Home > ख़बरें > ब्रेकिंग -सुप्रीम कोर्ट के तुग़लकी फरमान के बाद मध्यप्रदेश सरकार ने किया बेहद चौंकाने वाला एलान

ब्रेकिंग -सुप्रीम कोर्ट के तुग़लकी फरमान के बाद मध्यप्रदेश सरकार ने किया बेहद चौंकाने वाला एलान

नई दिल्ली : इस बार सुप्रीम कोर्ट ने ग़ज़ब की फुर्ती से फैसला सुना दिया है. दही हांड़ी, जल्ली कट्टु, होली में पानी की बर्बादी तो अब दिवाली में पटाखों पर बैन. जिसके बाद वामपंथीयों में ज़बरदस्त ख़ुशी की लहर दौड़ पड़ी है. लेकिन इस फैसले के बाद तो जैसे लोगों का गुस्सा बुरी तरह फट पड़ा है. जिसके बाद लोगों ने सोशल मीडिया पर सुप्रीम कोर्ट को जी भर के गालियां दे रहे हैं. उनका कहना है क्रिसमस पर नए साल पर जमकर आतिशबाजी होती है पूरे 199 देशों में पटाखे फोड़े जाते हैं. लेकिन तब कोई प्रतिबन्ध नहीं लगाया जाता. इस बीच मध्यप्रदेश से पटाखों पर पाबंदी को लेकर बड़ी चौंकाने वाली खबर आ रही है.


सुप्रीम कोर्ट के तुग़लकी फरमान के बाद मध्यप्रदेश सरकार ने किया बेहद चौंकाने वाला एलान

अभी मिल रही खबर अनुसार सुप्रीम कोर्ट के पटाखों पर बैन लगाने वाले तुग़लकी फरमान के बाद मध्यप्रदेश सरकार आगे आयी है. भले ही दिल्ली और एनसीआर में पटाखों की बिक्री पर रोक लगा दी गयी हो. लेकिन मध्य प्रदेश सरकार ने एलान किया है कि उनकी ओर से राज्य में लोगों को पटाखे छोड़ने की पूरी आजादी दी गई है. इसके साथ-साथ मायूस दिल्ली वालों को भी मध्यप्रदेश में दिवाली मनाने का आमंत्रण भी दिया गया है.

सुप्रीम कोर्ट के जज को दिखाया ठेंगा, दिया हिन्दुओं का साथ

इस खबर की पुष्टि खुद मध्य प्रदेश सरकार के गृहमंत्री ने ट्वीट कर करी है. गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह ने सोमवार को लिखा है कि मध्य प्रदेश में लोगों को दीवाली पर पटाखे जलाने की पूरी आजादी है. उमंग के साथ दीवाली मनाइए, दिल्ली के मित्रों को भी आमंत्रित कीजिए. एक अन्य ट्वीट में सिंह ने लिखा कि उमंग, आवेग, उत्साह, जोश, सहित प्रफुल्लता से दीवाली मनाएं, मध्यप्रदेश सरकार पूरे वर्ष पर्यावरण संरक्षण के लिए काम करती है, किसी एक दिन नहीं .


लोगों ने कहा गर्व है आप पर हमें

गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह के इस बेबाक ट्वीट की लोगों ने जमकर तारीफ करी है. लोगों ने लिखा चलो कोई तो है जो हमारे पक्ष में खड़ा है और हमें त्यौहार मानाने की आज़ादी दे रहा है. तो कई लोगों ने लिखा ये है अतुल्य भारत का ज़बरदस्त उदहारण. हमें आप जैसे गृहमंत्री पर गर्व है.

हज़ारों करोड़ रुपया डूब गया

सुप्रीम कोर्ट के बिना सोचे समझे दिए इस फैसले से व्यापारी वर्ग बहुत ज़्यादा नाखुश है. इस फैसले से उनका करीब हज़ार करोड़ रुपया डूब गया है. उनमें इस बात का गुस्सा है कि जब बेचने की इजाज़त ही नहीं देना था तो लाइसेंस क्यों दिया. व्यापारियों ने तीन दिन पहले ही लाखों करोड़ का माल खरीद के रख लिया है वो कह रहे हैं अब उनके नुक्सान की भरपाई क्या सुप्रीम कोर्ट करेगा. हैरानी की सबसे बड़ी बात तो ये है कि उमर अब्दुल्ला तक को भी व्यापारियों के दुखों की चिंता है लेकिन सुप्रीम कोर्ट मुँह में दही जमाये बैठा है.

हिन्दुओं को अंदर तक झकझोर दिया इस फैसले ने

आपको बता दें 9 अक्टूबर को ही सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाया था कि दिल्ली और एनसीआर में इस बार प्रदूषण बहुत फैल रहा है, इसलिए पटाखों की बिक्री पर पूरी तरह प्रतिबन्ध लगा दिय गया है लेकिन सिर्फ एक नवंबर तक. केवल हिन्दुओं के त्योहारों के खिलाफ इस फैसले ने पूरे देश को झकझोर के रख दिया था. सबसे बड़ा सवाल ये है कि ये रोक क्यों केवल दिवाली के लिए ही लगाई गयी है. वो भी सिर्फ एक नवंबर तक ही. मतलब नए साल पर और क्रिसमस पर जो पटाखे फोड़े जाते हैं वो प्रदुषण नहीं करते हैं.

जानवरों की कटाई से भी होता है प्रदुषण

आपको बता दें संयुक्त राष्ट्र संघ की एक रिपोर्ट मुताबिक गोमांस जलवायु के लिए सबसे ज़्यादा खतरनाक होता है, बीफ के लिए पाले गए पशु मीथेन का उत्सर्जन ज्यादा करते हैं. इसके अलावा कत्लखानों में जल प्रदूषण भी होता है. ऐसी व् कारों से भी सबसे ज्यादा प्रदूषण होता है लेकिन सभी वामपंथी हिन्दुओं के त्योहारों पर जाग जाते हैं और हैरानी की बात है कि कोर्ट भी इन्ही लोगों का साथ देता है.


यदि आप भी जनता को जागरूक करने में अपना योगदान देना चाहते हैं तो इसे फेसबुक पर शेयर जरूर करें. जितना ज्यादा शेयर होगी, जनता उतनी ही ज्यादा जागरूक होगी. आपकी सुविधा के लिए शेयर बटन्स नीचे दिए गए हैं.

सब्सक्राइब करें हमारा यू-ट्यूब चैनल


हिंदी न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें

फेसबुक पेज लाइक करें

loading...

Comments