Home > ख़बरें > अाक्सीजन सप्लाई करने वाली एजेंसी को लेकर हुआ ऐसा सनसनीखेज खुलासा, थर-थर काँपे अखिलेश !

अाक्सीजन सप्लाई करने वाली एजेंसी को लेकर हुआ ऐसा सनसनीखेज खुलासा, थर-थर काँपे अखिलेश !

pushpa-sales-gorakhpur-tragedy

लखनऊ : गोरखपुर में हुए हादसे की जांच तेजी से चल रही है. डॉक्टरों के बाद अब ऑक्सीज़न सप्लाई करने वाली कंपनी को लेकर बेहद चौंकाने वाले खुलासे हो रहे हैं, जिन्हे देख आप एक बारगी यकीन तक नहीं कर पाएंगे. खुलासा हुआ है कि पैसे ना मिलने के कारण गोरखपुर के बीआरडी कॉलेज में ऑक्सीजन की आपूर्ति बंद करने वाली कंपनी का ये कोई पहला गैरजिम्मेदाराना रवैया नहीं है बल्कि इससे पहले भी ये कंपनी कई बार मरीजों की जिंदगी के साथ खिलवाड़ कर चुकी है.

मोटरसाइकिल बेचती थी पुष्पा सेल्स !

खुलासा हुआ है कि पुष्पा सेल्स का मालिक आज से कई साल पहले तक लखनऊ के आलमबाग में मोटरसाइकिल बेचने वाली एक एजेंसी चलाता था. अखिलेश यादव और सपा के कई नेताओं के साथ करीबी रिश्तों के चलते मोटरसाइकिल बेचने वाली इस एजेंसी “पुष्पा सेल्स” को मेडिकल क्षेत्र में बिना किसी पिछले अनुभव के बावजूद सरकारी अस्पतालों को ऑक्सीजन सप्लाई करने का ठेका दे दिया गया.

2014 में अखिलेश सरकार द्वारा पुष्पा सेल्स को सरकारी अस्पतालों को ऑक्सीजन सप्लाई करने के लिए 8 साल का ठेका दे दिया गया. मोटरसाइकिल बेचने वाला अब अस्पतालों में ऑक्सीज़न बेचने लगा. पुष्पा सेल्स को ठेका दिए जाने के बाद से ही इस एजेंसी के खिलाफ लगातार शिकायतें आने लगी.

कानपुर के हृदय रोग संस्थान की ओर से की गयी थी शिकायत

सबसे पहले शिकायत कानपुर के हृदय रोग संस्थान की ओर से की गयी, जहाँ इस मोटरसाइकिल बेचने वाली एजेंसी ने ऑक्सीजन की पाइपलाइन लगाईं थी. लेकिन इस एजेंसी द्वारा लगाई पाइप लाइन से आईसीयू में ऑक्सीजन की बजाए पानी पहुंचने लगा. शिकायतें की गयी लेकिन एजेंसी ने कोई ध्यान नहीं दिया.


14 जुलाई 2014 को कानपुर के हृदय रोग संस्थान के निदेशक ने पुष्पा सेल्स को एक चिट्ठी भेजकर शिकायत की थी, चिट्ठी में कहा गया था कि, “आपकी एजेंसी ने संस्थान में ऑक्सीजन की पाइपलाइन स्थापित की थी और आपको 5 साल की वारंटी का भुगतान भी किया गया था, लेकिन अत्यंत खेद है कि कम्प्रेस्ड एयर की पाइपलाइन में पानी आ रहा है और आपका लगाया हुआ ड्रायर भी ठीक से काम नहीं कर रहा है.”

ऑक्सीज़न की जगह पाइपलाइन से पानी आने के कारण ये पानी पाइपलाइन के जरिये ऑपरेशन थियेटर (ओटी) और आईसीयू के वेंटीलेटर्स में जाने लगा. इसके कारण अस्पताल का एक वेंटीलेटर तक खराब हो गया. हृदय रोग संस्थान के निदेशक ने अपने पत्र में चेतावनी देते हुए लिखा कि आपसे पहले भी दो बार शिकायत की जा चुकी है लेकिन आपने ड्रायर नहीं बदला. यदि अब भी आपने समाधान में देर की तो आपके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी, जिसकी पूरी जिम्मेदारी आपकी होगी.”

बच्चों के डॉक्टर केपी कुशवाहा ने भी की थी शिकायत

बाल रोग विभाग के अध्यक्ष केपी कुशवाहा ने भी 20 जून 2014 को पुष्पा सेल्स को शिकायती पत्र लिखा था, जिसमे कहा गया कि 100 बिस्तरों वाले मस्तिष्क ज्वर विभाग में आपके द्वारा लगाए गए ऑक्सीजन पाइप लाइन के कम्प्रेसर, एयर वैक्यूम व इमरजेंसी रेगुलेटर ठीक से काम नहीं कर रहे हैं. यहां नवजात बच्चों के लिए चौबीसों घंटे ऑक्सीजन की जरूरत होती है. ऐसे में यदि कोई हादसा होता है तो सारी जिम्मेदारी आपकी होगी.

अखिलेश व् सपा नेताओं के साथ करीबी के कारण पुष्पा सेल्स फर्म के मालिक ने इन डाक्टरों की शिकायत के बावजूद अपनी मनमानी की. इस एजेंसी के खिलाफ जब-जब कोई कार्रवाई करने की कोशिश की गयी, इसके मालिक ने अखिलेश सरकार के किसी न किसी बड़े मंत्री से फोन करा कर मामले को रफादफा करा दिया. यही वजह है कि आजतक इस अनुभवहीन और गैरजिम्मेदार एजेंसी के खिलाफ आजतक कोई एक्शन नहीं लिया जा सका.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments