Home > ख़बरें > सर्जिकल स्ट्राइक के नाम से काँपा पाकिस्तान, भारतीय सेना का एक्शन देख गिड़गिड़ाई पाक फ़ौज

सर्जिकल स्ट्राइक के नाम से काँपा पाकिस्तान, भारतीय सेना का एक्शन देख गिड़गिड़ाई पाक फ़ौज

indian-army-surgical-strike

श्रीनगर : 2016 में पाकिस्तान के इशारे पर आतंकियों ने भारतीय सेना के उरी कैंप पर हमला किया था. जिसका बदला लेते हुए भारतीय सेना ने पीओके में सर्जिकल स्ट्राइक करके पाक आतंकी ठिकानों को ध्वस्त किया था. उसके बावजूद पाकिस्तान बाज नहीं आया, जिसके जवाब में एक बार फिर एलओसी पार करके पाक फ़ौज पर भीषण हमला किया गया. अब जम्मू-कश्मीर में सुंजवान आर्मी कैंप पर आतंकी हमले के बाद पाकिस्तान के खिलाफ एक बार फिर बड़ा एक्शन लेने का वक़्त आ गया है.


सर्जिकल स्ट्राइक के नाम से काँपा पाकिस्तान

एलओसी पर भारतीय सेना एक्शन के मूड में है. पाकिस्तान पीएम मोदी को भी अच्छी तरह जानता है और भारतीय सेना को भी, लिहाजा उसे पता है कि अब उसकी खैर नहीं. अब उसपर बड़ा हमला किया जाएगा. क्रिया की प्रतिक्रया जरूर होगी. पाकिस्तान को भारतीय सेना द्वारा सर्जिकल स्ट्राइक का डर सताने लगा है.

भारतीय सेना के मुताबिक़ उनके आर्मी कैंप पर हुए इस हमले के पीछे पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद जिम्मेदार है. जैश-ए-मोहम्मद ने इस हमले की जिम्मेदारी भी ली है. ऐसे में पाकिस्तान को डर सता रहा है कि जैसे उरी हमले के बाद भारतीय सेना ने एलओसी पार कर सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दिया था, वैसा ही इस बार भी जरूर होगा. इसलिए पाकिस्तान ने पहले ही इसे लेकर एक तरह से चेतावनी दे दी है.

भारतीय सेना को पाकिस्तान की चेतावनी

सुंजवान कैंप पर हमले के बाद पाकिस्तान ने भारतीय सेना के आरोपों को हमेशा की तरह खारिज कर दिया है. ढीठता का आलम ये है कि जब जैश-ए-मोहम्मद ने खुद जिम्मेदारी ले ली है, इसके बावजूद पाकिस्तान इस बात से मुकर रहा है.


पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने बयान जारी कर कहा है कि भारतीय पक्ष हमेशा से बिना उचित जांच किए गैर जिम्मेदाराना बयान देते हुए निराधार आरोप लगाता है. पाकिस्तान ने आरोप लगाया है कि कश्मीर में चल रहे ‘सशस्त्र विद्रोह’ को नियंत्रित करने की कोशिशों में की जा ही क्रूरता से ध्यान हटाने के लिए भारत ऐसे आरोप लगा है. इसके अलावा पाकिस्तान ने एलओसी पार किसी भी तरह की जवाबी कार्रवाई को लेकर भी भारत को चेताया है.

पाकिस्तान ने कहा है कि हमें भरोसा है कि कश्मीर में उत्पीड़न और मानवाधिकारों के उल्लंघन को रोकने के लिए अंतरराष्ट्रीय समुदाय भारत पर दबाव बनाएगा. भारत की तरफ से हमेशा पाकिस्तान में आतंकियों की ट्रेनिंग कराने और एलओसी के रास्ते उन्हें जम्मू-कश्मीर में घुसाने की बात कही जाती है. जम्मू-कश्मीर के डीजीपी एसपी वैद्य के मुताबिक सुरक्षा एजेंसियों को आतंकियों की बातचीत रिकॉर्ड करने में सफलता मिली है और सारे इशारे जैश की ही तरफ हैं.

पाक पर हो सकता है बड़ा हमला

भारतीय सेना के मुताबिक आतंकियों के पास से असॉल्ट राइफल, यूबीजीएल और ग्रेनेड्स बरामद हुए हैं. हालांकि पाकिस्तान आतंकियों को पनाह देने की बात को हमेशा से नकारता रहा है. पाकिस्तान का दावा है कि वह केवल ‘आत्मनिर्णय के अधिकार’ के लिए संघर्ष कर रहे कश्मीर के लोगों को अपना कूटनीतिक और नैतिक समर्थन देता है.

बहरहाल ये तो तय है कि अगले कुछ ही दिनों में बड़ी खबर आने की उम्मीद है. पाकिस्तान का डर जायज है और उसकी चेतावनी का कोई असर नहीं होगा. उरी हमले के बाद भी उसने भारत को अपने परमाणु हथियारों का डर दिखाने की कोशिश की थी, मगर उसकी एक नहीं चली. परमाणु युद्ध करने की पाकिस्तान सोच भी नहीं सकता, क्योंकि भारत के पास भी परमाणु मिसाइलें तैयार हैं. लिहाजा इस बार बड़ा एक्शन होगा और पाकिस्तान को बड़ा सबक सिखाया जाएगा.


यदि आप भी जनता को जागरूक करने में अपना योगदान देना चाहते हैं तो इसे फेसबुक पर शेयर जरूर करें. जितना ज्यादा शेयर होगी, जनता उतनी ही ज्यादा जागरूक होगी. आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं.


सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल

हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें

फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments

2016 DD Bharti |