Home > ख़बरें > भारत से खौफ खायी पाक फ़ौज ने उठाया ऐसा शर्मनाक कदम, शर्म से झुक गयीं पाकिस्तानियों की आँखें

भारत से खौफ खायी पाक फ़ौज ने उठाया ऐसा शर्मनाक कदम, शर्म से झुक गयीं पाकिस्तानियों की आँखें

pak-shifting-army-head-quarter

नई दिल्ली : भारत ने पाकिस्तान को बार-बार समझाया कि आतंकी गतिविधियां बंद करे, सीजफायर का उलंघन बंद करे लेकिन बात पाकिस्तान को समझ नहीं आयी. लगातार सीजफायर के उलंघन से त्रस्त होकर भारतीय सेना ने पाकिस्तान पर ऐसा जोरदार हमला किया, जिसमे उसकी कई सैन्य चौकियां ध्वस्त हो गयी, साथ ही कई सैनिक मारे गए सो अलग. भारत से खौफ खायी पाकिस्तानी सेना ने अब एक चौंकाने वाला कदम उठाया है.

भारत से खौफ खाया पाकिस्तान बदल रहा है सेना मुख्यालय

भारत के हमले से घबराई पाक सेना पहले तो पीठ दिखा कर भाग गयी और अब खबर है कि भारतीय सेना से खौफ खायी पाक सेना अपना जनरल हेडक्वॉर्टर रावलपिंडी से हटाकर राजधानी इस्लामाबाद शिफ्ट करने जा रही है. पाक मीडिया ने गुरूवार को इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि पाक फ़ौज इस सिलसिले में निर्माण कार्य शुरू करने के लिए भी लगभग तैयार हो चुकी है.

पाकिस्तानी अखबार ‘डॉन’ की रिपोर्ट के मुताबिक़ पाकिस्तान की पब्लिक अकाउंट्स कमिटी की उपसमिति की एक बैठक के दौरान ‘कैपिटल डिवलपमेंट अथॉरिटी’ के एक अधिकारी ने इसका खुलासा किया. आर्थिक दिक्कतों के कारण तत्कालीन सेना प्रमुख जनरल अशफाक परवेज कयानी के निर्देश पर अक्टूबर 2008 से 2009 के बीच सैना मुख्यालय को शिफ्ट करने की योजना स्थगित कर दी गयी थी.

पीठ दिखा कर भागी पाकिस्तानी सेना

बता दें कि इन दिनों भारत-पाक के बीच तनाव अपने चरम पर है, इसका कारण है कि पाकिस्तान अपनी आतंकी गतिविधियों को कम नहीं कर रहा है और आये दिन सीमा पर गोलीबारी कर देता है. गुरुवार को भी भारत और पाकिस्तान के सुरक्षाबलों के बीच भारी गोलीबारी हुई, जिसमे भारतीय सेना ने पाकिस्तान के 6 जवानों को जहन्नुम पहुंचा दिया.

वहीँ बीएसएफ ने बताया कि 2016 में सीमा पर 130 बार घुसपैठ की कोशिश की गई, जिसमे पाक फ़ौज ने भी आतंकियों का साथ देने के लिए गोलीबारी की. इस साल भी अब तक घुसपैठ की 27 कोशिश की जा चुकी हैं. वहीँ गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने बीएसएफ से सीमा से सटे क्षेत्रों में चौकसी बनाए रखने और हमेशा तत्पर रहने के लिए कहा.

गृहमंत्री राजनाथ सिंह का बड़ा फैसला

जवानों की शहादत पर गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने बड़ा फैसला लेते हुए कहा कि शहीद हुए प्रत्येक जवान के परिवार वालों को मुआवजे के तौर पर एक करोड़ रुपये मिलने चाहिए और यदि ऐसा नहीं हो पा रहा हो तो अर्धसैनिक बलों के सभी महानिदेशक उनसे संपर्क करें.

मोदी सरकार के तेवरों से स्पष्ट है कि पाकिस्तान को अपने रवैय्ये में बदलाव लाना ही होगा वरना भारतीय सेना उसे बारूद से नहलाती ही रहेगी. ईंट का जवाब पत्थर से दिया जा रहा है. पाकिस्तान को जिस भाषा में समझ आये, उसी में समझायेंगे, का पीएम मोदी ने अपना वादा निभाया है.

इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments