Home > ख़बरें > यूपी चुनाव नतीजों से जुडी सबसे बड़ी खबर आयी सामने, अखिलेश, राहुल के साथ मायावती के भी होश गुल

यूपी चुनाव नतीजों से जुडी सबसे बड़ी खबर आयी सामने, अखिलेश, राहुल के साथ मायावती के भी होश गुल

modi-mayawati-akhilesh

लखनऊ : प्रचंड मोदी लहर के चलते बीजेपी ने यूपी को फतह कर लिया है, वो भी भारी बहुमत के साथ. बीजेपी यूपी की सबसे बड़ी पार्टी बनके उभरी है. कांग्रेस के साथ गठबंधन में उत्तरी समाजवादी पार्टी को करारी हार का मुह देखना पड़ा है. यूपी चुनाव में बीजेपी की बड़ी जीत से पस्त विरोधियों को सबसे बड़ा झटका ये खबर सुनकर लगा है.

मुसलमान भी चाहते हैं विकास !

खबर आयी है कि सपा और बसपा जिस वोटबैंक पर भरोसा करके चुनाव लड़ रहे थे उसी वोटबैंक ने उन्हें दगा देकर पीएम मोदी के विकास के मुद्दे को अपना लिया है. पीएम मोदी के “सबका साथ, सबका विकास” के नारे पर मुसलमानों ने अपनी मुहर लगा दी है. यूपी में तकरीबन 100 ऐसी सीटें हैं जहां मुस्लिम मतदाता निर्णायक भूमिका में हैं. मुसलमानों के मन में बीजेपी के प्रति डर बैठाया गया. मुसलमानों को लुभाने के लिए सपा और बसपा की ओर से जमकर मुस्लिम मतदाताओं को टिकट भी बांटे गए थे.

सपा और बसपा को उम्मीद थी कि मुस्लिम वोट तो उन्हें आसानी से हासिल हो जाएंगे. लेकिन इसके ठीक उलट 100 सीटों में से 73 सीटों पर बीजेपी आगे चल रही है, यानी मुसलमानों ने भी पीएम मोदी के विकास के मुद्दे से प्रभावित होकर जाती-धर्म से ऊपर उठकर बीजेपी के पक्ष में वोट डाले हैं. मायावती ने तो इस बारे में बाकायदा बयान जारी करके वोटिंग मशीन के हैक होने का दावा तक कर दिया है क्योंकि उन्हें यकीन ही नहीं हो रहा है कि मुस्लिम बहुल इलाकों में उनके मुस्लिम कैडिडेट हार गए और बीजेपी के हिन्दू कैंडिडेट जीत गए.

मायावती को छोड़ दलित भी आये मोदी के साथ !

सिर्फ मुसलमान ही नहीं, बल्कि दलित और यादव मतदाताओं को भी वोटबैंक मानकर प्रचार किया गया था. सपा हमेशा से ही यादवों को अपना वोटबैंक मानती आयी है, वहीँ मायावती खुद को दलितों का सबसे बड़ा हमदर्द साबित करती आयी हैं लेकिन इतिहास गवाह रहा है कि इन दोनों ही पार्टियों ने यादवों और दलितों का कुछ ख़ास भला नहीं किया. जिसके बाद इस बार दलितों और यादवों ने भी पीएम मोदी के विकास के मुद्दे पर वोट डाले हैं.

यूपी में 100 सीटें ऐसी हैं जहां दलित मतदाता निर्णायक भूमिका में हैं. इन 100 सीटों में से 64 सीटों पर बीजेपी आगे चल रही है. इसे देख मायावती सन्न रह गयीं हैं. वहीँ पीएम मोदी के जबरदस्त प्रचार का परिणाम भी साफ़ दिखाई देने लगा है. चुनावो के परिणाम उन नेताओं के लिए सबक हैं कि देश की राजनीति बदल रही है. देश की जनता जागरूक हो रही है. जाती-धर्म और सम्प्रदाय के नाम पर राजनीति अब और इस देश में नहीं चलेगी. इसलिए सत्ता में रहना है तो देश की सुरक्षा और विकास की ओर ध्यान तो देना ही पडेगा. यूपी की जनता ने वोटबैंक की राजनीति से ऊपर उठकर मतदान करते हुए इतिहास रच दिया है.

इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments