Home > ख़बरें > भारतीय नेवी ने लिया मोदी सरकार से पंगा, उठाया ऐसा कदम, गुस्से से भड़के गडकरी ने लगाई अक्ल ठिकाने

भारतीय नेवी ने लिया मोदी सरकार से पंगा, उठाया ऐसा कदम, गुस्से से भड़के गडकरी ने लगाई अक्ल ठिकाने

indian-navy-nitin-gadkari

नई दिल्ली : भारतीय नौसेना और मोदी सरकार के बीच भी कुछ ठन गयी है. दरअसल मोदी सरकार में किसी भी तरह नाजायज फायदे किसी को दिए नहीं जा रहे, जिसकी मांग नौसेना के कुछ अधिकारी कर रहे हैं, इसी बात पर केंद्रीय सड़क और परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने नौसेना के ऐसे अधिकारियों को खूब खरी-खोटी सुना दी है.


नौसेना पर बरसे नितिन गडकरी

केंद्रीय सड़क और परिवहन मंत्री नितिन गडकरी गुरुवार को भारतीय नौसेना पर जमकर बरसे. गडकरी ने कहा ”मुझे आश्चर्य होता है कि नौसेना के अधिकारी दक्षिण मुंबई में ही रहना क्यों चाहते हैं”. उन्होंने कहा कि ”मैं साउथ मुंबई में नेवी को फ्लैट बनाने के लिए एक इंच भी जमीन नहीं दूंगा.”

पॉश इलाके में रहना चाहते हैं नेवी के अधिकारी

दरअसल साउथ मुंबई बेहद पॉश इलाका है, जहाँ बेहद अमीर लोग ही रह सकते हैं. नौसेना के अधिकारी शायद यहाँ सी-फेसिंग फ्लैट में रहने के इच्छुक ज्यादा हैं, लिहाजा वो नितिन गडकरी के घर जमीन की मांग करने पहुंच गए. मगर नितिन गडकरी ने साफ़ इंकार करके उन्हें बैरंग वापस लौटा दिया. केवल इतना ही नहीं नौसेना के कुछ अधिकारी मोदी सरकार के विकास कार्यों में भी अड़ंगा लगा रहे हैं. किसके इशारे पर वो ऐसा कर रहे हैं, ये हालांकि अभी साफ़ नहीं है.

मुंबई के एक कार्यक्रम में नौसेना पर बरसते हुए उन्होंने कहा, ”दरअसल, सीमावर्ती इलाकों में नौसेना की जरूरत है, जहां से आतंकवादी आते हैं. हर किसी को नौसेना में दक्षिण मुंबई में ही क्यों रहना है? वे (नौसेना) मेरे पास आए थे, जमीन के लिए पूछ रहे थे. मैं एक इंच जमीन नहीं दूंगा. कृपया मेरे पास फिर से मत आना.”


गडकरी ने कहा, ”नौसेना को मालाबार हिल्स में क्या करना है? उनका काम बॉर्डर पर सुरक्षा करना है. नौसेना के अधिकारी दक्षिणी मुंबई में अपने लिए क्वॉर्टर चाहते हैं. मैं उन्हें बहुत ज्यादा तवज्जो नहीं देने वाला. पॉश दक्षिणी मुंबई में नौसेना को क्वॉर्टर बनाने के लिए जमीन नहीं मिलने दूंगा. इसके साथ ही उन्होंने कहा नौसेना के कुछ वरिष्ठ अधिकारी मुंबई में रह सकते हैं.”

विकास कार्यों में अड़ंगा लगाने के लिए भी लगाई फटकार

मुंबई के मालाबार हिल्स में एक होटल की तरफ से पुल (जेटी) के निर्माण कार्य को रोकने के लिए नेवी के प्रयासों से भी गडकरी काफी नाराज नजर आये. गडकरी ने कहा, “भारतीय नेवी की आदत विकास कार्यों में अड़ंगा लगाते रहने की हो गई है. मैंने सुना है कि नौसेना ने हाई कोर्ट की मंजूरी मिलने के बावजूद, मालाबार हिल में तैरते जेटी योजना पर स्टे लगा दिया है.”

दरअसल पर्यटन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से एक प्राइवेट फर्म रश्मि डिवेलपमेंट प्राइवेट लिमिटेड अरब सागर से सटे अपने फाइव स्टार होटल से समंदर तक के लिए यात्रियों को फेरी से सैर कराने के लिए एक छोटे सेतु जैसी चीज बनाना चाहती है. मगर नौसेना के वेस्टर्न कमांड ने सुरक्षा कारणों से इसकी अनुमति नहीं दी.

जिसके कारण सुप्रीम कोर्ट ने इस फर्म के मालाबार हिल्स में निर्माण कार्य पर रोक लगा दी है. इससे भी भड़के गडकरी ने नौसेना को खुली चुनौती देते हुए कहा कि फेरी और सेतु के निर्माण से सुरक्षा को कोई खतरा नहीं है.


पीएम नरेंद्र मोदी से जुडी सभी खबरें व्हाट्सएप पर पाने के लिए 783 818 6121 पर Start लिख कर भेजें.

यदि आप भी जनता को जागरूक करने में अपना योगदान देना चाहते हैं तो इसे फेसबुक पर शेयर जरूर करें. जितना ज्यादा शेयर होगी, जनता उतनी ही ज्यादा जागरूक होगी. आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं.


सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें

फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments