Home > ख़बरें > बड़ा ख़ुलासा- नेहरू-एडविना का अफ़ेयर था पर शारीरिक संबंध नहीं, क्योंकि नेहरू नपुंसक थे. एडविना के पोते का दावा

बड़ा ख़ुलासा- नेहरू-एडविना का अफ़ेयर था पर शारीरिक संबंध नहीं, क्योंकि नेहरू नपुंसक थे. एडविना के पोते का दावा

nehru-edwina

नई दिल्ली : भारत में भ्रष्टाचार के मामलों में नाम आने के बाद से देश में शर्मिंदगी झेल रही कांग्रेस को अब एक और बड़ा झटका लगा है. आजादी के बाद भारत के पहले प्रधानमन्त्री जवाहरलाल नेहरू और लेडी एडविना माउंटबेटन के संबंधों को लेकर एक बड़ा खुलासा हुआ है.


यूँ तो इससे पहले भी नेहरू और एडविना के कथित लव-अफ़ेयर पर काफी ख़बरें आती रही हैं. मीडिया और इतिहासकारों ने इस पर काफी कुछ लिखा है. लेकिन पिछले कुछ वर्षों में लेडी एडविना के परिवार के लोगों ने भी दोनों के संबंधों को लेकर नए-नए दावे किये हैं.

2012 में एडविना की बेटी पामेला ने अपनी ऑटोबायोग्राफ़ी में अपनी माँ और नेहरू के संबंधों का ज़िक्र किया था और अब पामेला के बेटे यानि एडविना के पोते एश्ले हिक्स ने दोनों के संबंधों को लेकर एक ऐसा खुलासा किया जिसके बाद कांग्रेस पार्टी में हलचल बढ़ गयी हैं.

एश्ले हिक्स ने अपने दावा किया है कि उनकी दादी का और पंडित नेहरू का आपस में प्रेम संबंध था, लेकिन दोनों के बीच शारीरिक संबंध नहीं थे. एश्ले का दावा है कि इसका कारण नेहरू का नपुंसक होना था.


द टेलीग्राफ़ में छपे एक लेख के मुताबिक़ हिक्स ने दावा किया है कि उनकी दादी एडविना और भारत के पहले प्रधानमन्त्री जवाहर लाल नेहरू का आपस में प्रेम संबंध तो था लेकिन दोनों के बीच शारीरिक संबंध नहीं थे. इसके पीछे एश्ले ने जो वजह बतायी वो तो और भी ज्यादा हैरान करने वाली है. एश्ले के मुताबिक़ दोनों के बीच शारीरिक संबंध इसलिए नहीं बने थे क्योंकि नेहरू नपुंसक थे.

उन्होंने बताया कि दोनों के सम्बन्ध रोमैंटिक तो थे लेकिन नेहरू, एडविना से मिलने से पहले से ही नपुंसक थे. यही वजह है कि दोनों के बीच कभी शारीरिक सम्बन्ध नहीं बने. उनके इस बयान से भारत में सियासी बवाल हो गया है. कांग्रेस पार्टी के लिए ये बड़ी शर्मिंदगी का कारण बन गया है.

आपको बता दें कि इससे पहले एश्ले हिक्स की मां पामेला माउंटबेटन ने भी अपनी ऑटोबायोग्राफी में इस बात का जिक्र करते हुए लिखा था कि उनकी माँ और नेहरू के बीच प्रेम संबंध थे. हालांकि पामेला ने अपनी किताब में नेहरू को नपुंसक ना ठहराते हुए लिखा था कि दोनों के बीच शारीरिक सम्बन्ध इसलिए नहीं बने थे क्योंकि दोनों ही बड़ी राजनीतिक हस्तियां थी और उन्हें कभी प्राइवेट वक़्त ही नहीं मिला.

इससे पहले भी नेहरू को भारत-चीन युद्ध में भारत की हार के लिए जिम्मेदार ठहराया जाता रहा है. विपक्ष के नेताओं के मुताबिक़ नेहरू यदि सही फैसले लेते तो भारत युद्ध जीत जाता. और अब एडविना के पोते ने बयान देकर नेहरू पर एक नए विवाद को जन्म दे दिया है.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments