Home > ख़बरें > यूपी से आयी अब तक की सबसे बड़ी खबर से राजनीति में आया भूचाल, अखिलेश, राहुल के छूटे पसीने

यूपी से आयी अब तक की सबसे बड़ी खबर से राजनीति में आया भूचाल, अखिलेश, राहुल के छूटे पसीने

modi-nitish-up-election

नई दिल्ली : पिछले काफी वक़्त से अटकलें लगाई जा रही थी कि बिहार के मुख्‍यमंत्री और जेडीयू अध्‍यक्ष नीतीश कुमार ने एक बार फिर बीजेपी से हाथ मिला लिया है. कहा जा रहा था कि नीतीश कुमार एक बार फिर पीएम मोदी के साथ मिलकर काम करेंगे. अभी-अभी आयी मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक़ ये बात सौ फ़ीसदी सच है. इस खबर से यूपी की राजनीति में भूचाल आ गया है, क्योंकि अभी तक लग रहा था कि बीजेपी अकेली लड़ रही है और बीजेपी के वोट काटने के लिए नितीश महागठबंधन का साथ देंगे लेकिन यहां तो सारा माजरा ही उलटा पड़ गया.


नितीश चाहते हैं यूपी में मोदी सरकार

बताया जा रहा है कि नीतीश कुमार ने बीजेपी के साथ हाथ मिला लिया है और इसी के चलते उन्‍होंने उत्‍तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में ना तो अपनी पार्टी के उम्‍मीदवारों को चुनाव मैदान में उतारा और ना ही वो प्रचार कर रहे हैं. इस रिपोर्ट में बताया गया है कि जेडीयू के ही एक स्‍थानीय नेता ने इस बात का खुलासा किया है कि ये सब कुछ बीजेपी को फायदा पहुंचाने के लिए ही किया गया. इस रिपोर्ट के मुताबिक उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव में बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार एक बार भी प्रचार के लिए नहीं गए और ना ही उन्होंने चुनाव में एक भी उम्मीदवार उतारा ताकि बीजेपी के वोट ना बंट जाएँ.


जेडीयू के कुछ नेताओं ने नाम ना छापने की शर्त पर इस बात का खुलासा किया कि नितीश और लालू के बीच सब ठीक नहीं है. बिहार के सियासी गलियारों में भी जोर-शोर से चर्चा चल रही है कि नीतीश कुमार और जेडीयू के यूपी विधानसभा चुनाव से दूर रहने का पूरा फायदा बीजेपी को ही मिलेगा. कहा जा रहा है कि यूपी में कुर्मी समुदाय बीजेपी के पक्ष में है और बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार का ताल्‍लुक भी कुर्मी समुदाय से हैं. ऐसे में यदि नितीश प्रचार में उतरते या अपने उम्मीदवार खड़े करते इसका नुकसान बीजेपी को उठाना पड़ता.

खतरे में है महागठबंधन

इस बात की अटकलें भी शुरू हो गयीं हैं कि बीजेपी यूपी चुनाव को लेकर कोई रिस्‍क नहीं लेना चाहती थी इसीलिए उसने गुपचुप तरीके से जेडीयू के साथ समझौता कर लिया. फिलहाल इस खबर पर बीजेपी के नेता भी बयान जारी करने से कतरा रहे हैं. लेकिन, जानकारों के मुताबिक़ पिछले काफी दिनों से बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने पीएम मोदी और बीजेपी को लेकर साफ्ट कॉर्नर अपनाया हुआ है. उससे भी उनकी बीजेपी के साथ निकटता साफ़ झलकती है और साफ़ दिखाई दे रहा है कि बिहार का महागठबंधन खतरे में है.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।

सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments