Home > ख़बरें > अफगानिस्तान पर हमले के बाद पाकिस्तान के खिलाफ लामबंद हुआ अमेरिका, मोदी ने भी जड़ा तमाचा

अफगानिस्तान पर हमले के बाद पाकिस्तान के खिलाफ लामबंद हुआ अमेरिका, मोदी ने भी जड़ा तमाचा

usa-india-against-pak

नई दिल्ली : आतंकवाद को लेकर दुनिया के कई मुल्कों की आँखें खुलती जा रही हैं और अब दुनियाभर के देश आतंकवाद के खिलाफ खुलकर सामने आ रहे हैं. भारत के साथ-साथ दुनियाभर के कई देशों में आतंक फैलाने वाले पाकिस्तान को अंतर्राष्ट्रीय मंच पर अमेरिका और भारत दोनों ही से बड़ा झटका लगा है.


अमेरिका ने माना पाकिस्तान को दुश्मन देश

बताया जा रहा है कि सबसे पहला झटका उसे अमेरिका से लगा है. अमेरिका ने पाकिस्तान को सबसे बड़ी चेतावनी दे दी है. अमेरिका का थिंक टैंक मानी जाने वाली संस्था “द सेंटर फॉर स्ट्रैटेजिक एंड इंटरनेशनल स्टडीज” यानी CSIS ने पाकिस्तान को अमेरिका के लिए दोस्त से ज्यादा खतरा बताया है. संस्था ने पाकिस्तान को आतंक का गढ़ कहते हुए अपनी एक रिपोर्ट में कहा है कि पाकिस्तान आज भी तालिबान और हक्कानी नेटवर्क की पनाहगाह बना हुआ है.

इसी के साथ संस्था ने ट्रंप प्रशासन को सलाह देते हुए कहा है कि यदि पाकिस्तान तालिबान की सहायता करना बंद नहीं करता तो उस पर प्रतिबन्ध लगाया जाए और उसे दी जाने वाली आर्थिक सहायता ख़त्म की जाए. डोनाल्ड ट्रंप ने तो अमेरिका के राष्ट्रपति बनने से पहले ही पाकिस्तान को चेतावनी दी थी कि पाकिस्तान को आतंकवाद का फल भुगतना पडेगा. ऐसे में अमेरिकी थिंक टैंक की इस रिपोर्ट का ट्रंप की विदेश नीति पर सकारात्मक असर पड़ सकता है, जिससे पाकिस्तान के लिए मुश्किलें खड़ी हो सकती हैं.


अंतर्राष्ट्रीय मंच पर पाकिस्तान की अंतर्राष्ट्रीय बेइज्जती

वहीँ पीएम मोदी ने भी अंतर्राष्ट्रीय मंच पर पाकिस्तान को नंगा करने का फैसला लिया है. शंघाई को-ऑपरेशन ऑर्गनाइजेशन यानी SCO की मीटिंग 12-13 जून को कजाकिस्तान की राजधानी अस्ताना में होने जा रही है. भारत की ओर से इस बैठक में पीएम मोदी और पाकिस्तान की ओर से पाक पीएम नवाज शरीफ हिस्सा लेंगे. ख़बरों के मुताबिक़ अस्ताना में हो रही इस बैठक में भारत की ओर से आतंकी देश पाकिस्तान का बायकाट किया जाएगा.

पीएम मोदी पाक पीएम नवाज शरीफ से किसी तरह की मुलाकात नहीं करेंगे. जिससे दुनिया को साफ़ सन्देश जाएगा कि पाकिस्तान को उसके आतंकवाद के लिए ही दरकिनार किया जा रहा है. भारत की ओर से पाकिस्तान को अंतर्राष्ट्रीय मंच पर अलग-थलग करने के लिए ऐसा किया जा रहा है. भारत का कहना है कि जबतक पाकिस्तान भारत के खिलाफ साजिश और नापाक हरकतें बंद नहीं करता तब तक भारत पाकिस्तान के साथ किसी भी सूरत में अपने रिश्ते को सामान्य नहीं कर सकता. भारत का साफ कहना है कि आतंकवाद और बातचीत दोनों साथ-साथ नहीं चल सकते.

अमेरिका और भारत द्वारा पाकिस्तान के खिलाफ आतंकवाद का मुद्दा उठाये जाने से अंतर्राष्ट्रीय मीडिया में पाकिस्तान की थू-थू शुरू हो गयी है. बताया जा रहा है कि कई अन्य देश भी पाकिस्तान को बायकाट कर सकते हैं.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।

सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments