Home > ख़बरें > फूट पड़ा मां का ‘दर्द’, उत्तर प्रदेश में अब कोई नहीं बचा सकता अखिलेश यादव की नैय्या ?

फूट पड़ा मां का ‘दर्द’, उत्तर प्रदेश में अब कोई नहीं बचा सकता अखिलेश यादव की नैय्या ?

akhilesh-sadhna-yadav

नई दिल्ली : उत्तर प्रदेश में चुनाव प्रचार थम चुका है. अंतिम चरण के मतदान कल होने को हैं. लेकिन उससे ठीक पहले अखिलेश यादव के लिए एक ऐसी खबर आ गयी है जिससे अंतिम चरण के मतदान में उन्हें भारी नुक्सान हो सकता है. मुलायम सिंह यादव की दूसरी पत्‍नी और अखिलेश यादव की सौतेली मां साधना यादव ने सपा में चल रही पारिवारिक कलह पर बड़ा बयान दिया है.


अखिलेश की मां ने बयां किया अपना ‘दर्द’ !

साधना यादव का कहना है कि उन्होंने काफी वक़्त तक अपमान सहन किया है लेकिन अब वो और ज्यादा चुप नहीं रह सकती. उन्होंने अपनी चुप्पी तोड़ते हुए कहा कि अब कलह बर्दाश्त के बाहर हो गयी है. उन्होंने कहा कि वो नहीं जानती कि अखिलेश को किसने बहका दिया है.

साधना यादव ने राजनीति में खुद आगे आने के संकेत भी दिए. उन्होंने कहा कि वो चाहती हैं कि उनके बेटे प्रतीक यादव भी अब राजनीति में आगे आएं. फिलहाल प्रतीक यादव राजनीति में सक्रिय नहीं हैं मगर उनकी पत्नी अपर्णा यादव सपा के टिकट पर चुनाव लड़ रही हैं.


अभी हाल ही में खुद मुलायम सिंह यादव ने उनके लिए चुनाव प्रचार किया था उर वोट मांगे थे. साधना यादव के आक्रामक तेवर देख कर ये साफ़ है कि आगे के वक़्त में सपा में काफी खींचतान देखने को मिल सकती है. पार्टी के दो टुकड़े भी हो सकते हैं.

गुमराह हो गए हैं अखिलेश !

साधना यादव ने साफ़ शब्दों में कहा कि अखिलेश यादव को परिवार के खिलाफ किसी ने गुमराह किया है. उन्होंने शिवपाल यादव का समर्थन करते हुए कहा कि इस पूरे विवाद में शिवपाल यादव की कोई गलती नहीं है. साधना यादव के इस इंटरव्यू के बाद माना जा रहा है कि वो अब खुद राजनीति में उतर कर पार्टी की कमान अपने हाथ में ले सकती हैं या अपनी एक अन्य पार्टी भी बना सकती हैं.

साधना यादव के इस बयान का असर यूपी के अंतिम चरण में पड़ सकता है और अखिलेश यादव पर भारी पड़ सकता है. साधना यादव ने बताया कि पार्टी में मुलायम सिंह को किनारे किये जाने से भी उन्हें बहुत दुःख पहुचा है. उनके मुताबिक़ मुलायम सिंह पार्टी का चेहरा रहे हैं इसलिए इस तरह से उनका अनादर नहीं किया जाना चाहिए. उनके मुताबिक़ मुलायम सिंह यादव के साथ-साथ शिवपाल यादव का भी इसमें कोई दोष नहीं है यानी दूसरे शब्दों में माना जाए तो उनके मुताबिक़ सारा दोष अखिलेश यादव का ही है.


इस न्यूज़ को अपने मित्रों के साथ शेयर करना न भूलें। आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं।
सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें


फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments