुर एयरबेस से उड़ान भरी थी. यह हर बार की तरह नियमित प्रशिक्षण उड़ान पर था और इसमें चालक दल के दो सदस्य सवार थे. जिसके बाद कुछ दिन पहले इस लड़ाकू विमान के रहस्यमय तरीके से भारत- चीन की सीमा पर लापता होने की खबर आयी थी. जिसके बाद ये कयास लगाए जा रहे थे कि कहीं इसमें चीन देश की कोई साज़िश तो नहीं. लेकिन कल भारतीय वायुसेना ने इस लापता सुखोई लड़ाकू विमान के रहस्य से पर्दा उठा दिया.

वायुसेना अधिकारी ने खोला लापता लड़ाकू विमान का रहस्य

वायुसेना अधिकारी अनुपम बनर्जी ने पत्रकारों से बातचीत में बताया कि असम के तेज़पुर बेस से उड़ने के बाद सुखोई -30 लड़ाकू विमान भारत-चीन की सीमा पर पर गायब हो गया था. लेकिन अब जा कर असम के घने जंगलों में विमान का मलबा मिला है. विमान के उड़ान डेटा रिकॉर्डर (ब्लैक बॉक्स) की जांच करने के बाद पता चला है कि दोनों चालक विमान में ही फंस गए थे और कॉकपिट से बाहर नहीं निकल पा रहे थे. जिससे विमान एक बड़ी दुर्घटना का शिकार हुआ और उसमें दोनों चालक को मृत घोषित किया गया है. दुर्घटना स्थल से खोज एवम बचाव दाल को खून से सना हुआ जूता, और आधा जला हुआ पैन कार्ड मिला है.


तेज़पुर एयरबेस से लापता हो गया था विमान

गौरतलब है कि 23 मई को सुखोई 30 लड़ाकू विमान लापता हो गया था. वायुसेना ने कहा कि 3 मई को तेजपुर एयरबेस से 60 किलोमीटर दूर हादसे से पहले स्क्वॉड्रन लीडर डी पंकज (36 वर्ष ) और फ्लाइट लेफ्टिनेंट एस अचुदेव (26 वर्ष) विमान से बाहर नहीं निकल पाए थे. जीसे उन्हें विमान क्षतिग्रस्त होने से प्राणघातक चोटें आयी थी. दुर्घटनास्थल से खून से सना हुआ जूता भी बरामद किया गया है. हादसा इतना भयानक रहा कि दोनों चालकों को बचने का मौका नहीं मिल सका और वे सेफ्टी डोर से बहार नहीं निकल पाए. मंगलवार सुबह 10.30 बजे तेज़पुर एयरबेस से उड़ान भरने के बाद ये विमान का 11 बजे रेडियो राडार से संपर्क टूट गया था. जिसके कुछ देर बाद यह राडार पर दिखना भी बंद हो गया था. माना जा रहा है कि ख़राब मौसम के कारण विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया होगा. हालाँकि अभी इस पूरे मामले की कोर्ट ऑफ इंक्वायरी का आदेश पहले ही दिया जा चुका है अभी और जांच बाकी है.

लापता विमान को खोजने के लिए बड़े पैमाने पर वायुसेना ने खोज अभियान चलाया था. हालाँकि ख़राब मौसम के कारण अभियान में काफी दिक्कतें आयी. लेकिन फिर भी वायुसेना ने विमान का मलबा ढूंढ निकाला.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments