Home > ख़बरें > ट्रिपल तलाक पर मुस्लिमों ने किया ऐसा काम, देश की राजनीति में मची खलबली, ओवैसी, आजम सन्न

ट्रिपल तलाक पर मुस्लिमों ने किया ऐसा काम, देश की राजनीति में मची खलबली, ओवैसी, आजम सन्न

muslim-women

संभल : तीन तलाक का मुदा देश भर में तब उठा जब सब तरफ से ऐसे शिकायतें आने लगी कि किसी ने फ़ोन पर तो, किसी ने whtsapp पर तो किसी ने डाक के जरिये तीन तलाक दे दिया. हद तो तब हो गयी जब एक महिला को सिर्फ इसलिए तलाक दे दिया क्यूंकि उसने बेटी को जन्म दिया था. इस पर देश की सबसे सर्वोच्च अदालत में फिलहाल तो तीन तलाक के मुद्दे पर फैसला आना बाकी है लेकिन इससे पहले यूपी के संभल में पंचायत ने तीन तलाक पर ऐसा ज़ोरदार फैसला सुनाया है, जिसने मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड तक की आंखें फटी रह गयी और साथ ही तीन तलाक की वकालत करने वालो को करारा जवाब दिया है.


सिर्फ तीन तलाक ही नहीं , ऐसे कई शानदार फैसले सुना चुकी है अब तक ये तुर्की पंचायत

– तुर्की समुदाय के लोग तीन तलाक नहीं देंगे. अगर किसी ने पंचायत के फैसले की नाफरमानी करी या किसी ने एक बार में तीन तलाक दिया तो उस पर जुर्माना होगा और उसे बिरादरी से बहार निकल दिया जायेगा.
– तुर्क समुदाय के लोग गो मांस नहीं खाएंगे और ना ही किसी भी तरह से इस पशु के मांस के कारोबार में शामिल होंगे. ऐसा करने पर कड़ा दंड दिया जायेगा.
– शादी में ना तो दहेज़ लिया जायेगा और ना ही दिया जायेगा, ऐसा करने वाला अपराधी माना जायेगा.
– बेटों की ही तरह बेटियों को भी पढ़ाया जाएगा, जो बेटों को पढ़ाएगा और बेटियों को नहीं उसे पंचायत के दंड का भागी बनना पड़ेगा.
– शादी के बाद तीज-त्योहारों व अन्य किसी रस्मों में भी फ़िज़ूल खर्ची या सामान का लेनदेन नहीं होगा.
– शादी में डीजे या किसी भी तरह की डांस पार्टी का आयोजन या बाहरी दिखावा नहीं होगा.

तीन तलाक देना पड़ा महंगा

ताज़ा खबर यूपी के संभल से आ रही है यहाँ पर एक तुर्की समुदाय की मुस्लिम पंचायत ने तीन तलाक पर कड़ा फैसला सुना दिया है. पंचायत ने एक शख्स के गुस्से में पत्नी को तीन बार तलाक बोलने पर भटकने के लिए छोड़ देने पर उस शख्स को फटकार लगते हुए 2 लाख का जुर्माना लगा दिया है. साथ ही उसे अपनी बीवी को मेहर के रूप में 60 हजार रुपये देने का आदेश दिया गया है.


रविवार को पश्चिमी यूपी के संभल में तुर्क समुदाय की पंचायत ने यह फैसला सुनाया. दरअसल, 45 साल के एक मुस्लिम शख्स ने करीब 10 दिन पहले ही 22 साल की लड़की से शादी करी थी. शादी के बाद ही वो शख्स अपनी पत्नी को तंग करने लगा जिससे दोनों में अनबन शुरू हो गयी.वह आये दिन पत्नी को पीटना शुरू कर दिया था. इसके तुरंत बाद ही उसके शौहर ने तीन बार तलाक बोलकर उसे धक्के मारके उसके मायके भेज दिया था.

इसके बाद लड़की के घरवालों ने पंचायत से मदद की गुहार लगाई. पंचायत की अध्यक्षता करने वाले शाहिद हुसैन ने इसके बाद 52 गांवों से लोगों को जमा किया और विचार विमर्श किया , जिसके बाद पंचायत ने इसे पंचायत के फैसले की नाफरमानी और गंभीर मामला मानते हुए युवक पर दो लाख रुपये का जुर्माना लगाया. इसके साथ ही पंचायत ने लड़की पक्ष को दहेज का सारा सामान भी वापस दिलवाया.

पंचायत के अध्यक्ष शाहिद हुसैन कहा कि सामाजिक बुराइयों को छोड़कर ही तरक्की के रास्ते पर आगे बढ़ा जा सकता है

उन्होंने कहा कि जो लोग तीन तलाक व दहेज जैसे मामलों में फैसला नहीं मानेंगे वह सजा के हकदार बनेंगे. तुर्क समुदाय के लोगों ने अपने समाज में दहेज प्रथा, शादियों में फुजूल खर्ची, शादियों में डीजे या डांस पार्टी बुलाने इत्यादि पर पूरी तरह से बैन लगा रक्खा है. तुर्क समुदाय की पंचायत वैसे तो दशकों से अपने समाज में सुधार के लिए काम कर रही है लेकिन पिछले छः महीने से इस अभियान को और तेज कर दिया गया है.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।

सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments