Home > ख़बरें > ब्रेकिंग – नितीश और लालू के बीच खिंची तलवारें, कांग्रेस की भी आयी शामत, बिहार की राजनीति में हड़कंप

ब्रेकिंग – नितीश और लालू के बीच खिंची तलवारें, कांग्रेस की भी आयी शामत, बिहार की राजनीति में हड़कंप

nitish-lalu-war

नई दिल्ली : वो कहावत है ना कि मुसीबत में साया भी साथ छोड़ देता है, कुछ ऐसा ही हो रहा है लालू यादव के साथ भी. बेनामी संपत्ति और चारा घोटाला के मामलों में फंसते जा रहे लालू को अब हकीकत दिखाई देनी शुरू हो गयी है. बिहार की राजनीति में लालू व् नीतीश में तलवारें खिचती दिखाई दे रही हैं और दोनों ही ओर से जुबानी जंग शुरू हो गयी है.

नितीश और लालू के बीच खिंची तलवारें

दरअसल नीतीश कुमार ने राष्ट्रपति चुनाव में एनडीए उम्मीदवार रामनाथ कोविंद का समर्थन करने का ऐलान कर दिया. जिसके बाद लालू की सभी आशाओं पर पानी फिर गया और लालू यादव ने नितीश के फैसले को गलत बताते हुए कह दिया कि नितीश कुमार के इस फैसले से गलत संदेश जाएगा और वो नीतीश से इस बारे में सवाल जरूर पूछेंगे. लालू ने नितीश के इस फैसले को उनकी सबसे ऐतिहासिक भूल तक बता दिया.

फिर भला नितीश कहाँ पीछे रहने वाले थे, उन्होंने भी पलटवार कर दिया. पलटवार करते हुए नितीश कुमार ने कहा कि यदि कोई कहता है कि हम राजनीतिक भूल कर रहे हैं, तो करने दीजिए, हमें छोड़ दीजिए. जिसके बाद लालू ने यहां तक कह दिया कि नितीश तो संघ मुक्त भारत की बात करते थे, क्या उन बातों का?

लालू और कांग्रेस पर नितीश का हमला

लालू ने आगे कहा कि नितीश कुमार को जगजीवन राम की बेटी मीरा कुमार का समर्थन करना चाहिए. लेकिन लालू की मिट्टी पलीद तब हो गयी जब नितीश कुमार ने लालू के घर में ही लालू व् कांग्रेस को खरी-खोटी सुना दी. लालू प्रसाद के घर इफ्तार में शामिल होने आए नितीश ने मीरा कुमार को राष्ट्रपति उम्मीदवार बनाये जाने के फैसले पर ऊँगली उठाते हुए दो टूक कह दिया कि मीरा कुमार को हराने के लिए ही विपक्ष की ओर से उम्मीदवार बनाया गया है, जबकि अंजाम सभी को पता है.


कांग्रेस पर निशाना साधते हुए नितीश ने कहा कि कांग्रेस के पास जब बहुमत था, तब तो उन्हें बिहार की बेटी की याद नहीं आयी, उस वक़्त क्यों बिहार की बेटी को उम्मीदवार नहीं बनाया? नितीश कुमार के बदले तेवरों को देख लग रहा है कि वो महागठबंधन को लेकर भी कोई बड़ा फैसला ले सकते हैं. नितीश और लालू के बीच चल रहे घमासान के बीच बिहार में महागठबंधन की टूट दिखाई देनी शुरू हो गयी है.

बीजेपी के साथ नितीश की बढ़ती गुटर-गूँ

कुछ वक्त पहले एक-दूसरे से नजरें चुराने वाले नितीश व् पीएम मोदी के बीच दोस्ती भी बढ़ती जा रही है, इसी के कारण ही नितीश कुमार सोनिया गांधी के भोज में नहीं गए थे और सोनिया के भोज के एक दिन बाद ही पीएम मोदी के निमंत्रण पर उनके साथ मोरीशस के पीएम के साथ लंच में शामिल हुए थे. नितीश की परेशानी की एक वजह लालू परिवार पर लग रहे भ्रष्टाचार के आरोप भी हैं, जिनके कारण बिहार की जनता के मन में नितीश के लिए विश्वास कम होता जा रहा है.

कहते हैं कि राजनीति में कोई भी स्थायी दुश्मन या दोस्त नहीं होता इसलिए कहीं राष्ट्रपति चुनाव के तुरंत बाद ही बिहार में एक बार फिर से नितीश कुमार के नेतृत्व में एनडीए की सरकार बने तो आश्चर्यचकित नहीं होना चाहिए.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments