Home > ख़बरें > अभी-अभी : पीएम मोदी को मिली बड़ी कूटनीतिक जीत, सर झुका कर नवाज शरीफ ने कबूल की हार

अभी-अभी : पीएम मोदी को मिली बड़ी कूटनीतिक जीत, सर झुका कर नवाज शरीफ ने कबूल की हार

modi-nawaj

नई दिल्ली : कुलभूषण जाधव मामले को मोदी सरकार अंतर्राष्ट्रीय अदालत में ले गयी थी. अंतर्राष्ट्रीय अदालत ने भारत के पक्ष में फैसला सुनाते हुए जाधव की फांसी पर रोक भी लगा दी थी. हालांकि पाकिस्तान अड़ गया था कि वो अंतर्राष्ट्रीय अदालत के फैसले को नहीं मानेगा, जिसके बाद अमेरिका की और से कहा गया था कि यदि पाकिस्तान वियना संधि का उलंघन करता है और अंतर्राष्ट्रीय अदालत के आदेश को नहीं मानता है तो उसका दाना-पानी बंद कर दिया जाएगा. खबर है कि अब पाकिस्तान ने इस मामले में हार मान ली है.

नवाज शरीफ ने कहा- मैं हार गया, मोदी से नहीं जीत सकता

खबर आयी है कि नवाज शरीफ ने हार मानते हुए कहा है कि जाधव का मामला उनके हाथ में नहीं है बल्कि अंतर्राष्ट्रीय अदालत के हाथ में है और वो भारत से नहीं जीत सकते हैं. इस मामले में अब नवाज सरकार और पाक सेना के बीच ही ठन गयी है क्योंकि पाक फ़ौज जाधव को फांसी देने के अपने फैसले पर अड़ी हुई है. वहीँ नवाज सरकार और विपक्ष के बीच में भी घमासान छिड़ गया है.

पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी के चीफ इमरान खान ने जाधव मामले पर नवाज के ऊपर निशाना साधते हुए कहा है कि नवाज भारत सरकार के साथ मिले हुए हैं और भारत की और से खेल रहे हैं. अंतर्राष्ट्रीय अदालत में पाकिस्तान की शर्मनाक हार पर उन्होंने कहा कि ये नवाज शरीफ की फिक्सिंग है. इमरान ने कहा कि पनामा पेपर लीक मामले में नवाज के खिलाफ जांच कर रही ज्वाइंट इन्वेस्टिगेशन टीम को नवाज के भारत में बिजनेस इंट्रेस्ट्स की भी जांच करनी चाहिए.

गौरतलब है कि पाकिस्तान ने पिछले साल ईरान से जाधव का अपहरण करके उसपर रॉ का जासूस होने का आरोप लगाया था और पाक मिलिट्री कोर्ट ने इसी साल मार्च में जाधव को फांसी की सजा सुना दी थी. इस पर अंतर्राष्ट्रीय अदालत ने फिलहाल रोक लगा दी है, जिससे पाकिस्तान की सारी दुनिया के सामने बड़ी बेइज्जती हुई है और अब इस हार की जिम्मेदारी को नवाज के मत्थे मढ़ने की कोशिश की जा रही है.

हार नहीं पचा पा रहा पाकिस्तान

एक पाकिस्तानी न्यूज चैनल से बातचीत के दौरान इमरान ने कहा कि नरेंद्र मोदी ने जब भारत के प्रधानमंत्री पद की शपथ ली थी तब उन्होंने नवाज शरीफ को भी उस कार्यक्रम में बुलाया था. शरीफ मोदी से तो मिले लेकिन कश्मीरी हुर्रियत के अलगाववादी नेताओं से नहीं मिलने गए.


इमरान ने कहा कि नवाज ने मामला पहले भी फिक्स किया हुआ था और अब भी फिक्स किया हुआ है. केस हारने के बाद अब शरीफ कह रहे हैं कि जाधव का मामला पाकिस्तान के हाथ में नहीं है बल्कि अंतर्राष्ट्रीय अदालत के हाथ में है और वो भारत से नहीं जीत सकते. इमरान ने कहा कि नवाज शरीफ पहला राउंड तो हार ही चुके हैं. उन्होंने कहा कि जाधव की सजा पर रोक तो उसी वक़्त लग गई थी, जब भारतीय कारोबारी सज्जन जिंदल उनसे मिलने आए थे.

पाकिस्तान के अखबार “द डॉन” में छपी खबर के मुताबिक़, इमरान ने शरीफ पर आरोप लगाते हुए कहा कि पनामा मामले की जांच कर रही जेआईटी को ये जांच भी करनी चाहिए कि आखिर नवाज शरीफ के भारत में क्या बिजनेस इंट्रेस्ट्स हैं. नवाज शरीफ पाकिस्तानी जनता की कमाई को ठीक उसी तरह से लूट रहे हैं, जैसे कभी ईस्ट इंडिया कंपनी ने लूटा था.

इमरान खान की पार्टी ‘पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ’ यानी पीटीआई के नेता शफकत महमूद ने पिछले गुरुवार को नवाज पर हमला बोलते हुए कहा कि इंडियन स्टील किंग सज्जन जिंदल से नवाज शरीफ ने क्या बात की? उनके बीच क्या सीक्रेट डील हुई? नवाज संसद में आकर सच्चाई का खुलासा करें.

महमूद ने पूछा कि नवाज सरकार ने ऐसा वकील क्यों हायर किया जो ब्रिटेन में रहता है और कतर में मौजूद लंदन क्वींस काउंसल की वकालत करता है और जिसने कभी अंतर्राष्ट्रीय अदालत का मुंह तक नहीं देखा था. इसका सीधा सा मतलब है कि जिंदल और शरीफ के बीच कोई सीक्रेट डील हुई थी.

विपक्ष में एक अन्य लीडर शिरीन मजारी ने कहा, कि पाकिस्तान को अंतर्राष्ट्रीय अदालत में मुँह की खानी पड़ी इसमें उन्हें कोई हैरानी नहीं हुई. नवाज सरकार ने जानबूझकर वही किया, जो भारत चाहता था. इस खेल की शुरुआत उसी वक़्त हो गई थी, जब सज्जन जिंदल नवाज से मिलने पाकिस्तान आए थे. सच तो ये है कि पाकिस्तान की लीगल टीम, दरअसल भारत की मदद करने के लिए ही गई थी.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments