Home > ख़बरें > पीएम नरेंद्र मोदी के सपने को सरेआम चकनाचूर करके रख दिया, नितीश कुमार की पुलिस ने

पीएम नरेंद्र मोदी के सपने को सरेआम चकनाचूर करके रख दिया, नितीश कुमार की पुलिस ने

पटना : हमारे देश में गंगा नदी का न सिर्फ़ सांस्कृतिक बल्कि आध्यात्मिक महत्व भी है. यही नहीं देश की 40% आबादी आज भी गंगा नदी पर निर्भर है. इसके लिए मोदी सरकार ने गंगा नदी को पूरी तरह प्रदुषण मुक्त करने और नदी को पुनर्जीवित करने के लिए “नमामि गंगे” नामक एक गंगा सरंक्षण योजना की शुरुआत की थी. साथ ही केंद्र सरकार ने इस योजना के अब तक की बजट राशि को भी 4 गुना कर दिया जो कि हज़ारो करोडो रुपये हैं किन्तु हाल ही में ख़बरों के मुताबिक नितीश कुमार की पुलिस ने सरेआम पीएम मोदी की इस योजना की धज्जियाँ उड़ा दी.


केंद्र सरकार ने इसके लिए लोगो में जागरूकता अभियान भी चलाया कि नदी में अध जले शव को ना बहाया जाए, लोगों में धीरे धीरे इसका असर भी साफ़ दिखाई दे रहा था. जहाँ एक तरफ पुरे जोर शोर से गंगा की सफाई के लिए “नमामि गंगे” योजना पर काम हो रहा है वही बिहार पुलिस को इससे कोई लेना देना ही है.

20.000 लीटर शराब गंगा नदी में बहा दी गयी

 

मिडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बिहार में पटना पुलिस आज कल “ऑपरेशन वाइन क्लीन” चला रही है जिसके तहत शराब के अवैध कारोबारियों पर बड़ी कार्यवाही की जा रही है. शनिवार को पटना के सुकुमारपुर दियारा में दर्जनों अवैध भट्टियों को नष्ट किया. इसी दौरान भट्टियों में मिली 400 ड्रम भरकर हज़ारो लीटर शराब गंगा नदी के किनारे गुप् चुप तरीके से गंगा नदी में बहा दी, माना जा रहा है ये तकरीबन 20.000 लीटर शराब थी.


गौरतलब है कि ये अभियान पुलिस अधीक्षक राकेश कुमार दुबे के नेतृत्व में चलाया जा रहा था.पुलिस को सूचना मिली कि कुछ लोग हज़ारो लीटर अवैध शराब को ज़मीन के नीचे भट्टियों में बना रहे हैं. पुलिस ने सादे कपड़ो में कुछ अफसरों को भेजा जिससे यह सुचना सही पायी गयी. इसके बाद पुलिस ने टीम बना कर धावा बोल दिया और हज़ारो लीटर शराब को अपने कब्जे में ले लिया. मौके से लगभग 400 ड्रम शराब और 3 बाइक बरामद की गयी. तैयार देसी शराब को पुलिस कुछ ही दूर गंगा नदी किनारे लेकर गयी और करीब 20 हजार लीटर शराब बहा दी गई.

ये बात सही है कि अवैध भट्टियों पर पुलिस कार्यवाही कर रही है पर उन 400 ड्रम को पुलिस नष्ट भी कर सकती थी. अक्सर ज़मीन में ही मिटटी डालकर नष्ट कर दिया जाता है , लेकिन उसे सीधा गंगा नदी में बहाना कहाँ तक उचित है.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments