Home > ख़बरें > मोदी की बड़ी सफलता, अमेरिका में हुई पाकिस्तान की जमकर धुलाई, मुँह दिखाने लायक ना रहे नवाज

मोदी की बड़ी सफलता, अमेरिका में हुई पाकिस्तान की जमकर धुलाई, मुँह दिखाने लायक ना रहे नवाज

nawaz-sharif-modi-trump

नई दिल्ली : पाकिस्तान की असलियत पूरी दुनिया के सामने लाने की पीएम मोदी की कोशिशें रंग लानी शुरू हो चुकी हैं. दुनियाभर के देशों को समझ आ चुका है कि दुनिया में कहीं भी हुए आतंकी हमलों का कोई ना कोई तार पाकिस्तान से जुड़ा हुआ जरूर होता है. अभी हाल ही में अमेरिका में चर्चा के दौरान पाकिस्तान के शीर्ष राजनयिक साथ जो हुआ, उसके बाद दुनियाभर में पाकिस्तान का मुँह काला हो गया.


अमेरिका में पाकिस्तान की उडी जमकर खिल्ली

दरअसल आतंकवाद को लेकर अमेरिका के वाशिंगटन में में हो रही एक चर्चा के दौरान अमेरिका में पाकिस्तानी राजदूत ऐजाज अहमद चौधरी ने कहा कि पाकिस्तान आतंकवादियों के लिए कोई सुरक्षित पनाहगाह नहीं है, यानि पाकिस्तान आतंकियों को समर्थन नहीं देता है. ये सुनते ही वहां मौजूद सभी लोगों की जोरों से हंसी छूट गयी.

ऐजाज ने ये भी कहा कि कराची के अस्पताल में मरने वाला तालिबानी नेता कभी अफगानिस्तान से बाहर ही नहीं गया. अब यदि वो अफगानिस्तान से बाहर कभी नहीं गया, तो कराची के अस्पताल में वो कैसे पहुंच गया? इतना बड़ा सफ़ेद झूठ सुनते ही वहां मौजूद वाशिंगटन थिंकटैंक के लोगों ने ऐजाज के मुँह पर ठहाके लगाने शुरू कर दिए.

लोगों को खुद पर हँसते हुए देख ऐजाज अहमद चौधरी के चेहरे पर चिड़चिड़ाहट के भाव स्पष्ट उभर आये और उन्होंने पूछा कि इसमें हंसने वाली क्या बात है?

पाकिस्तान में मुल्ला उमर की मौजूदगी के पुख्ता सबूत

अफगानिस्तान, इराक और संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका के राजदूत के रूप में काम कर चुके पूर्व अमेरिकी राजनयिक जाल्मे खलीलजाद ने खुलासा किया कि पाकिस्तान झूठ बोलता है. उन्होंने कहा कि अमेरिका के पास पाकिस्तान में मुल्ला उमर की मौजूदगी के पुख्ता सबूत हैं. उन्होंने कहा कि हमारे पास सबूत हैं कि वो पाकिस्तान में किस जगह रह रहा है, कहां गया इत्यादि. उन्होंने पाकिस्तान के झूठों पर खुलासा करते हुए कहा कि लंबे समय तक यह भी कहा जा रहा था कि ओसामा बिन लादेन कभी अफगानिस्तान से बाहर नहीं गया, लेकिन वो पाकिस्तान में ही रह रहा था.

उन्होंने बताया कि इस बात के पुख्ता सबूत हैं उनके पास कि जब अमेरिका हक्कानी नेटवर्क पर ऑपरेशन चला रहा था, उस वक़्त पाकिस्तान उसकी सहायता करके उसे सुरक्षित स्थान पर ले जा रहा था. अमेरिकी थिंक टैंक की ये चर्चा अटलांटिक काउंसिल के साउथ एशिया सेंटर में हो रही थी.


चर्चा के दौरान ऐजाज अकेले दिखाई पड़े, वहां मौजूद किसी भी व्यक्ति ने उनके सफ़ेद झूठों का समर्थन नहीं किया, उलटा उनकी हंसी उड़ाई. ऐजाज के झूठों पर से जब अमेरिकी राजदूत खलीलजाद ने पर्दा उठाना शुरू किया तो दोनों के बीच की बहस तीखी हो गयी और ऐजाज के दिए झूठे तर्कों की लोगों ने खूब खिल्ली उड़ाई.

खुद पर हंसते हुए लोगों को देख रुआंसे हुए ऐजाज ने पूछा, ‘आप कौन सी पनाहगाहों की बात कर रहे हैं? यदि आप अतीत में जीना चाहते हैं तो वर्तमान को सुलझा नहीं सकते. हक्कानी और तालिबान हमारे दोस्त नहीं हैं. वे हमारे मुखौटा संगठन नहीं हैं. आप किस क्वेटा शूरा की बात कर रहे हैं? कौन सी पेशावर शूरा?’ ये सब सुन लोगों की हंसी छूट पड़ी.

पाकिस्तान में है तालिबान का नेतृत्व

बहरहाल ये चर्चा बिना किसी निष्कर्ष के समाप्त हो गई. टेलिस ने कहा कि पाकिस्तान में आतंक की पनाहगाह अब भी मौजूद हैं और धन और लड़ाकों की भारी आपूर्ति अफगानिस्तान से होती है. उन्होंने साफ़ किया कि तालिबानी सरगना पाकिस्तान में छिपे है.

आप भी देखिये वीडियो और लगाइये ठहाके


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।

सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments